Air Force Day: आज याद किए जाएंगे Pak का ऑफर ठुकराकर पहले मुस्लिम Indian Air Force चीफ बने इदरीस हसन

हैदराबाद के इदरीस हसन लतीफ देश के पहले मुस्लिम एयर फोर्स चीफ बने थे. (File Photo)
हैदराबाद के इदरीस हसन लतीफ देश के पहले मुस्लिम एयर फोर्स चीफ बने थे. (File Photo)

एयर चीफ मार्शल के पद से रिटायर होने के बाद लतीफ महाराष्ट्र के राज्यपाल और फ्रांस (France) में भारत के राजदूत भी बने. एयर फोर्स डे (Air Force Day) के मौके पर आज इदरीस हसन को भी याद किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 8:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इदरीस हसन लतीफ (Idris Hasan latif) देश के ऐसे पहले मुस्लिम एयर फोर्स चीफ थे जो 1941 में रॉयल इंडियन एयर फोर्स का भी हिस्सा रहे और बाद में देश आज़ाद होने के बाद इंडियन एयर फोर्स (Indian Air Force) के चीफ बने. इतना ही नहीं पाकिस्तान (Pakistan) ने भी उन्हें अपनी एयर फोर्स के लिए ऑफर दिया था, लेकिन इदरीस हसन ने उसे ठुकरा दिया. एयर चीफ मार्शल के पद से रिटायर होने के बाद लतीफ महाराष्ट्र के राज्यपाल और फ्रांस (France) में भारत के राजदूत भी बने. एयर फोर्स डे (Air Force Day) के मौके पर आज इदरीस हसन को भी याद किया जा रहा है.

पाकिस्तान का एयर चीफ बनने का ऐसे मिल रहा था मौका

बंटवारे के समय लतीफ भारत में ही रह गए और उनके दोस्त मलिक नूर और असगर खान पाकिस्तान चले गए. वो पाक सेना के प्रमुख भी बने. एयर फोर्स से रिटायर्ड एयर कमोडोर एफएम खान बताते हैं, जब उनके दोस्त पाकिस्तान में उच्च पदों पर बैठे तो उन्होंने लतीफ साहब को भी ऑफर दिया कि अगर आप पाकिस्तान की एयर फोर्स में शामिल हो जाओ तो आपको एयर फोर्स चीफ बना दिया जाएगा. लेकिन लतीफ साहब ने इस ऑफर को ये कहकर ठुकरा दिया कि मैं अपनी फौज का सिपाही ही बना रहना चाहता हूं.



जानिए भारत में बिकने वाले सबसे महंगे अंडे के बारे में, इसे खरीदने के लिए करानी होती है बुकिंग
Air Force Day, Idris Hasan latif, first Muslim, Indian Air Force Chief, Pakistan, hyderabad, france, governor, वायु सेना दिवस, इदरीस हसन लतीफ, पहला मुस्लिम, भारतीय वायु सेना प्रमुख, पाकिस्तान, हैदराबाद, फ्रांस, गवर्नर
इदरीस हसन बाद में फ्रांस के राजदूत और महाराष्ट्र के राज्यपाल भी रहे. (File Photo)


Cyber Crime: सिक्योरिटी गार्ड ने डिप्टी मैनेजर को लगाया 28 लाख का चूना, जानें कैसे

1971 की जंग में दिखाए जौहर

जानकार बताते हैं कि बंटवारे से पहले लतीफ और पाकिस्तान चले गए उनके दोनों दोस्त मलिक नूर और असगर खान ने भारत में रहते हुए कई लड़ाई लड़ी, दूसरे विश्वयुद्ध में भी साथ लड़े. लेकिन 24 साल बाद 1971 की जंग में तीनों दोस्त आमने सामने थे. और इसी जंग में पाकिस्तान को सरेंडर करना पड़ा था. उस वक़्त इदरीश अस्सिस्टेंट एयर चीफ के पद पर थे. मिग-23 और बाद में मिग-25 को इंडियन एयरफोर्स के बेड़े में शामिल कराने में भी उनकी अहम भूमिका रही थी.

हैदराबाद के रहने वाले थे लतीफ

जून, 1923 में इदरीश हसन लतीफ का जन्म हैदराबाद में हुआ था. बीते वर्ष एक मई, 2018 को 94 वर्ष की उम्र में उनका इंतकाल (देहांत) हो गया था. इदरीश एयर फोर्स से 1981 में रिटायर हुए थे. इदरीश देश के 10वें वायु सेना प्रमुख बने थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज