कोरोना त्रासदी में मजदूरों की सहायता के लिए आगे आए अजय कुमार सिंह

कोरोना त्रासदी में मजदूरों की सहायता के लिए आगे आए अजय कुमार सिंह
पिछले दिनों मजूदरों की सहायता के लिए सरकार के साथ-साथ कई लोगों ने निजी स्तर पर अपना हाथ बढ़ाया है.

पिछले दिनों मजूदरों की सहायता के लिए सरकार के साथ-साथ कई लोगों ने निजी स्तर पर अपना हाथ बढ़ाया है.

  • Share this:
पटना. कोरोना संक्रमण से लगातार हो रहे क्षति से पूरी दुनिया उभरने के लिए संघर्ष कर रही है. भारत में लोगों की सुरक्षा को देखते हुए कई पाबंदियां लगाई गई थीं. इन पाबंदियों की वजह से इस संक्रमण को कुछ हद तक फैलने में तो असफल रहा लेकिन इनकी मार गरीब प्रवासी मजदूरों को झेलनी पड़ी.

पिछले दिनों मजूदरों की सहायता के लिए सरकार के साथ-साथ कई लोगों ने निजी स्तर पर अपना हाथ बढ़ाया है. सोनू सूद जैसे लोग दिनरात लोगों की सेवा में गुजार रहे हैं. इसी तरह बिहार के लखीसराय निवासी अजय कुमार सिंह भी लोगों की मदद कर रहे हैं.

3 महीने से करा रहे हैं मजदूरों को भोजन
अजय पेशे से बिजनेसमैन हैं. वो बिहार-झारखंड व आसपास के जगहों पर अपना बिजनेस कर रहे थे. तभी कोरोना महामारी का कहर टूट पड़ा. तब उन्होंने सबसे पहले अपने यहां काम कर रहे मजदूरों को घर भेजने का इंतजाम किया. इसके बाद जैसे कोरोना की मार के चलते लोगों की हालत खराब हुई, लोग भूखे रहने लगे. तब उन्होंने सबसे पहले लोगों के खाने के इंतजाम के लिए काम करना शुरू किया.
इसी के मद्देनजर उन्होंने दिल्ली, रांची और पटना में मुक्त रसोई की शुरुआत की. जैसे ही सरकार से अनुमति मिली, उन्हने अपने खर्चे से भारत के अलग-अलग कोनो में फ़से करीब 6400 मजदूरों को बस माध्यम से घर भेजा.



इसके बाद पटना के भाजपा विधायक संजीव चौसरिया ने उनके क्षेत्र में रसोई शुरू करने के लिए अजय कुमार सिंह का धन्यावद भी किया. इस प्रयास के पीछे के कारण पूछे जाने पर अजय कहते हैं, “मुझे सबकुछ इस समाज ने ही दिया है, अगर इस विभीषिका में भी अपने लोगों के मदद के लिए आगे नहीं आता तो जीवन भर मन अशांत रहता.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज