एयर इंडिया की फ्लाइट में अब 'जमजम' ला सकेंगे हज यात्री, माननी पड़ेगी ये शर्त

चार जुलाई को एयर इंडिया की सेल्स टीम ने जेद्दाह-हैदराबाद-मुंबई और जेद्दाह-कोचिन फ्लाइट्स एआई-966 और एआई-964 में आबे जमजम लेकर यात्रा ना करने की जानकारी दी थी.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 4:14 PM IST
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 4:14 PM IST
एयर इंडिया ने मंगलवार को यह साफ कर दिया कि हज यात्रा से लौटने वाले श्रद्धालु जमजम कुएं से पवित्र जल 'आबे जमजम' ला सकते हैं. हालांकि, एयर इंडिया ने कुछ शर्तें रखी हैं. इनमें प्रमुख रूप से यात्रियों को जमजम की मात्रा का ख्याल रखना होगा. क्योंकि सामान लाने-ले जाने की मात्रा को लेकर एयर इंडिया पहले ही दिशा-निर्देश जारी कर देता है. इन निर्देशों के पाल करने वालों को एयर इंडिया आबे जमजम लाने की अनुमति देगा.

उल्लेखनीय है कि इस्लाम में पवित्र माने जाने वाले शहर मक्का में एक पवित्र कुआं है. इस कुएं के पानी को हज यात्री अपने दोस्तों और परिवार के लिए सऊदी अरब के मक्का शहर से भारत लाते हैं. इस क्रम में कुछ दिनों पहले हज पर गए यात्रियों ने लौटते वक्त गैलन भर-भर कर आबे जमजम लिए एयरपोर्ट पहुंच गए. वहां एयर इंडिया कर्मियों ने श्रद्धालुओं को आबे जमजम लेकर आने से मना कर दिया था. इस पर खूब हंगामा मचा था.

जमजम लाने पर क्यों मचा है बवाल
असल में 4 जुलाई को एयर इंडिया की सेल्स टीम ने जेद्दाह-हैदराबाद-मुंबई और जेद्दाह-कोचिन फ्लाइट्स एआई-966 और एआई-964 में आबे जमजम लेकर यात्रा ना करने की जानकारी दी थी. एयर इंडिया ने ट्रेवेल एजेंट्स को एक चिट्ठी लिखी थी, इसमें तीर्थयात्रियों को 10 किलोग्राम के वजन सामान लेकर यात्रा करने की जानकारी थी.

लेकिन, आमतौर पर यात्री 40 किलोग्राम तक सामान बढ़वाने की अनुमति मांगते हैं. पहले यह अनुमति थी कि आबे जमजम के लिए एयर इंडिया अलग से अनुमति देता था. लेकिन अब आबे जमजम को यात्री के कुल सामान का ही हिस्सा माना जाएगा. इन दिनों यात्रियों की संख्या बढ़ी हुई है. ऐसे में दूसरे यात्रियों के सामान का भी ध्यान रखना होता है. इसलिए बड़े गैलेन लेकर यात्रा करने पर मनाही कर दी गई थी.

जानकारी के अनुसार, यह मनाही आगामी 15 सितंबर तक के लिए लगाई गई थी. हालांकि, इसमें केवल दो ही विमान शामिल थे. ये विमान हैदराबाद, मुंबई और चेन्नई से उड़ानें भरते हैं.

एयर इंडिया ने दी सफाई
Loading...

अब एयर इंडिया अपने इस सर्कुलर पर सफाई देते हुए कहा है कि एयर इंडिया ने यात्रियों को जमजम लाने से मना नहीं किया है. इसमें कुछ शर्तें बढ़ाई गई हैं. चूंकि दूसरे यात्रियों के सामान का भी खयाल रखना है इसलिए श्रद्धालुओं को अपने कुल सामान के निर्धारित सीमा में ही आबे जमजम भी लाना होगा.



क्या होता है आबे जमजम?
जमजम सउदी अरब के पवित्र शहर मक्‍का के एक कुएं का नाम है. ऐसी मान्यता है कि अल्‍लाह ने अब्राहम के बेटे इस्‍माइल की प्‍यास बुझाने के लिए इस कुएं के पानी का इस्तेमाल किया था. उसके बाद से ही इस कुएं के पानी को पवित्र माना जाने लगा. अब इसके लेकर ये मान्यताएं भी आम हैं कि यह पानी बीमारियों को ठीक कर देता है.
First published: July 9, 2019, 1:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...