लाइव टीवी
Elec-widget

अजित पवार ही हैं NCP, वकील के दावे पर सुप्रीम कोर्ट में लगे ठहाके

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 11:53 AM IST
अजित पवार ही हैं NCP, वकील के दावे पर सुप्रीम कोर्ट में लगे ठहाके
महाराष्ट्र में सरकार गठन के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है.

महाराष्ट्र (Maharashtra) मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई चल रही है. इसी दौरान एक ऐसा लम्हा भी आया, जब शीर्ष अदालत के कोर्ट रूम में जमकर ठहाके लगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 11:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई चल रही है. इसी दौरान एक ऐसा लम्हा भी आया, जब शीर्ष अदालत के कोर्ट रूम में जमकर ठहाके लगे. एनसीपी से बागी होकर बीजेपी को समर्थन देने वाले शरद पवार के भतीजे अजित पवार (Ajit Pawar) के वकील मनिंदर सिंह ने अपना पक्ष रखते हुए सुप्रीम कोर्ट में दावा किया कि अजित ही एनसीपी हैं. वहीं असली नेता हैं, विधायकों की चिट्ठी भी एकदम सही है.  इसे सुनकर कोर्ट रूम में मौजूद सब लोग हंसने लगे. इसी दौरान जब जस्टिस संजीव खन्ना ने अजित पवार के वकील मनिंदर सिंह से पूछा कि फ्लोर टेस्ट को लेकर आपकी क्या राय है? इस पर मनिंदर सिंह ने जवाब दिया कि आपकी राय से मेरी राय अलग नहीं है.



इस मामले में राज्यपाल के सचिव की तरफ से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि अजित पवार ने जो चिट्ठी राज्यपाल को दिखाई थी, उसमें 54 विधायकों के हस्ताक्षर थे. चिट्ठी में लिखा है कि अजित पवार को विधायक दल का नेता चुना गया है और सरकार बनाने के लिए अधिकृत किया गया है. सुनवाई के दौरान जस्टिस रमन्ना ने कहा कि महाराष्ट्र पर आखिरी फैसला तो फ्लोर टेस्ट में ही होगा.
Loading...

कोर्ट में बीजेपी ने किया एनसीपी के समर्थन का दावा
बीजेपी ने कोर्ट में एनसीपी के समर्थन का दावा किया. देवेंद्र फडणवीस का पक्ष रख रहे मुकुल रोहतगी ने कहा कि फ्लोर टेस्ट की तारीख के बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता. फडणवीस का पक्ष रखते हुए बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा, 'एक पवार (शरद पवार) उनके पास, एक पवार (अजित पवार) हमारे पास है. वे लोग हॉर्स ट्रेडिंग कर रहे हैं और हम पर आरोप लगा रहे हैं.'

अजित पवार, एनसीपी, इस्तीफा, नवाब मलिक, नई सरकार, गठन, महाराष्ट्र, Ajit Pawar, NCP, Resignation, Nawab Malik, New Government, Formation, Maharashtra
अजित पवार ने पार्टी लाइन के खिलाफ जाकर बीजेपी को समर्थन दिया है.


शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने खटखटाया था एससी का दरवाजा
एनसीपी से बागी होकर अजित पवार ने बीजेपी को समर्थन दे दिया था. इसके बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और अजित पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी. इसके बाद शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. इनका दावा था कि हमारे पास बहुमत है. इन दलों का आरोप था कि बीजेपी ने रात के अंधेरे में चोरी छुपे सरकार बना ली. इनका कहना था कि राज्यपाल ने संविधान के खिलाफ जाकर काम किया है.

सुप्रीम कोर्ट में महाराष्ट्र मामले पर चल रही सुनवाई
बता दें कि महाराष्ट्र में जारी सियासी ड्रामे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो रही है. मुकुल रोहतगी देवेंद्र फडणवीस का पक्ष रख रहे हैं. वहीं, कपिल सिब्बल शिवसेना और अभिषेक मनु सिंघवी एनसीपी-कांग्रेस का पक्ष रख रहे हैं. केंद्र सरकार की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता सभी दस्तावेज पेश किए. इसके साथ ही वे राज्यपाल के सचिव की तरफ से भी अपनी दलीलें पेश कर रहे हैं. इस मामले पर कोर्ट ने कोई भी निर्णय देने से पहले केंद्र, महाराष्ट्र, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उपमुख्यमंत्री अजित पवार को नोटिस जारी कर सभी दस्तावेज मांगे थे.

 

ये भी पढ़ें-

अजित पवार: को-ऑपरेटिव से शुरू हुआ राजनीतिक करियर, चाचा के लिए छोड़ी थी सीट

अभी भी BJP के साथ रहने के पक्ष में शिवसेना के 15 से 20 विधायक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 11:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...