लाइव टीवी

सेना के शक्ति प्रदर्शन से डरा चीन, अरुणाचल में युद्धाभ्यास का किया विरोध

News18Hindi
Updated: October 5, 2019, 11:10 PM IST
सेना के शक्ति प्रदर्शन से डरा चीन, अरुणाचल में युद्धाभ्यास का किया विरोध
एयरफोर्स का Mi-17 1V सफलतापूर्वक एक लाइट फील्ड गन को एक जगह से उठाकर दूसरी जगह पर ले जा सकता है (फोटो क्रेडिट: MOD)

भारतीय सेना (Indian Army) अपने सबसे बड़े पर्वतीय युद्धक अभ्यास (Mountain Combat Exercise) के दौरान इस समय अरुणाचल प्रदेश में अभ्यास कर रही है. यह युद्ध अभ्यास इसी महीने होने वाली भारतीय पीएम मोदी (PM Modi) और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच होने वाली मुलाकात से पहले हो रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2019, 11:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय सेना (Indian Army) अपने सबसे बड़े पर्वतीय युद्धक अभ्यास (Mountain Combat Exercise) के दौरान इस समय अरुणाचल प्रदेश में अभ्यास कर रही है. यह युद्ध अभ्यास इसी महीने होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच होने वाली मुलाकात से पहले हो रहा है. सूत्रों के अनुसार इस युद्धाभ्यास से चीन (China) की बेचैनी बढ़ गई है, जो कि अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के एक बड़े हिस्से के दक्षिणी तिब्बत (South Tibet) का हिस्सा होने का दावा करता रहा है.

'हिम विजय' अपनी तरह का पहला ऐसा युद्धाभ्यास (Combat Exercise) है, जिसे भारतीय सेना उत्तरपूर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में कर रही है. इस युद्धाभ्यास में तीन सेनाएं शामिल हैं.

चीनी सीमा से मात्र 100 किमी की दूरी पर भारतीय सेना कर रही है युद्धाभ्यास
'हिम विजय' युद्धाभ्यास में शामिल हर ग्रुप में 4000 सैनिक हैं. ये सारे ही सैनिक युद्ध का अभ्यास 14,000 फीट की ऊंचाई पर कर रहे हैं. जहां यह युद्धाभ्यास चल रहा है, वह जगह चीन के साथ भारतीय सीमा यानि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) से मात्र 100 किमी दूर है.

ऊपरी अरुणाचल प्रदेश के तवांग के पास इस युद्धाभ्यास को कई चरणों में किया जा रहा है. फिलहाल यह युद्धाभ्यास 25 अक्टूबर तक चलेगा. यह युद्धाभ्यास ऐसे समय में किया जा रहा है जब इसी महीने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) से मुलाकात होती है. शी के इसी महीने भारतीय प्रधानमंत्री के साथ अपनी दूसरी अनौपचारिक मुलाकात के लिए भारत आ रहे हैं. आशा है कि दोनों नेता महाबलीपुरम में मिलेंगे.

भारतीय विदेश सचिव से मुलाकात में चीनी उप विदेश मंत्री ने जताई चिंता
चीन के उप विदेश मंत्री लू झाओहुई जो कि दिल्ली में राष्ट्रपति शी की यात्रा की तैयारियों की व्यवस्था की देखरेख कर रहे हैं, कथित तौर पर उन्होंने इस मामले को गुरुवार को भारतीय विदेश सचिव विजय गोखले के साथ इस मसले को उठाया.
Loading...

फिलहाल शी जिनपिंग (Xi Jinping) के भारतीय दौरे की तारीख की अभी घोषणा नहीं की गई है. उनकी यात्रा भारत और चीन के संबंधों में कश्मीर के चलते आ गई दरारों के बीच हो रही है, बता दें कि चीन ने इस मसले पर अपने प्रिय मित्र पाकिस्तान का समर्थन किया था. चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने पिछले हफ्ते कश्मीर मुद्दे को UNGA में भी उठाया था.

पीएम मोदी की अरुणाचल यात्रा पर भी सवाल उठा चुका है चीन
बहरहाल, भारत की ओर से चलाए जा रहे युद्धाभ्यास में नए बनाए गए इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप (IBGs) की क्षमताओं को भी परखा जा रहा है. यह भारत की तीनों सेनाओं की संयुक्त टुकड़ी है, जो आपसी सहयोग के लिए बनाई गई है. हिम विजय में सैन्य टुकड़ियों को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने, पहाड़ों पर लड़ाई और हवा में युद्ध जैसी गतिविधियों का अभ्यास किया जाएगा.

फरवरी में भी चीन ने पीएम मोदी का अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) की यात्रा पर सवाल उठाए थे. यहां पर पीएम मोदी विकास कार्यों का उद्घाटन करने के लिए आए हुए थे.

यह भी पढ़ें: पापड़ी चाट, बादशाही पुलाव और मालपुआ..जानिए हसीना के खाने में और क्या है शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 7:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...