नेशनल इमरजेंसी बना वायु प्रदूषण, हर साल जा रही है 1 लाख बच्चों की जान- रिपोर्ट

वायु प्रदूषण पर वैश्विक रिपोर्ट में सामने आया था कि 2017 में इसके चलते भारत में 12 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई थी.

News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 4:07 PM IST
नेशनल इमरजेंसी बना वायु प्रदूषण, हर साल जा रही है 1 लाख बच्चों की जान- रिपोर्ट
सांकेतिक तस्वीर
News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 4:07 PM IST
विश्व पर्यावरण दिवस पर जारी एक अध्ययन के मुताबिक वायु प्रदूषण एक नेशनल इमरजेंसी बन गया है, क्योंकि यह भारत में हर साल पांच वर्ष से कम उम्र के एक लाख बच्चों की जान ले रहा है. वायु प्रदूषण देश में होने वाली 12.5 प्रतिशत मौतों के लिए भी जिम्मेदार है.

पर्यावरण थिंक टैंक सीएसई के स्टेट ऑफ इंडियाज इन्वायरन्मेंट (एसओई) रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदूषित हवा के कारण भारत में 10 हजार बच्चों में से औसतन 8.5 बच्चे पांच साल का होने से पहले मर जाते हैं, जबकि बच्चियों में यह खतरा ज्यादा है, क्योंकि 10 हजार लड़कियों में से 9.6 पांच साल का होने से पहले मर जाती हैं.

सीएसई की रिपोर्ट में कहा गया, “वायु प्रदूषण भारत में होने वाली 12.5 प्रतिशत मौतों के लिए जिम्मेदार है. बच्चों पर इसका प्रभाव उतना ही चिंताजनक है. देश में खराब हवा के चलते करीब एक लाख बच्चों की पांच साल से कम उम्र में मौत हो रही है.”

ये भी पढ़ें: पर्यावरण दिवस विशेष: गौरैया से लेकर गिलहरी तक... देखते-देखते कितनी चीजें गायब हो रही हैं!

विपल रही योजनाएं

थिंक टैंक ने कहा कि वायु प्रदूषण से लड़ने की सरकार की योजनाएं अब तक सफल नहीं हुई हैं और इस तथ्य को पर्यावरण मंत्रालय ने भी स्वीकार किया है. इससे पहले वायु प्रदूषण पर वैश्विक रिपोर्ट में सामने आया था कि 2017 में इसके चलते भारत में 12 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई थी.

ग्रीनपीस की एक रिपोर्ट के मुताबिक नई दिल्ली दुनिया में सबसे प्रदूषित राजधानी है. भारत ने 2013 में प्रण लिया था कि 2020 तक गैर-इलेक्ट्रिक वाहनों को हटा दिया जाएगा. इसके साथ ही 1.5 से 1.6 करोड़ हाइब्रिड एवं इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री का लक्ष्य रखा गया था.
Loading...

हालांकि सीएसई की रिपोर्ट बताती है कि ई-वाहनों की संख्या मई 2019 तक महज 2.8 लाख थी जो तय लक्ष्य से काफी पीछे है. इस रिपोर्ट में जल, स्वास्थ्य, कचरा उत्पादन एवं निस्तारण, वनों एवं वन्यजीवों को शामिल किया गया है.

ये भी पढ़ें: पर्यावरण की रक्षा के लिए बच्चों की अनोखी पहल, आप भी बन सकते हैं भागीदार

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 5, 2019, 4:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...