Home /News /nation /

बिहार शराबबंदी: नीतीश सरकार के फरमान से नाराज चौकीदारों का पटना में विरोध प्रदर्शन

बिहार शराबबंदी: नीतीश सरकार के फरमान से नाराज चौकीदारों का पटना में विरोध प्रदर्शन

शराबबंदी पर नीतीश कुमार के फैसले के खिलाफ बिहार के चौकीदार प्रदर्शन कर रहे हैं.

शराबबंदी पर नीतीश कुमार के फैसले के खिलाफ बिहार के चौकीदार प्रदर्शन कर रहे हैं.

Bihar News: बिहार में शराबबंदी  (Alcohol Ban In Bihar) अभियान को सफल बनाने के लिए थानेदार से लेकर चौकीदार को बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. ऐसे में किसी भी तरह की गड़बड़ी पाए जाने पर थानेदार के साथ-साथ चौकीदार (Bihar Watchman) पर भी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. नीतीश सरकार के इसी आदेश के बाद से बिहार के कई जिलों के चौकीदार नाराज हैं और पटना में प्रदर्शन कर रहे हैं. संपदा पासवान नवादा में चौकीदार ने बताया कि हम जान पर खेल कर थानेदार को शराब की जानकरी देते हैं लेकिन वो सूचना थाने से लीक कर दिया जाता है. 

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में शराबबंदी (Liquor Prohibition Law In Bihar) को सफल बनाने के लिए हर दिन नीतीश सरकार  (Nitish Government) की तरफ से सख्त कदम उठाए जा रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ-साफ कड़े शब्दों में निर्देश भी दिया है कि शराबबंदी  (Alcohol Ban In Bihar) को असफल करने की जो भी कोशिश करेंगे उन्हें किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा. वहीं दूसरी तरफ इस अभियान को सफल बनाने के लिए थानेदार से लेकर चौकीदार को बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. ऐसे में किसी भी तरह की गड़बड़ी पाए जाने पर थानेदार के साथ-साथ चौकीदार (Bihar Watchman) पर भी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. नीतीश सरकार के इसी आदेश के बाद से बिहार के कई जिलों के चौकीदार नाराज हैं और पटना में प्रदर्शन कर रहे हैं.

इनकी मांग है कि चौकीदार पर जिम्मेदारी तो दे दी गई है लेकिन उसके मुताबिक ना तो सहूलियत दी जा रही है और ना ही सुरक्षा. इसकी वजह से चौकीदार शराब की सूचना तो जान पर खेल कर दे देते हैं लेकिन इसी वजह से उनकी नौकरी और जान पर खतरा बढ़ गया है. यही वजह है की एक तरफ नीतीश कुमार समाज सुधार यात्रा पर निकलने वाले हैं और शराबबंदी से जुड़ी जानकारी लेंगे. वहीं दूसरी तरफ बिहार के कई जिले के चौकीदार पटना में प्रदर्शन कर रहे हैं. बिहार के इन्हीं चौकीदारों के ऊपर शराबबंदी को सफल बनाने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है.

पटना में प्रदर्शन कर रहे चौकीदारो को लीड कर रहे संत सिंह के अनुसार, सरकार शराबबंदी अभियान को लेकर बड़े बड़े दावे तो कर रही है. इसके लेकर चौकीदार पर बड़ी जिम्मेदारी भी डाल दी है लेकिन सरकार को ये भी तो देखना होगा की जिस चौकीदार पर बड़ी जिम्मेदारी डाल रहे हैं उसकी सुरक्षा और उसको क्या सुविधा दे रहे हैं. सरकार चौकीदारों से काम तो लेना चाहती है लेकिन ना तो सुरक्षा दे रही है और ना ही सुविधाएं लेकिन कार्रवाई करने के लिए हमेशा तैयार रहती है.

संपदा पासवान नवादा में चौकीदार ने कहा कि हम जान पर खेल कर थानेदार को शराब की जानकरी देते हैं लेकिन वो सूचना थाने से लीक कर दिया जाता है. थाना में हर वक्त दलाल बैठा रहता है जो हमारी सूचना को शराब माफिया तक पहुंचाता है जिससे जान पर खतरा बना रहता है. दर असल बिहार में इस समय लगभग बीस हजार के आसपास चौकीदार है जिनके ऊपर शराबबंदी अभियान को सफल बनाने की बड़ी जिम्मेदारी है.

इन चौकीदारों को जो प्रमुख मांग है वो इस प्रकार है-

  • बिहार चौकीदार संवर्ग नियमावली 2006 में संशोधन किया जाए
  • बिहार चौकिदार संवर्ग नियमावली2019 में संशोधन कर पूर्व की भांति किया जाए
  • चौकीदार की सूचना को गुप्त रखा जाए और उसे थाने में लिखित लिया जाए
  • किसी भी चौकीदार को निलम्बित करने के पहले उससे कारण पूछा जाए
  • शराब बंदी क़ानून में छापेमारी के बाद अगर शराब बरामदगी होती है तो चौकीदार और थानेदार पर कारवाई होगी इस कानून में संशोधन किया जाए
  • एक चौकीदार को कई काम दे दिया जाता है उसे बंद किया जाए
  • शराब बंदी समीक्षा बैठक में चौकीदार के एक प्रतिनिधि को रखा जाए
  • चौकीदार के वर्दी भत्ता में बढ़ोतरी किया जाए
  • वर्दी भत्ता और साइकिल भत्ता दिया जाए
  • 30 साल बाद भी चौकीदार दफादार को प्रोन्नति नही दिया गया है उसे दिया जाए ,ACP और MASP का लाभ दिया जाए
  • चौकीदारों को सुरक्षा के लिए शस्त्र दिया जाए
  • पुलिस की तरह चौकीदार को भी 13 माह वेतन दिया जाए

Tags: Bihar Liquor Smuggling, Liquor Ban, Liquor Mafia

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर