होम /न्यूज /राष्ट्र /अजित पवार ने 11 घंटे में ही शिवसेना का कर दिया खेल! ऐसे बदला घटनाक्रम

अजित पवार ने 11 घंटे में ही शिवसेना का कर दिया खेल! ऐसे बदला घटनाक्रम

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार.

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार.

शुक्रवार को कहा गया कि एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना (Shiv Sena) की बैठक के बाद एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने ...अधिक पढ़ें

    मुंबई. शुक्रवार शाम तक ये तय हो गया था महाराष्ट्र में शिवसेना और एनसीपी की सरकार बनने वाली है. शिवसेना (Shiv Sena) नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने शुक्रवार को ऐलान कर दिया कि पार्टी सुप्रीमो उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) मुख्यमंत्री बनने के लिए तैयार हैं. कहा गया कि एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की बैठक के बाद एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने भी गठबंधन के लिए सहमति दे दी है. दोनों दल शनिवार को राज्यपाल के पास औपचारिक तौर पर सरकार बनाने के लिए दावा पेश करने के लिए जाने वाले थे. लेकिन अचानक ही 12 घंटे के अंदर सबकुछ बदल गया.

    अचानक शपथ लेने पहुंचे फडणवीस
    शनिवार सुबह करीब 8 बजे जब लोगों ने देवेंद्र फडणवीस को शपथ लेते देखा तो हर कोई हैरान रह गया. फडणवीस के बाद टीवी स्क्रीन पर एनसीपी के नेता और शरद पवार के भतीजे अजित पवार भी शपथ लेते दिखे. थोड़ी देर बाद पीएम मोदी के ट्वीट ने ये साफ कर दिया कि महाराष्ट्र में एक बार फिर से बीजेपी की सरकार बन गई है और इस बार उन्हें एनसीपी का समर्थन मिला है. पीएम ने नई सरकार को बधाई दी.

    रातों रात हुई डील!
    अब सवाल उठता है कि क्या बीजेपी और एनसीपी के बीच लंबे समय से बातचीत चल रही थी या फिर ये फैसला अजित पवार ने रातों रात ले लिया. हालांकि शरद पवार ने ट्वीट करते हुए लिखा कि बिना उनकी जानकारी के ये डील हुई है. बीजेपी से डील के बारे में किसी को कानों कान खबर नहीं थी. एक ऐसी डील जिसके बारे में दुनिया को राजभवन से आई फडणवीस की तस्वीर के बाद ही पता चला.

    सुबह हटा राष्ट्रपति शासन 
    महाराष्ट्र से आज सुबह पांच बजकर 47 मिनट पर राष्ट्रपति शासन हटाया गया. जिसके बाद सुबह आठ बजे देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली और एनसीपी नेता अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली.

    पवार का इनकार
    बता दें कि शरद पवार ने भी नई सरकार के गठन के बाद कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं थी. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा 'ये अजीत पवार का निजी फैसला है, एनसीपी का नहीं. यह साफ करना चाहता हूं कि हम इस फैसले का समर्थन नहीं करते हैं.'

    क्या बोले संजय राउत?
    राउत ने कहा, 'कल 9 बजे तक अजित पवार हमारे साथ बैठक में थे. अचानक गायब हो गए. वो हमसे नजर मिला कर भी बात नहीं कर रहे थे. उनकी बॉडी लैंग्वेज ही अलग थी, शरद पवार को भी ये महसूस हो गया था. थोड़ी देर में अजीत पवार बाहर चले गए थे और उनका फोन बंद हो गया था. इस घटनाक्रम से शरद पवार का कोई लेना-देना नहीं.'

    ये भी पढ़ें:

    कौन हैं एनसीपी के अजित पवार, जिन्होंने पलट दी महाराष्ट्र की सियासी बाजी!

    क्या ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर बिगड़ी कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की बात

    Tags: Devendra Fadnavis, Sharad pawar

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें