अपना शहर चुनें

States

Coronavirus Vaccine: कोरोना वैक्सीन का एक शॉट और आधे घंटे निगरानी, जानें टीकाकरण केंद्र में क्‍या-क्या होगा

भारत में टीकाकरण की तैयारियां तेज हुईं. (pic- File AP)
भारत में टीकाकरण की तैयारियां तेज हुईं. (pic- File AP)

ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने देश में दो कोरोना वायरस वैक्‍सीन (Corona Vaccine) के इमरजेंसी यूज का अनुमति दे दी है. इसमें सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्‍ड (Covishield) और भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन (Covaxin) शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 1:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ रविवार को एक महत्‍वपूर्ण कदम आगे बढ़ा दिया है. ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने देश में दो कोरोना वायरस वैक्‍सीन (Corona Vaccine) के इमरजेंसी यूज का अनुमति दे दी है. इसमें सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्‍ड (Covishield) और भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन (Covaxin) शामिल हैं. इसी के साथ देश में टीकाकरण के लिए भी ड्राई रन हो रहे हैं, लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि जब वैक्‍सीन लगवाने आप टीकाकरण केंद्र जाएंगे तो आपको क्‍या-क्‍या करना होगा, किन्‍हें और कैसे लगेगी वैक्‍सीन. आइये जानते हैं इसके बारे में...

टीकाकरण में पहले इन्‍हें मिलेगी वैक्‍सीन

हेल्‍थकेयर वर्कर्स: इनमें हेल्‍थ सेक्‍टर से जुड़े 1 करोड़ लोगों को भारत में कोरोना वैक्‍सीन की पहली डोज मिलेगी. इनमें आईसीडीएस वर्कर्स, नर्स, सुपरवाइजर, मेडिकल अफसर, पैरामेडिकल स्‍टाफ, सपोर्ट स्‍टाफ और मेडिकल छात्र शामिल हैं.



फ्रंटलाइन वर्कर्स: इनमें 2 करोड़ लोग शामिल होंगे. इनमें तीनों सेनाओं के जवान, असम राइफल्‍स, बीएसएफ, सीआईएसएफ, सीआरपीएफ, आईटीबीपी, एनएसजी, एसएसबी, होम गार्ड, जेल कर्मी और डिजास्‍टर मैनेजमेंट से जुड़े लोगों को लगेगा टीका.
नगर पालिका के कर्मचारियों, राज्‍य पुलिसकर्मियों को यह वैक्‍सीन मिलेगी.

आयु वर्ग को प्राथमिकता: देश की करीब 26 करोड़ आबादी 50 साल की आयु से अधिक है. करीब 1 करोड़ लोग 50 साल से कम हैं, जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्‍त हैं. सरकारी दस्‍तावेज के अनुसार जो भी व्‍यक्ति 1 जनवरी, 1971 को या उससे पहले जन्‍मा है, वो इस श्रेणी के अंतर्गत होगा.

टीकाकरण केंद्र में क्‍या होगा?

> कोरोना वैक्‍सीन उन्‍हीं को लगेगी, जिन्‍होंने Co-Win पोर्टल पर अपने आपको रजिस्‍टर कराया होगा. पहली डोज लगने के बाद वैक्‍सीनेशन ऑफिसर Co-Win सिस्‍टम पर उक्‍त व्‍यक्ति के नाम के आगे टिक करेगा. एक एसएमएस भी उक्‍त व्‍यक्ति को जाएगा.

> टीकाकरण केंद्र में लोगों को वैक्‍सीन लगाने के लिए सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक का समय निर्धारित होगा. इस दौरान करीब 200 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्‍य है.

> टीकाकरण के बाद हर व्‍यक्ति को 30 मिनट तक निगरानी में रखा जाएगा, जिससे कि उसमें किसी भी साइड इफेक्‍ट को देखा जाएगा.

> टीकाकरण के बाद हल्‍का बुखार, इंजेक्‍शन की जगह पर सूजन और दर्द भी हो सकता है.

> हर टीकाकरण केंद्र में कई चीजें अहम रूप से रखी जाएंगी. इनमें जिन्‍हें टीका लगना है उनकी लिस्‍ट की तीन प्रतियां, बर्फ के साथ वैक्‍सीन करियर, अतिरिक्‍त वैक्‍सीन करियर, कोविड वैक्‍सीन, इंजेक्‍शन के लिए सीरिंज, मास्‍क-सैनिटाइजर, एनाफिलिक्‍सिस किट, लाल, पीले, काले बैग, कूड़दान आईईसी मैटीरियल, हाथ धोने की सुविधा शामिल हैं.

> टीकाकरण के एक दिन पहले जिला प्रशासन अपने स्‍तर पर निजी क्षेत्र के टीकाकरण केंद्रों का दौरा करके वहां सभी तैयारियों की समीक्षा करेगा.

> टीकाकरण केंद्र पर सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन होगा. इंटरनेट कनेक्टिविटी बेहतर की जाएगी. पीने का पानी होगा. वेटिंग रूम को अच्‍छा बनाया जाएगा.

> टीकाकरण केंद्र में पांच सदस्‍यों की टीम होगी. इसमें वैक्‍सीनेशन ऑफिसर होंगे. डॉक्‍टर, नर्स, फार्मासिस्‍ट, लेडी हेल्‍थ असिस्‍टेंट होंगे. टीकाकरण केंद्र के एंट्री प्‍वाइंट पर कम से कम एक पुलिस का सिपाही, होमगार्ड, सिविल डिफेंस, एनसीसी, एनएसएस, एनवाईके को कोई एक कर्मी होगा, जो टीकाकरण के लिए आने वाले लोगों का रजिस्‍ट्रेशन चेक करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज