लाइव टीवी

ये तीन जज करेंगे CJI गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच

News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 8:17 AM IST
ये तीन जज करेंगे CJI गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच
CJI रंजन गोगोई की फाइल फोटो

कोर्ट के तीन सिटिंग जज- जस्टिस एस ए बोबड़े, एन वी रमन और इंदिरा बनर्जी सीजेआई के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2019, 8:17 AM IST
  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए कोर्ट ने तीन जजों की एक आंतरिक जांच समिति का गठन किया है. इस समिति में कोर्ट के तीन सिटिंग जज- जस्टिस एस ए बोबड़े, एन वी रमन और इंदिरा बनर्जी शामिल हैं. गोगोई के बाद बोबडे ही सबसे सीनियर जज हैं.

ये भी पढ़ें: जस्टिस बोबडे करेंगे CJI रंजन गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच

बता दें कि ये जांच शुक्रवार से शुरू होगी और ये न्यायिक नहीं सिर्फ एक विभागीय जांच ही है. बता दें कि इस मामले में कोर्ट ने वकील उत्सव बैंस को नोटिस जारी किया है. उत्सव ने आरोप लगाया था कि उन्हें सीजेआई के खिलाफ झूठे आरोप लगाने के लिए रिश्वत की पेशकश की गई थी.

कौन हैं ये तीन जज-

1. जस्टिस शरद अरविंद बोबडे

जन्मतिथि - 24.04.1956
जन्म स्थान- नागपुर
Loading...

पूर्व पद - चीफ जस्टिस मध्य प्रदेश हाईकोर्ट
सुप्रीम कोर्ट जज- 12 अप्रैल, 2013 से अभी तक

-अरविंद श्रीनिवास बोबडे के घर नागपुर में जन्म
- नागपुर यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई में स्नातक
- 1978 में बार काउंसिल ऑफ़ महाराष्ट्र के सदस्य बने
- 1998 तक सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील रहे
- 29मार्च, 2000 को बॉम्बे हाईकोर्ट में एडिशनल जज का कार्यभार संभाला
- 16 अक्टूबर 2012 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने
- 12 अप्रैल 2013 को सुप्रीम कोर्ट के जज का कार्यभार संभाल
- आधार से जुड़े फैसले में कहा कि आधार नंबर न होने पर कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं किया जा सकता।

2. जस्टिस एन. वी. रमन्ना
जन्मतिथि - 27. 07. 1957
जन्म स्थान- आंध्र प्रदेश
पूर्व पद - चीफ जस्टिस दिल्ली हाईकोर्ट
सुप्रीम कोर्ट जज- 7 फरवरी 2014 से अभी तक

- आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के पोन्नावरम गांव में जन्म
- कृषक परिवार में जन्म और बीएससी, बीएल शिक्षा
- 10 फरवरी 1983 को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में बतौर वकील प्रैक्टिस शुरू की
- संविधान, क्राइम, सर्विस और इंटर स्टेट रिवर कानूनों में विशेषज्ञता
- केंद्र सरकार के लिए सेन्ट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल में रेलवे के लिए एडिशनल स्टैंडिंग काउंसिल रहे
- आंध्रा प्रदेश के लिए एडिशनल एडवोकेट जनरल भी रहे.
- 27 जून 2000 को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के जज का कार्यभार संभाला
- 10 मार्च 2013 को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने
- 02 सितंबर 2013 को दिल्ली हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने
- 17 फरवरी 2014 को सुप्रीम कोर्ट के जज का कार्यभार संभाल

3. जस्टिस इंदिरा बनर्जी
जन्मतिथि - 24 सितंबर 1957
जन्म स्थान- कोलकाता
पूर्व पद - चीफ जस्टिस मद्रास हाईकोर्ट
सुप्रीम कोर्ट जज- 6 अगस्त 2018 से अभी तक

- शुरुआती पढ़ाई कोलकाता के लोरेटो हाउस में हुई.
- कोलकाता के प्रसिद्ध प्रेसिडेंसी कॉलेज से ग्रेजुएशन किया.
- कानून की पढ़ाई के लिए कोलकाता लॉ यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया.
- 5 जुलाई 1985 को इंदिरा वकील बनीं और कोलकाता में निचली अदालत और हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की.
- क्रिमिनल लॉ के अलावा उन्होंने दूसरे सभी तरह के केस लड़े हैं.
- 5 फरवरी 2002 को इंदिरा कोलकाता हाईकोर्ट की स्थायी जज बन गईं.
- 2016 में वो दिल्ली हाई कोर्ट में आई
- 5 अप्रैल 2017 को उन्होंने मद्रास हाई कोर्ट की चीफ़ जस्टिस के तौर पर कार्यभार संभाला.
- जस्टिस इंदिरा बनर्जी सुप्रीम कोर्ट की जज बनने वाली आठवीं महिला हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 24, 2019, 8:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...