• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना पर बोले एम्‍स प्रमुख- भारत की बढ़ रही 'आर वैल्‍यू' चिंता का विषय: रिपोर्ट

कोरोना पर बोले एम्‍स प्रमुख- भारत की बढ़ रही 'आर वैल्‍यू' चिंता का विषय: रिपोर्ट

देश में कई जगहों पर कोरोना वायरस की स्थिति चिंताजनक है. (File pic)

देश में कई जगहों पर कोरोना वायरस की स्थिति चिंताजनक है. (File pic)

Coronavirus: डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि 0.96 से शुरू हुई आर वैल्‍यू अब 1 से अधिक हो गई है. आर वैल्‍यू का बढ़ना चिंता का कारण है. देश के जिन हिस्‍सों में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ रहा है, वहां इसके नियंत्रण के लिए सख्‍त कदम उठाए जाने चाहिए.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) की स्थिति अब भी चिंताजनक है. कुछ स्‍थानों पर लगातार कोरोना (Covid 19) केस बढ़ रहे हैं. इस बीच कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए दिल्‍ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (AIIMS) के डायरेक्‍टर डॉ. रणदीप गुलेरिया (Randeep Guleria) का कहना है कि भारत की आर वैल्‍यू (R Value) लगातार बढ़ रही है और यह चिंता बढ़ने का कारण भी है. उनका कहना है कि देश के जिन हिस्‍सों में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ रहा है, वहां इसके नियंत्रण के लिए सख्‍त कदम उठाए जाने चाहिए.

    एम्‍स के डायरेक्‍टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने एनडीटीवी से कहा, ‘0.96 से शुरू हुई आर वैल्‍यू अब 1 से अधिक हो गई है. आर वैल्‍यू का बढ़ना चिंता का कारण है. इसको ऐसे समझ सकते हैं कि जब किसी एक संक्रमित व्‍यक्ति से यह संक्रमण दूसरे व्‍यक्ति में फैलता है. जिन क्षेत्रों में यह संक्रमण बढ़ रहा है वहां सख्‍ती करनी चाहिए. साथ ही संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए टेस्‍ट, ट्रैक और ट्रीट की रणनीति अपनानी चाहिए.’ आर फैक्‍टर को कोरोना संक्रमण के बढ़ने की संख्‍या का सूचकांक कहा जाता है.

    शुक्रवार को देश में कोरोना संक्रमण के 44,230 नए मामले सामने आए थे. यह पिछले तीन हफ्तों में सर्वाधिक बढ़ोतरी है. इन नए मामलों में सर्वाधिक मामले केरल और कुछ नॉर्थ ईस्‍ट के राज्‍यों में हैं. शनिवार को सरकार की ओर से बताया गया है कि देश के 46 शहरों में कोरोना की पॉजिटिविटी दर 10 फीसदी से अधिक है.

    इस हफ्ते अमेरिकी की हेल्‍थ अथॉरिटी सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोन एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट वायरस के अन्य सभी वेरिएंट की तुलना में अधिक गंभीर बीमारी का कारण हो सकता है और चिकनपॉक्स के रूप में आसानी से फैल सकता है.

    इसे समझाते हुए डॉ गुलेरिया ने कहा, ‘खसरा या चिकन पॉक्स में 8 या उससे अधिक की आर वैल्‍यू होती थी, जिसका मतलब है कि एक व्यक्ति आठ अन्य को संक्रमित कर सकता है. इससे पता चलता है कि कोरोना वायरस अत्यधिक संक्रामक है. हमने देखा कि भारत में दूसरी लहर के दौरान पूरे परिवार संक्रमित हो रहे थे. यह चिकन पॉक्स के साथ भी होता है. इसी तरह जब एक व्यक्ति डेल्टा वेरिएंट से प्रभावित होता है, तो पूरा परिवार असुरक्षित हो जाता है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज