INX मीडिया केस: ED मामले में चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत, फिर भी सोमवार तक रहना होगा CBI कस्टडी में

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 2:12 PM IST
INX मीडिया केस: ED मामले में चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत, फिर भी सोमवार तक रहना होगा CBI कस्टडी में
शुक्रवार को कांग्रेस नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) की याचिका पर सुनवाई हुई.

जस्टिस आर भानुमति (Justice R Banumathi) की अध्यक्षता वाली उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) की एक पीठ शुक्रवार को कांग्रेस नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) की याचिका पर सुनवाई हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 2:12 PM IST
  • Share this:
कांग्रेस  (Congress) नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आईएनएक्स मीडिया प्रकरण (INX Media Case) में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) द्वारा दर्ज धन शोधन(Money Laundring) के मामले में गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी.

बहरहाल, चिदंबरम को हिरासत में ही रहना होगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई वाले मामले में हस्तक्षेप नहीं किया. इसी मामले में चिदंबरम को 26 अगस्त तक पूछताछ के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी की हिरासत में भेजा गया है.

जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस ए एस बोपन्ना की पीठ ने दोनों ही मामलों को सोमवार, 26 अगस्त को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर दिया. सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष के वकील एवं सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और वरिष्ठ अधिवक्ता एवं चिदंबरम के पार्टी सहयोगी कपिल सिब्बत और ए एम सिंघवी के बीच करारी बहस हुई.

मेहता ने आईएनएक्स मीडिया प्रकरण में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज धन शोधन के मामले में चिदंबरम को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दिए जाने का पुरजोर विरोध किया. चिदंबरम को सीबीआई ने मामले में बुधवार, 21 अगस्त को गिरफ्तार किया था. पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम ने आईएनएक्स मीडिया मामले में अग्रिम जमानत की याचिका खारिज करने के दिल्ली हाईकोर्ट के 20 अगस्त के फैसले को बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी.

कांग्रेस नेता को तब गिरफ्तार किया गया था जब वह सुप्रीम कोर्ट से राहत पाने में विफल रहे थे. शीर्ष अदालत ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग करने वाली उनकी याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई करने का फैसला किया था. गुरुवार को दिल्ली की एक अदालत ने आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में चिदंबरम को चार दिन के लिए सीबीआई की हिरासत में सौंप दिया और कहा कि उनसे हिरासत में पूछताछ न्यायोचित है.

CBI ने बुधवार को की थी गिरफ्तारी

2004-2014 से यूपीए सरकार में गृह मंत्री और वित्त मंत्री रहे चिदंबरम ने दिल्ली उच्च न्यायालय के 20 अगस्त के फैसले पर रोक लगाने की मांग की थी, जिसमें आईएनएक्स से जुड़े मामलों में उनकी गिरफ्तारी का मार्ग प्रशस्त करते हुए उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी गई थी. मामले सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दर्ज किए गए हैं. बुधवार को सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. चिदंबरम की याचिका पर तत्काल सुनवाई के लिए बुधवार को उनके वकीलों द्वारा बार-बार प्रयास किए गए थे, लेकिन सीजेआई ने फैसला किया कि इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को की जाएगी.
Loading...

दिल्ली हाईकोर्ट ने बताया था "किंगपिन"

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने चिदंबरम की याचिका पर मौखिक उल्लेख करते हुए मामले की सुनवाई के लिए यह कहते हुए विरोध किया था कि कागजात उनके पास नहीं हैं. 20 अगस्त को चिदंबरम को एक बड़ा झटका लगा था जब उच्च न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया मामले में उनकी अग्रिम जमानत को खारिज कर दिया था. न्यायालय ने चिदंबरम को इस मामले का "किंगपिन" बताया और जांच एजेंसियों, सीबीआई और ईडी के लिए उसे गिरफ्तार करने का मार्ग प्रशस्त किया.

भाषा इनपुट के साथ

इसे भी पढ़ें -पाकिस्तान के मंत्री ने दी भारत को धमकी, कहा- हमला किया तो आंखें निकाल लेंगे 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 12:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...