होम /न्यूज /राष्ट्र /एक गीत से हर दिल अजीज बने कुमार विश्‍वास, ऐसी है लाइफ

एक गीत से हर दिल अजीज बने कुमार विश्‍वास, ऐसी है लाइफ

‘वी द नेशन’ वीडियो ने आग में घी का काम किया

‘वी द नेशन’ वीडियो ने आग में घी का काम किया

कुमार के पिता उन्‍हें इंजीनियर बनाना चाहते थे लेकिन कुमार को जैसे मशीनों में विश्वास ही नहीं था. उन्होंने बीच में ही इं ...अधिक पढ़ें

    ‘कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है! मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है! मैं तुझसे दूर कैसा हूं, तू मुझसे दूर कैसी है! ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है...!’

    कुमार विश्‍वास की लिखी और पढ़ी गई प्‍यार की इन लाइनों को आपने भी गुनगुनाया होगा. लेकिन, आजकल ‘आप’ नेताओं को कुमार की जुबां से निकली बातों से ज्यादा कड़वा कुछ नहीं लग रहा.

    कौन हैं कुमार विश्‍वास
    आम आदमी पार्टी में भूचाल लाने वाले कुमार विश्वास का जन्‍म 10 फरवरी 1970 को उत्‍तर प्रदेश, गाजियाबाद के पिलखुआ कस्‍बे में हुआ था. उन्‍होंने शुरुआती शिक्षा इसी कस्‍बे के लाला गंगा सहाय विद्यालय से हासिल की. बारहवीं तक की पढ़ाई राजपूताना रेजिमेंट इंटर कॉलेज से की.

    kumar vishwas, aap conflict कुमार विश्वास

    एक डिग्री कॉलेज में प्रवक्‍ता उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा चाहते थे कि कुमार इंजीनियर बनें. लेकिन, कुमार को जैसे मशीनों में विश्वास ही नहीं था. उन्होंने बीच में ही इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दी.

    फिर हिन्दी साहित्य में पोस्‍ट ग्रेजुएट किया. ‘कौरवी लोकगीतों में लोकचेतना’ विषय पर पीएचडी की. इसके बाद 1994 में राजस्थान के एक डिग्री कॉलेज में प्रवक्ता के रूप में उन्‍होंने अपना करियर शुरू किया. लेकिन आम जनता में मशहूर हुए अपनी कविता ‘कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है...’ से.

    कुमार अगस्त 2011 के दौरान जनलोकपाल आंदोलन के लिए गठित 'टीम अन्ना' के एक सक्रिय सदस्य रहे हैं. वे आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं. वह अमेठी से लोकसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं.

    aap conflict कुमार विश्वास

    शुरू से ही प्रतिभाशाली और आत्‍मविश्‍वासी हैं कुमार
    कुमार के गीतकार साथी दिनेश रघुवंशी कहते हैं कि वह विश्‍वास को 1982 से जानते हैं. कुमार शुरू से ही अत्‍यंत प्रतिभाशाली और आत्‍मविश्‍वासी व्‍यक्‍ति हैं. वह शुरू से ही ऊंचे सपने देखते हैं. कभी छोटी बात नहीं की. अब वह सच बोल रहे हैं. आम आदमी पार्टी को आइना दिखा रहे हैं तो हंगामा हो रहा है.

    रघुवंशी बताते हैं कि डॉ. विश्वास हिन्दी कविता मंच के सबसे व्यस्त कवियों में से एक हैं. उन्‍होंने देश-विदेश में हजारों मंच संचालन और कविता पाठ किए हैं. मुशायरों में शिरकत की है. खास बात यह है कि कुमार सही समय पर चोट करते हैं.

    कुमार के दोस्त का मानना है कि वह पुराने दोस्‍तों और पुराने दिनों को नहीं भूलते. उन्‍होंने अपने लेखन और वाणी से नाम कमाया है न कि किसी राजनीतिक पार्टी से. इसीलिए उनके बेबाक बोल हैं.

    यहां सुनें कुमार विश्वास की मशहूर शायरी 'कोई दीवाना कहता है'

    " isDesktop="true" id="982222" >

    इन्‍हें भी पढ़ें:

    कुमार विश्वास का शाजिया इल्मी को किया ट्वीट 3 साल बाद वायरल, क्या है वजह

    गोपाल राय बने दिल्ली में ‘आप’ के संयोजक

    Tags: AAP, Arvind kejriwal

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें