लाइव टीवी

शराब के नशे में मिला तो छीना था फ्लाइंग लाइसेंस, अब एयर इंडिया ने बनाया रीजनल डायरेक्टर

News18Hindi
Updated: April 30, 2019, 6:43 PM IST
शराब के नशे में मिला तो छीना था फ्लाइंग लाइसेंस, अब एयर इंडिया ने बनाया रीजनल डायरेक्टर
प्रतीकात्मक फोटो

नवंबर 2018 में दिल्ली से लंदन जाने वाली फ्लाइट उड़ाने वाले थे कैप्टिन अरविंद, ब्रेथएनेलाइजर में पता चला था पी रखी है काफी शराब

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2019, 6:43 PM IST
  • Share this:
एयर इंडिया के वरिष्ठ पायलट कैप्टिन अरविंद कठापलिया को कंपनी के उत्तरी क्षेत्र का रीजनल डायरेक्टर बनाया गया है. यह खबर यहां पर इसलिए बताई जा रही है क्योंकि अरविंद वहीं पायलट हैं जिन्हें डायरेक्टर ऑपरेशंस के पद से उस समय हटा दिया गया था जब वह एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान से पहले शराब के नशे में पाए गए थे. अब तक इस पद पर रहे पंकज कुमार के 30 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं ऐसे में कैप्टिन अरविंद को यह पद दिया गया है और वे बुधवार से पदभार ग्रहण करेंगे. इस बात की जानकारी एयर इंडिया ने एक नोटिफिकेशन जारी कर दी.

ये भी पढ़ें: चीन को झटका देकर भारत आने की तैयारी में 200 बड़ी अमेरिकी कंपनियां! मिलेंगी हजारों नौकरियां

काफी शराब पी रखी थी अरविंद ने
कैप्टिन अरविंद नवंबर 2018 में एआई 111 बोइंग 787 विमान को कमांड कर रहे थे और इस दौरान वे नई दिल्ली से लंदन जा रहे थे. विमान में चढ़ने से पहले जब उनका ब्रिथऐनेलाइजर टेस्ट किया गया तो यह पाया गया कि उन्होंने भारी मात्रा में शराब पी रखी थी. डीजीसीए ने इसके बाद तीन साल के लिए विमान उड़ाने का उनका लाइसेंस भी रद्द कर दिया था. साथ ही नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने 13 नवंबर को एक आदेश जारी कर उन्हें डायरेक्टर ऑपरेशंस के पद से भी हटा दिया था.

ये भी पढ़ें: 'चौकीदार चोर है' बयान पर राहुल गांधी ने नहीं मांगी माफी, बस जताया खेद

पायलट यूनियन विरोध में 
अरविंद की इस पद्दोन्नति के बाद एयर इंडिया पायलट यूनियन ने कहा कि अधिकारियों ने एक दागदार अफसर का प्रमोशन कर गलत किया है. और क्योंकि अब अरविंद उत्तरी क्षेत्र की कमान संभालेंगे तो वे उन लोगों को भी डरा धमका सकेंगे जिन्होंने पुलिस जांच में उनके खिलाफ बयान दिया था. वहीं इंडियन कमर्शियल पायलट एसोसिएशन ने कहा कि इस बात से यह साफ दिखता है कि जिसके राजनीतिक संपर्क अच्छे हों वह किसी भी तरह का जुर्म कर बाहर निकल सकता है. ‌जिस व्यक्ति ने कानून तोड़ा हो और उसके खिलाफ चार्जशीट पेंडिंग हो वो कैसे किसी दूसरे कर्मचारी पर कोई कार्रवाई कर सकता है. हम इस निर्णय की निंदा करते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 30, 2019, 5:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर