कौन सा ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर कोरोना मरीज के लिए है बेहतर? यहां जानिये सबकुछ

ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर के बारे में जानिये सबकुछ. (Pic- News18)

ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर के बारे में जानिये सबकुछ. (Pic- News18)

Oxygen Concentrator: ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर खरीदने से पहले इसके बारे में कई बाते जानना आपके लिए बेहद जरूरी है. इसको खरीदने से पहले आपको इसके फ्लो रेट के बारे में जानना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) इस बार सीधे मरीजों के फेफड़ों पर असर डाल रहा है. ऐसे में देश के अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन (Oxygen) की डिमांड बढ़ने से उसकी कमी हो रही है. अलग अलग राज्‍यों में स्थित विभिन्‍न प्‍लांट्स से ऑक्‍सीजन (Oxygen Supply) को इन अस्‍पतालों में भेजा जा रहा है. ऑक्‍सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) की भी भारी कमी देखी जा सकती है. वहीं एक मेडिकल उपकरण है ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटेर (Oxygen Concentrator). यह हवा से शुद्ध ऑक्‍सीजन को अवशोषित करके उसे मरीजों के लेने लायक बनाता है. इसकी भी मांग काफी बढ़ गई है. ऐसे में आइये आपको बताते हैं कि आखिर कौन सा ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर कोविड 19 या कोरोना के मरीजों के लिए उपयुक्‍त होता है...

ऐसे काम करता है ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर एक मेडिकल उपकरण है. यह हवा में से प्रक्रिया के तहत ऑक्सीजन को अलग करता है. हमारे वातावरण में मौजूद हवा में कई तरह की गैस होती हैं और ये कंसंट्रेटर उसी हवा को अपने अंदर लेता है और उसमें से दूसरी गैसों को अलग करके शुद्ध ऑक्सीजन सप्लाई करता है.

Youtube Video

ऐसे चुनें उपयुक्‍त ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर

ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर खरीदने से पहले इसके बारे में कई बाते जानना आपके लिए बेहद जरूरी है. इसको खरीदने से पहले आपको इसके फ्लो रेट के बारे में जानना चाहिए. फ्लो रेट वह दर होती है, जिसपर ऑक्‍सीजन इस मशीन से मरीज तक पहुंचती है. कोरोना मरीजों जब गंभीर सांस की समस्‍या से जूझ रहे हों तब उन्‍हें 1 से 5 लीटर प्रति मिनट फ्लो या 10 लीटर प्रति मिनट से अधिक फ्लो से 90 फीसदी ऑक्‍सीजन कंसंट्रेशन की आवश्‍यकता होती है. जब भी आप ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर खरीदें तो यह ध्‍यान में रखें कि इसकी क्षमता आवश्‍यकता से अधिक होनी चाहिए. उदाहरण के तौर पर जैसे आपको 3.5 एलपीएम की आवश्‍यकता है तो 5 एलपीएम वाला ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर खरीदें.

कितनी बड़ी होनी चाहिए मशीन?



छोटे कंसंट्रेटर- यह अमूमन 5 से 10 किलोग्राम क्षमता के होते हैं. इनमें विकल्‍प होता है कि यह 1 लीटर से 9 लीटर तक ऑक्‍सीजन फ्लो कर सकते हैं. इसमें 90 फीसदी ऑक्‍सीजन कंसंट्रेशन तब ही प्राप्‍त किया जा सकता है जब इसमें ऑक्‍सीजन निम्‍न तौर पर फ्लो हो. यानि 1 या 2 लीटर पर. यह कोरोना मरीजों के लिए उपयुक्‍त नहीं है.

मध्‍यम कंसंट्रेटर- यह अमूमन 15 किलो से 19 किलोग्राम की क्षमता के होते हैं. इनमें कंप्रेशर भी होता है. यह आसानी से 1 लीटर से 5 लीटर के बीच 90 फीसदी ऑक्‍सीजन दे सकते हैं. यह कोरोना मरीजों और गंभीर मरीजों के लिए उपयुक्‍त होते हैं.

बड़े कंसंट्रेटर- यह करीब 20 किलो की क्षमता के होते हैं. इनमें बड़ा कंप्रेशर लगा होता है. यह 1 से 10 लीटर फ्लो पर 90 फीसदी ऑक्‍सीजन मुहैया कराते हैं. इसमें एक मशीन से दो मरीजों को ऑक्‍सीजन दी जा सकती है. ये कोरोना मरीजों और गंभीर मरीजों के लिए उपयुक्‍त है.



दो प्रकार के होते हैं कंसंट्रेटर

ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर दो प्रकार के होते हैं. इनमें पहले होते हैं जो बड़ी मशीन होती है और वह स्‍थायी होते हैं. उन्‍हें इधर-उधर नहीं ले जाया जा सकता है. यह अधिक ऑक्‍सीजन सप्‍लाई करने के लिए बनाए जाते हैं. वहीं एक अन्‍य कंसंट्रेटर पोर्टेबल होते हैं. इन्‍हें कहीं भी लाया ले जाया जा सकता है. लेकिन यह कोरोना मरीजों के लिए उपयुक्‍त नहीं होते हैं.

कीमतें

5 एलपीएम स्‍टेशनरी ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 30 हजार रुपये से 65000 रुपये के बीच होती है.

8 एलपीएम स्‍टेशनरी ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 66 हजार रुपये से 95 हजार रुपये के बीच होती है.

10 एलपीएम स्‍टेशनरी ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 70 हजार रुपये से 1.30 लाख रुपये तक होती है.

पल्‍स फ्लो पोर्टेबल ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 1.60 लाख रुपये से 2.25 लाख रुपये तक होती है.

पल्‍स एंड कॉन्‍टिनुअस फ्लो पोर्टेबल की कीमत 1.80 लाख रुपये से 3.50 लाख रुपये तक होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज