अब घर बैठे रख सकेंगे मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल, 10 अक्टूबर को MiHOPE पोर्टल लॉन्च करेगा AIIMS

फाइल फोटो
फाइल फोटो

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) के अवसर पर MiHope नाम से एक पोर्टल लॉन्च करने जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 8:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) एक पोर्टल लॉन्च करने जा रहा है, जिसके जरिए घर बैठे ही मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health Portal) से जुड़ी समस्याओं का इलाज मिल सकेगा. AIIMS के मनोचिकित्सा विभाग द्वारा बनाया गया पोर्टल 10 तारीख को लॉन्च होगा और 11 तारीख से अपना काम करना शुरू कर देगा. इस बाबत रविवार यानी 4 अक्टूबर को एम्स ने ऐलान किया. इसके साथ ही एम्स के मनोचिकित्सा विभाग ने मेंटल हेल्थ फाउंडेशन के साथ मिलकर एक ऑनलाइन सम्मेलन भी शुरू किया.

सम्मेलन के पहले दिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने एक वीडियो संदेश भेजकर कहा कि 10 अक्टूबर को वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे है. हमारा लक्ष्य है इसके प्रति हम लोगों में जागरुकता फैला सकें. इस सम्मेलन में मानसिक स्वास्थ्य के इलाज में पेशेवरों की कमी और इसके के मरीज की देखभाल जैसी समस्याओं को ध्यान में रखकर मौजूदा बाधाओं का समाधान निकालने की कोशिश की जाएगी. इस पोर्टल का नाम MiHOPE होगा. इसका उद्देश्य कोविड के दौरान मानसिक बीमारी के मामलों पर ध्यान देना होगा.

इन चीजों में सहायक होगा MiHOPE पोर्टल
बताया गया कि यह पोर्टल लोगों को मानसिक तनाव से संबंधित दिक्कतों को दूर करने और डाइट, योग, मेडिटेशन और अन्य जीवन शैली में परिवर्तन के जरिए भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने में मदद करने के लिए है.
एम्स के मनोचिकित्सा विभाग के प्रोफेसर डॉ. नंद कुमार कहा कि महामारी के खराब अनुभव के चलते कई लोग खराब मानसिक स्वास्थ्य का शिकार हुए.  विश्व भर में कोविड-19 की स्थिति  मानसिक स्वास्थ्य के बढ़ते मुद्दों का बड़ा कारक रही.  महामारी के दौरान चिंता, थकान, निराशा की भावना, आत्महत्या की प्रवृत्ति जैसी समस्याएं जन्म ले रहीं थीं. इस दौरान सामान्य इलाज के साथ-साथ मानसिक समस्याओं के इलाज पर भी असर पड़ा.




एम्स में मनोरोग विभाग के प्रमुख डॉ. राजेश सागर ने कहा, 'मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए विभिन्न स्तरों पर बहुत प्रयास किए जा रहे हैं ताकि संकट में पड़े लोग अपने मुद्दों पर बात कर सकें.  हम महामारी के शुरुआती दिनों से अपने रोगियों को टेलीमेडिसिन की सुविधा दे रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज