लाइव टीवी

ममता के अल्पसंख्यक वाले बयान पर असदुद्दीन ओवैसी का पलटवार, कहा- डर गई हैं दीदी

News18Hindi
Updated: November 19, 2019, 2:00 PM IST
ममता के अल्पसंख्यक वाले बयान पर असदुद्दीन ओवैसी का पलटवार, कहा- डर गई हैं दीदी
असदुद्दीन ओवैसी

ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) का नाम लिए बिना कहा था कि हैदराबाद की एक राजनीतिक पार्टी बीजेपी से पैसा लेकर अल्पसंख्यकों में कट्टरता फैलाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 2:00 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) और एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के बीच ठन गई है. ममता के 'अल्पसंख्यक कट्टरता' वाले बयान के बाद ओवैसी ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि दीदी हैदराबाद में रहने वाले मुट्ठी भर लोगों से डर गई हैं. दरअसल ममता ने सोमवार को टीएमसी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में 'अल्पसंख्यक कट्टरता' (Minority Extremism) का जिक्र किया और लोगों को इससे सावधान रहने का निर्देश दिया था. उन्होंने ओवैसी का नाम लिए बिना कहा था कि हैदराबाद की एक राजनीतिक पार्टी बीजेपी से पैसा लेकर अल्पसंख्यकों में कट्टरता फैलाती है.

ओवैसी का पलटवार
वहीं असदुद्दीन ओवैसी ने ममता के बयान का करारा जवाब देते हुए कहा, 'ये धार्मिक कट्टरता नहीं है कि किसी भी अल्पसंख्यकों में बंगाल के मुसलमानों का मानव विकास सूचकांक में सबसे खराब हालत है. अगर दीदी हैदराबाद में रहने वाले मुट्ठी भर लोगों से परेशान हैं तो वो ये बताये कि लोकसभा सीट में बीजेपी ने कैसे 42 में से 18 सीटें जीत ली.'

ममता का आरोप

बता दें कि ममता बनर्जी ने सोमवार को कूचबिहार में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में कहा, 'मैं देख रही हूं कि अल्पसंख्यकों के बीच कई कट्टरपंथी मौजूद हैं. इनका ठिकाना हैदराबाद में है. आप लोग इन पर ध्यान मत दीजिए. एक ऐसी राजनीतिक पार्टी है जो बीजेपी से पैसा ले रही है. वो हैदराबाद से है न कि पश्चिम बंगाल से'.

मंदिर में ममता
खास बात ये है कि ममता ने बैठक के बाद कूचबिहार में मदनमोहन मंदिर जाकर पूजा अर्चना की. इसके बाद वह राजबाड़ी ग्राउंड में आयोजित रास मेला में भी शामिल हुईं. बता दें कि एक हफ्ते पहले इस मंदिर में कूचबिहार से बीजेपी के सांसद नीतीश परमानिक भी पूजा करने पहुंचे थे.ममता की राजनीतिक चाल!
राजनीतिक जानकारों का कहना है कि अल्पसंख्यकों को लेकर उनका बयान और फिर उनका मंदिर जाना यह दिखाता है कि वो अब हिंदू वोटरों को अपने पाले में लाना चाहती हैं. इसके अलावा कूचबिहार में उनका निशाना बंगाली और राजबंसी वोटरों पर भी है.

ये भी पढ़ें- दाऊद के गुर्गे इकबाल मिर्ची के फ्लैट्स नहीं हुए नीलाम, जानिए वजह

बाजार में बिक रही है कैंसर की बीमारी से जुड़ी नकली दवाएं, मुश्किल में लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 1:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर