• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • बस एक साल का वक्त, फिर US पर हमला करने के काबिल हो जाएगा अल-कायदा: रिपोर्ट

बस एक साल का वक्त, फिर US पर हमला करने के काबिल हो जाएगा अल-कायदा: रिपोर्ट

अलकायदा ने 11 सितंबर 2001 को अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला कर दुनिया को हिलाकर रख दिया था. (फाइल फोटो)

अलकायदा ने 11 सितंबर 2001 को अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला कर दुनिया को हिलाकर रख दिया था. (फाइल फोटो)

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक साल या अधिक से अधिक दो साल में अल-कायदा (Al Qaeda) इतना ताकतवर हो जाएगा कि अमेरिका पर हमला कर सके. रिपोर्ट का दावा है कि अफगानिस्तान में तालिबान शासन आने के बाद अल-कायदा ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. 9/11 जैसा हमला कर अमेरिका को हिला देने वाला आतंकी संगठन अल-कायदा (Al Qaeda) अब फिर से मजबूत होने लगा है. ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक साल या अधिक से अधिक दो साल में अल-कायदा इतना ताकतवर हो जाएगा कि अमेरिका पर हमला कर सके. रिपोर्ट का दावा है कि अफगानिस्तान में तालिबान शासन आने के बाद अल-कायदा ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी हैं.

    यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब महज चार दिन पहले अल-कायदा चीफ अयमान अल-जवाहिरी का वीडियो सामने आया है. दरअसल 9/11 के हमले की 20वीं बरसी पर जवाहिरी का यह वीडियो सामने आया है. इससे पहले तक आशंकाएं जाहिर की जा रही थीं कि वह मर चुका है.

    अमेरिकी सेनाओं के अफगानिस्तान छोड़ने के बाद काबुल पर कब्जा करने वाला तालिबान अब अल-कायदा को मिलती शक्ति की मुख्य वजह माना जा रहा है. हालांकि तालिबान की अंतरिम सरकार ने बार-बार कहा है कि वो अपनी धरती का इस्तेमाल किसी भी दूसरे देश पर आतंकी हमले के लिए नहीं होगी देगी. लेकिन तालिबान के वादों पर अभी तक दुनिया को भरोसा नहीं हो पाया है कि क्योंकि अफगानिस्तान में तालिबानी जुल्म अब भी जारी हैं.

    सीआईए के डिप्टी डायरेक्टर ने भी अल-कायदा से खतरों को सही माना
    अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के डिप्टी डायरेक्टर ने भी अल-कायदा से खतरों को सही माना है. उन्होंने कहा है कि अफगानिस्तान में अल-कायदा की गतिविधियां जारी हैं. इससे पहले भी तालिबान पर अल-कायदा को संरक्षण देने का आरोप लगता रहा है.

    बाइडेन ने भी किया था अल-कायदा का जिक्र
    बता दें कि सेनाओं की वापसी के फैसले को सही ठहराते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भी अल-कायदा और आईएसआईएस जैसे संगठनों से खतरे की बात कही थी. सेनाएं हटाने के बाद अफगानिस्तान के बदतर हालात को लेकर जो बाइडेन को वैश्विक आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है. हालांकि बाइडेन सेनाएं हटाने के अपने फैसले पर अड़े रहे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज