अपना शहर चुनें

States

कांग्रेस के स्तंभ थे अहमद पटेल, मुश्किल दौर में पार्टी के साथ खड़े रहे: राहुल गांधी

गांधी परिवार के साथ अहमद पटेल का जुड़ाव करीब 04 दशकों का रहा.
गांधी परिवार के साथ अहमद पटेल का जुड़ाव करीब 04 दशकों का रहा.

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने कहा, ‘निशब्द.. जिन्हें हर छोटा बड़ा, दोस्त, साथी..विरोधी भी...एक ही नाम से सम्मान देते थे- ‘अहमद भाई’!. उसके अलावा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी दुख जताया है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 25, 2020, 10:22 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmad Patel) नहीं रहे. उनके निधन पर देश के बड़े राजनेताओं ने दुख जताया है. इसी क्रम में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पटेल को याद किया. उन्होंने पटेल को पार्टी की बड़ी पूंजी बताया. राहुल के अलावा पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने भी कांग्रेस नेता के निधन पर दुख जताया है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के निधन पर दुख प्रकट करते हुए बुधवार को कहा कि पटेल एक ऐसे स्तंभ थे जो सबसे मुश्किल दौर में भी पार्टी के साथ खड़े रहे. प्रियंका गांधी वाद्रा ने दुख जताते हुए कहा कि पटेल की कांग्रेस के प्रति प्रतिबद्धता और सेवा असीमित थी. राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘यह दुख का दिन है. श्री अहमद पटेल कांग्रेस पार्टी के स्तंभ थे. उन्होंने कांग्रेस को जिया और सबसे मुश्किल दौरे में पार्टी के साथ खड़े रहे. वह बहुत बड़ी पूंजी थे.’






उन्होंने कहा, ‘हम उनकी कमी महसूस करेंगे. फैसल, मुमताज और परिवार के प्रति मेरा स्नेह और संवेदना है.’ प्रियंका ने ट्वीट किया, ‘अहमद पटेल जी के पूरे परिवार खासकर मुमताज और फैसल के प्रति मेरी गहरी संवेदना है. कांग्रेस पार्टी के प्रति आपके पिता की सेवा और प्रतिबद्धता असीमित थी. हम सभी उनकी कमी बहुत महसूस करेंगे.’उन्होंने कहा, ‘मैं कामना करती हूं कि आप लोगों को यह दुख सहन करने की शक्ति मिले.’

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘निशब्द.. जिन्हें हर छोटा बड़ा, दोस्त, साथी..विरोधी भी...एक ही नाम से सम्मान देते थे- ‘अहमद भाई’! वो जिन्होंने सदा निष्ठा व कर्तव्य निभाया, वो जिन्होंने सदा पार्टी को ही परिवार माना, वो जिन्होंने सदा राजनीतिक लकीरें मिटा दिलों पर छाप छोड़ी,अब भी विश्वास नहीं..अलविदा अहमद जी.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज