वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया का अगले सप्ताह फ्रांस की यात्रा का कार्यक्रम

आरकेएस भदौरिया अगले सप्‍ताह फ्रांस जाएंगे. (तस्वीर -ANI)

आरकेएस भदौरिया अगले सप्‍ताह फ्रांस जाएंगे. (तस्वीर -ANI)

भारतीय वायुसेना प्रमुख दोनों देशों की वायु सेनाओं के बीच सहयोग का विस्तार करने के तरीकों को लेकर फ्रांसीसी वायुसेना के चीफ ऑफ स्टाफ फिलिप लेविनी के साथ व्यापक बातचीत करेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया तीन दिवसीय यात्रा पर मंगलवार को फ्रांस के लिए रवाना होने वाले हैं. जिस दौरान वह कई वरिष्ठ फ्रांसीसी सैन्य अधिकारियों के साथ बातचीत करेंगे और शेष राफेल जेट विमानों के निर्माण एवं उनकी आपूर्ति समय का जायजा लेंगे. इस संबंध में जानकारी रखने वालों ने बताया कि वायुसेना प्रमुख दोनों देशों की वायु सेनाओं के बीच सहयोग का विस्तार करने के तरीकों को लेकर फ्रांसीसी वायुसेना के चीफ ऑफ स्टाफ फिलिप लेविनी के साथ व्यापक बातचीत करेंगे.

उन्होंने कहा कि एयर चीफ मार्शल भदौरिया द्वारा फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोर्डो के मरिग्नैक एयरबेस से पांच-छह राफेल जेट को भारत रवाना कर सकते हैं. राफेल जेट के निर्माता डसॉल्ट एविएशन द्वारा अप्रैल के अंत तक छह राफेल विमान भारत भेजने का कार्यक्रम था. इन नये विमानों के भारत पहुंचने से भारतीय वायुसेना द्वारा राफेल जेट का दूसरा स्क्वाड्रन खड़ा करने का मार्ग प्रशस्त होगा. नया स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हासिमारा हवाई अड्डे पर तैनात होगा.

भारत ने 2016 में फ्रांस के साथ की थी राफेल की डील

राफेल विमानों का पहला स्क्वाड्रन अंबाला वायुसेना स्टेशन पर तैनात है. एक स्क्वाड्रन में लगभग 18 विमान शामिल होते हैं. भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ लगभग 53,000 करोड़ रुपये की लागत से 36 राफेल लड़ाकू जेट की खरीद के लिए एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. डसॉल्ट एविएशन ने अभी तक 14 जेट की आपूर्ति भारतीय वायुसेना को कर दी है. पांच राफेल जेट पिछले 29 जुलाई को भारत पहुंचे थे.
जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि भारतीय वायुसेना प्रमुख शेष राफेल जेट के निर्माण और आपूर्ति समय का भी जायजा लेंगे. इन लोगों ने कहा कि वायुसेना प्रमुख अपने तीन दिवसीय यात्रा के दौरान कुछ फ्रांसीसी सैन्य ठिकानों का दौरा भी कर सकते हैं. साथ ही भदौरिया कई अन्य फ्रांसीसी सैन्य अधिकारियों से मुलाकात किये जाने की भी संभावना है. राफेल जेट कई शक्तिशाली हथियारों को ले जाने में सक्षम हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज