किसान आंदोलन: SC में सुनवाई से पहले अमित शाह ने दिया इनकम बढ़ाने का भरोसा, जिद पर अड़े किसान

अमित शाह (फ़ाइल फोटो)

Farmer Protest: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने रविवार को कहा कि किसान केंद्र के नये कृषि कानूनों के खिलाफ ‘मई 2024 तक’ प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन (Farmer Protest) लगातार जारी है. हर किसी को सरकार और किसानों के बीच कल होने वाली दसवें राउंड की बातचीत का इंतज़ार है. उससे पहले आज सुप्रीम कोर्ट दिल्ली पुलिस की अर्जी पर सुनवाई करेगा. दिल्ली पुलिस ने अपनी याचिका में 26 जनवरी को किसानों के ट्रैक्टर मार्च पर रोक लगाने की मांग की है. इस बीच गृहमंत्री मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर से दोहराया है कि नए कृषि कानून से किसानों की आय बढ़ेगी. लेकिन किसान अपनी ज़िद पर अड़े हैं.

    अमित शाह ने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है. तीनों कृषि कानून किसानों की आय को कई गुना बढ़ाने में मदद करेंगे. अब किसान देश और दुनिया में कहीं भी कृषि उत्पाद बेच सकते हैं.'

    मई 2024 तक’ प्रदर्शन करने के लिए तैयार
    भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने रविवार को कहा कि किसान केंद्र के नये कृषि कानूनों के खिलाफ ‘मई 2024 तक’ प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं. नागपुर में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा कि वे न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी चाहते हैं.कृषि कानूनों के खिलाफ किसान 26 नवंबर, 2020 से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं. उनकी मांग है कि तीनों नये कानूनों को वापस लिया जाए जिन्हें केंद्र ने कृषि क्षेत्र में बड़ा सुधार बताया है. किसानों ने आशंका जताई है कि नये कानून एमएसपी के सुरक्षा घेरे को समाप्त करने और मंडी प्रणाली को बंद करने का रास्ता साफ करेंगे.



    ये भी पढ़ें:- फारूक अब्दुल्ला बोले- मैं अपनी बीवी को 'किस' करने से डरता हूं, VIDEO वायरल

    कृषि मंत्री को नतीजे की उम्मीद
    केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को आंदोलनरत किसान संगठनों से कहा कि वे एक आपसी अनौपचारिक समूह बनाकर तीनों कृषि कानूनों पर यदि कोई ठोस मसौदा सरकार के समक्ष पेश करते हैं तो वो 'खुले मन' से उसपर चर्चा करने को तैयार है. उन्होंने कहा कि सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से नौवें दौर की वार्ता 'सौहार्दपूर्ण माहौल' में हुई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका. हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि 19 जनवरी को होने वाली अगले दौर की बैठक में किसी निर्णय पर पहुंचा जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.