यूसी न्यूज़ पर फ़ेक न्यूज़ फैलाने और चीन की 'तरफदारी' का आरोप, फाउंडर जैक मा को गुरुग्राम कोर्ट ने भेजा समन

यूसी न्यूज़ पर फ़ेक न्यूज़ फैलाने और चीन की 'तरफदारी' का आरोप, फाउंडर जैक मा को गुरुग्राम कोर्ट ने भेजा समन
अली बाबा और उसके फाउंडर जैक मा (फ़ाइल फोटो)

केस करने वाले पूर्व कर्मचारी पुष्पेंद्र सिंह परमार का कहना है कि कंपनी के ऐप पर फेक न्यूज (Fake News) फैलाई जा रही थी. उसके खिलाफ उन्होंने आवाज़ उठाई तो उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 26, 2020, 12:32 PM IST
  • Share this:
गुरुग्राम. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम की एक अदालत ने चीन की कंपनी अली बाबा (Alibaba) और उसके फाउंडर जैक मा (Jack Ma) को समन किया है. दरअसल कोर्ट ने ये कार्रवाई यूसी न्यूज़ (UC News) में काम करने वाले एक पूर्व कर्मचारी की शिकायत पर की है. बता दें कि यूसी न्यूज़ अली बाबा की ही कंपनी है. आपको याद होगा कुछ हफ्ते पहले भारत सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए चीन की 59 एप को बैन किया था जिसमें यूसी न्यूज़ और यूसी ब्राउजर भी शामिल है.

कोर्ट में हाजिर होना होगा
गुरुग्राम के एक जिला कोर्ट की सिविल जज सोनिया शेओकंद ने अलीबाबा, जैक मा और करीब दर्जन भर लोगों के खिलाफ समन जारी किया है. इसके मुताबिक इन सबको 29 जुलाई तक खुद कोर्ट में पेश होना होगा या फिर इन्हें अपने वकील को कोर्ट में भेजना होगा. इसके अलावा जज ने कंपनी और उसके अधिकारियों से 30 दिन के भीतर लिखित में जवाब देने को भी कहा है.

क्या है कंपनी पर आरोप?
केस करने वाले पूर्व कर्मचारी पुष्पेंद्र सिंह परमार का कहना है कि कंपनी के ऐप पर फेक न्यूज फैलाई जा रही थी. अपनी शिकायत में उन्होंने ये भी आरोप लगाया है कि कंपनी ऐसे कंटेंट को सेंसर करती थी, जो चीन के खिलाफ हो. उसके खिलाफ उन्होंने आवाज़ उठाई तो उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया. 20 जुलाई की कोर्ट की फाइलिंग के मुताबिक परमार का आरोप है कि अलीबाबा यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज ऐप के जरिये फेक न्यूज फैलाते थे, जिससे सामाजिक और राजनीतिक अस्थिरता पैदा हो.



ये भी पढ़ें:-राजस्थान: अशोक गहलोत की सरकार बचाने में क्या इस बार भी मददगार होगा 'इतिहास'

फेक न्यूज़ फैलाने का आरोप
पुष्पेंद्र सिंह परमार गुरुग्राम में अक्टूबर, 2017 तक UC Web में एसोसिएट डायरेक्टर के पद पर काम करते थे. परमार ने हर्जाने के तौर पर 2,68,000 डॉलर की मांग की है. परमार ने अपनी याचिका में यूसी न्यूज़ के कुछ पोस्ट्स के क्लिप्स भी लगाए हैं. इन क्लिप्स में दी गई खबरों को परमार ने फर्जी करार दिया है. 2017 के एक न्यूज़ क्लिप में लिखा है 'आज मध्यरात्रि से 2,000 रुपये के नोट बैन हो जाएंगे. वहीं, 2018 के एक पोस्ट की हेडलाइन में कहा गया है कि 'अभी-अभी भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध शुरू हो गया है.' हालांकि समाचर एजेंसी रॉयटर्स ने इन क्लिप्स की सत्यता पुष्टि नहीं की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading