अपना शहर चुनें

States

मंत्रियों के बंगले पर 90 करोड़ खर्च की बात को अजित पवार ने नकारा, कही ये बात

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने मीडिया में आई खबरों का किया खंडन. (फाइल फोटो)
महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने मीडिया में आई खबरों का किया खंडन. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra) के मंत्रियों के बंगले के नवीनीकरण में 90 करोड़ रुपये का खर्च होने की बात सामने आई है. मीडिया से मिली इस रिपोर्ट के बाद से महाराष्ट्र में सियासी पारा चढ़ गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2020, 12:22 PM IST
  • Share this:
मुंबई. कोरोना (Corona) महामारी को देखते हुए देश में लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से जहां राज्यों की आर्थिक​ स्थिति बेहद खस्ता दिखाई दे रही है, वहीं महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra) के मंत्रियों के बंगले के नवीनीकरण में 90 करोड़ रुपये का खर्च होने की बात सामने आई है. हालांकि महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) ने मीडिया में आई खबर का खंडन किया है और कहा है कि जो भी रिपोर्ट बताई जा रही है वह सही नहीं है.

कोरोना लॉकडाउन के कारण सभी राज्यों की वित्तीय स्थिति खराब हो गई है. कई विकास परियोजनाओं पैसों की कमी की वजह से ठप पड़ गई हैं. मीडिया में ऐसी भी रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें पैसों की कमी के कारण लोक निर्माण विभाग के तहत आने वाले सड़कों की मरम्मत का काम रोक दिया गया है. कई ठेकेदारों को पिछले कई महीनों से भुगतान नहीं किया गया है, जिसके कारण महाराष्ट्र में विकास परियोजनाएं पूरी तरह से ठप हो गई हैं.


महाराष्ट्र की दयनीय हालत के बीच खबर है कि सरकार के मंत्रियों के बंगले और हॉल में किए गए काम का भुगतान ठेकेदारों को तुरंत किया गया है. यहां तक सभी मंत्रियों के बंगले के नवीनीकरण का काम लगभग 90 प्रतिशत तक पूरा भी हो गया है.



इसे भी पढ़ें : महाराष्ट्र: CM उद्धव ठाकरे ने किया 'सिंहासन' पर बैठने से इनकार, ट्विटर पर खूब हो रही तारीफ

मीडिया में आई इन खबरों के बाद महाराष्ट्र में सियासी पारा चढ़ गया है और विपक्ष ने राज्य सरकार पर हमला बोल दिया है. इस पूरे प्रकरण पर अब महराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा है कि मं​त्रियों के बंगले पर 90 करोड़ रुपये खर्च करने की बात पूरी तरह से गलत है. मुझे नहीं पता कि ये आंकड़ा कहां से सामने आया है. उन्होंने बताया कि संबंधित विभाग ने अभी तक खर्च का डेटा अपडेट नहीं किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज