पैसों की किल्लत से जूझती कांग्रेस ने नेताओं के खर्च पर चलाई कैंची

न्यूज़18 इंडिया के पास मौजूद दस्तावेज में कांग्रेस पदाधिकारियों से कहा गया है कि कैंटीन, स्टेशनरी, बिजली, न्यूजपेपर्स, पेट्रोल-डीज़ल जैसे खर्च को कम किया जाए.

News18Hindi
Updated: October 11, 2018, 8:52 PM IST
पैसों की किल्लत से जूझती कांग्रेस ने नेताओं के खर्च पर चलाई कैंची
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: October 11, 2018, 8:52 PM IST
नीरज कुमार

फंड की कमी से जूझती कांग्रेस ने अपने नेताओं के लिए कम खर्च करने के लिए दिशानिर्देश जारी किया है. इसके तहत ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के नेताओं को बिजली बिल, अखबार, कैंटीन, गाड़ी का खर्च, यात्रा किराये से लेकर कई खर्चों में कमी करनी होगी.

न्यूज़18 इंडिया के पास मौजूद दस्तावेज में कांग्रेस पदाधिकारियों से कहा गया है कि कैंटीन, स्टेशनरी, बिजली, न्यूजपेपर्स, पेट्रोल-डीज़ल जैसे खर्च को कम किया जाए. महासचिव/प्रभारियों, फ्रंटल संगठनों के प्रमुख, विभिन्न विभागों के प्रमुखों से कहा गया है कि वे स्टाफ में से एक सदस्य को अधिकृत करें जो जरूरत की चीजों के लिए हस्ताक्षर करें.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस के आरोप पर गडकरी ने दी सफाई, कहा- राहुल को कबसे मराठी समझ आने लगी

कांग्रेस पदाधिकारियों को लिखे पत्र में कहा गया है कि उनकी गैरमौजूदगी में बिजली के उपकरणों को बंद रखा जाए. इसके अलावा पार्टी पदाधिकारियों को स्टाफ के लिए मौजूद गाड़ियों पर भी नजर रखने का दिशानिर्देश दिया गया है ताकि फिजूल का खर्च न हो.

राज्यों के कांग्रेस के प्रभारी सचिवों से कहा गया है कि महीने में वे 15 से 20 दिनों तक अपने संबंधित राज्य में रहें और राज्य में ही अपने कामकाज का मुख्यालय बनाएं. हालांकि दिल्ली में कांग्रेस कार्यालय में यात्रा के दौरान सचिवों को कामकाज के लिए जगह मुहैया कराई जाएगी.

इसके अलावा 1400 किलोमीटर तक की यात्रा के लिए सचिवों को हवाई जहाज़ नहीं बल्कि सिर्फ ट्रेन किराया ही मिलेगा. 1400 किलोमीटर से अधिक के सफर पर हवाई जहाज़ का किराया मिलेगा वह भी महीने में सिर्फ दो बार ही. हालांकि अगर , वायु जहाज़ के किराये से अधिक हो तो सचिव हवाई जहाज से सफर कर सकते हैं.
Loading...
संसद की सदस्यता रखने वाले कांग्रेस के महासचिवों से यात्रा भत्ते की मांग न करने का अनुरोध किया गया है. कांग्रेस ने हाल ही में नेताओं को फंड जुटाने के लिए एक पत्र भी लिखा गया था. ऐसे में नए दिशानिर्देश से साफ है कि चुनावी साल में कांग्रेस नेताओं को वोट जुटाने के लिए कम खर्च में ही गुजारा करना होगा.

ये भी पढ़ें- #MeToo: कांग्रेस ने की मांग- यौन उत्पीड़न के आरोपों पर जवाब या फिर इस्तीफा दें अकबर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर