लाइव टीवी

सेना के तीनों अंग मिलकर कर रहे हैं सर्जिकल स्ट्राइक जैसे ऑपरेशनों की तैयारी

News18Hindi
Updated: September 29, 2019, 8:25 PM IST
सेना के तीनों अंग मिलकर कर रहे हैं सर्जिकल स्ट्राइक जैसे ऑपरेशनों की तैयारी
गुजरात के नलिया में आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशन्स डिविजन ने अपने ऐसे ऑपरेशंस को अंजाम देने का पहला अभ्यास किया (सांकेतिक तस्वीर)

भारत (India) की तीनों सेनाओं की स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन ने गुजरात (Gujarat) में पाकिस्तानी सीमा (Pakistan's Boarder) के नजदीक अपना पहला युद्धाभ्यास (War Game) किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2019, 8:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत (India) की तीनों सेनाओं की स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन ने गुजरात (Gujarat) में पाकिस्तानी सीमा (Pakistan's Boarder) के नजदीक अपना पहला युद्धाभ्यास (War Game) किया. यह डिवीजन खुद को इस युद्धाभ्यास के जरिए आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) जैसे ऑपरेशन के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं.

गुजरात (Gujarat) के नलिया (Nalia) में आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशन्स डिवीजन (Armed Forces Special Operations Division) ने अपने ऐसे ऑपरेशंस को अंजाम देने का पहला अभ्यास किया. इस ऑपरेशन का कोडनेम दिया गया था, 'स्मैलिंग फील्ड'. नलिया कस्बे के आस-पास रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण एयरफोर्स और आर्मी के बेस हैं. यह कस्बा, कच्छ जिले का एक हिस्सा है. इन बातों की जानकारी रक्षा विभाग से जुड़े सूत्रों ने दी.

खुद को भविष्य के ऑपरेशन के लिए तैयार करना है लक्ष्य
इस युद्धाभ्यास के दौरान, आर्मी (Army), नेवी (Navy) और एयरफोर्स (Air Force) ने भी हिस्सा लिया, स्पेशल फोर्सेज ऑपरेटिव्स ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए प्रैक्टिस की. इस दौरान उन्होंने उन सारी परिस्थितियों के लिए भी ड्रिल अभ्यास किया जो आतंक से निपटने के दौरान उनके सामने आ सकती हैं.

रक्षा विभाग (Defence Department) से जुड़े सूत्रों ने यह बताया कि शनिवार को नलिया में यह ड्रिल संपन्न हुई. उन्होंने यह भी बताया कि नई तैयार की गई यह डिवीजन अब और भी ज्यादा ऐसे ऑपरेशनों को अंजाम देगी ताकि वह खुद को भविष्य को ऐसे और ऑपरेशन के लिए तैयार कर सके.

सेना के तीनों अंगों को इस कदम से होंगे कई फायदे
आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशन्स डिविजन (AFSOD) का प्रमुख मेजर जनरल अशोक ढींगरा को बनाया गया है जो कि इस सैन्य बल के पहले प्रमुख हैं. आधिकारिक सूत्रों ने इस युद्धाभ्यास के बारे में बताया, इस अभ्यास को गुजरात में कहीं टीमों का योग्यता चेक करने के लिए कराया गया है.
Loading...

स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन के अंतर्गत सभी तीन विशेष सेनाओं की टुकड़ियों को एक साथ ट्रेनिंग दी जाएगी. इससे ट्रेनिंग, सेना के सामान और प्रशासन पर होने वाले खर्च में कमी आएगी. सेना के तीनों ही अंग अलग-अलग काम करते हैं लेकिन अब AFSOD के जरिए अब सेना के तीनों अंगों को एक ही कमांड और कंट्रोल स्ट्रक्चर के अंतर्गत लाने का काम किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: असम राइफल्स का नियंत्रण गृह मंत्रालय को देने से चीन सीमा पर निगरानी प्रभावित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 29, 2019, 8:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...