वैक्सीन बर्बादी रोकने को निर्देश, वायल खुलने के 4 घंटे के भीतर हो इस्तेमाल

वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

एक विज्ञप्ति के माध्यम से कहा गया है कि हर वैक्सीनेटर (Vaccinator) को वायल खुलने का समय और तारीख नोट करनी चाहिए. हर वायल को खोलने के बाद चार घंटे के भीतर इस्तेमाल कर लिया जाना चाहिए. अगर इस्तेमाल नहीं हो सकता तो फिर उसे हटा देना चाहिए.

  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने वैक्सीन की बर्बादी (Vaccine Wastage) रोकने के लिए शुक्रवार को नए निर्देश जारी किए हैं. एक विज्ञप्ति के माध्यम से कहा गया है कि हर वैक्सीनेटर को वायल खुलने का समय और तारीख नोट करनी चाहिए. हर वायल को खोलने के बाद चार घंटे के भीतर इस्तेमाल कर लिया जाना चाहिए. अगर इस्तेमाल नहीं हो सकता तो फिर उसे हटा देना चाहिए. कहा गया है कि 1 प्रतिशत वैक्सीन वेस्टेज की उम्मीद की जा रही है. अगर इससे भी कम वेस्टेज हो तो यह बेहतर बात होगी.

कोरोना की दूसरी लहर अब थमती दिखने लगी है और भारत सरकार की पूरी कोशिश है कि वैक्सीनेशन रफ्तार तेज की जाए. साथ ही वैक्सीन वेस्टेज पर रोक लगाई जाए. कुछ दिन पहले मेडिकल रिसर्च की अग्रणी संस्था ICMR के चीफ डॉ. बलराम भार्गव ने कहा था कि जुलाई-अगस्त तक देश में इतनी वैक्सीन हो जाएगी कि हर दिन एक करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन किया जा सकेगा. उन्होंने वैक्सीन की कमी की खबरों को खारिज कर दिया था.

'अगस्त तक हमारे पास पर्याप्त वैक्सीन डोज मौजूद होंगे'

भार्गव ने कहा था- 'जुलाई के मध्य और अगस्त तक हमारे पास पर्याप्त वैक्सीन डोज मौजूद होंगे. हम पूरी तरह आश्वस्त हैं कि दिसंबर महीने तक पूरे देश का वैक्सीनेशन कर दिया जाएगा.' उन्होंने यह भी कहा है कि अगर सिलसिलेवार तरीके से कोरोना प्रतिबंध हटाए गए तो फिर मामलों में बहुत ज्यादा वृद्धि नहीं होगी.
केंद्रीय मंत्री ने भी कहा था-दिसंबर तक पूरा हो जाएगा वैक्सीनेशन

हाल में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी कहा था कि दिसंबर महीने तक देश में कोरोना वैक्सीनेशन का काम पूरा कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा था, 'वैक्सीन के बारे में पिछले सप्ताह स्वास्थ्य विभाग ने विस्तृत जानकारी दी थी.' विभाग की तरफ से बताया गया था कि दिसंबर तक 216 करोड़ वैक्सीन डोज मौजूद होंगे. यानी 108 करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन का पूरा खाका पेश किया गया था. विभाग ने वैक्सीन के नाम भी बताए थे. कोविशील्ड, कोवैक्सीन, नोवावैक्सीन, जेनोवा और स्पूतनिक-V का जिक्र किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज