बाबरी मस्जिद थी और हमेशा मस्जिद ही रहेगी, दिल तोड़ने की जरूरत नहीं: AIMPLB

बाबरी मस्जिद थी और हमेशा मस्जिद ही रहेगी, दिल तोड़ने की जरूरत नहीं: AIMPLB
एआईएमपीएलबी ने ट्वीट में दी प्रतिक्रिया. (File Pic)

Ram Mandir Bhoomi pujan: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने मंगलवार को ट्वीट में कहा, 'बाबरी मस्जिद थी और हमेशा एक मस्जिद रहेगी. हागिया सोफिया हमारे लिए एक बेहतरीन उदाहरण है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 1:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. अयोध्या में राम मंदिर के लिए बुधवार को भूमिपूजन हुआ. वहीं इससे पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने मंगलवार को कहा कि बाबरी मस्जिद हमेशा से मस्जिद थी और रहेगी. तुर्की में हागिया सोफिया का उदाहरण देते हुए एआईएमपीएलबी ने ट्वीट कर कहा कि भूमि का अनाधिकारिक तौर पर ग्रहण किया गया. फैसले को बहुमत की अपील कहा गया.

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने मंगलवार को ट्वीट में कहा, 'बाबरी मस्जिद थी और हमेशा एक मस्जिद रहेगी. हागिया सोफिया हमारे लिए एक बेहतरीन उदाहरण है. अन्यायपूर्ण, दमनकारी, शर्मनाक और बहुसंख्यक तुष्टिकरण फैसले द्वारा भूमि का अनाधिकारिक तौर पर ग्रहण इसे बदल नहीं सकता है. दिल तोड़ने की जरूरत नहीं है. स्थिति हमेशा के लिए नहीं रहती है. यह राजनीति है.'


इसके अलावा एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने भी एक ट्वीट किया. उन्‍होंने इसमें कहा कि बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी. इंशाल्‍लाह.



सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि मामले में अपने फैसले में कहा था कि विवादित भूमि के पूरे 2.77 एकड़ हिस्‍से को भगवान रामलला को सौंप दिया जाना चाहिए, जो तीन मुकदमों में से एक थे. पांच न्यायाधीशों वाली संविधान पीठ ने केंद्र को मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ का भूखंड आवंटित करने का भी निर्देश दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज