होम /न्यूज /राष्ट्र /

अलवर लिंचिंग: धरने पर बैठे अकबर के परिजन, शव दफन करने से किया इनकार

अलवर लिंचिंग: धरने पर बैठे अकबर के परिजन, शव दफन करने से किया इनकार

अकबर खान की हत्या के विरोध में धरना देते परिजन

अकबर खान की हत्या के विरोध में धरना देते परिजन

अकबर के साथ कथित मारपीट के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है और तीन अन्य लोगों की पहचान कर ली गई है.

    राजस्थान के अलवर में पीट-पीटकर मारे गए 28 वर्षीय अकबर खान के परिजन और पड़ोसी धरने पर हैं. उन्होंने अकबर को सुपुर्द-ए-खाक करने से इनकार कर दिया है. हरियाणा के नूंह जिले के कोलगांव  में सड़क पर अकबर का शव रखकर सभी धरना दे रहे हैं. कुछ गांव वाले राजस्थान-हरियाणा बॉर्डर पर इकट्ठा हो गए और परिवार के लिए न्याय की मांग की. अकबर खान और उसके दोस्त असलम के साथ उस समय कथित मारपीट की गई, जब वे लाडपुर गांव से खरीदी गई गायों को लेकर हरियाणा के नूह जिलें के कोलगांव लेकर जा रहे थे.

    अकबर के साथ कथित मारपीट के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है और तीन अन्य लोगों की पहचान कर ली गई है.

    CNN-News18 से बात करते हुए, अकबर की मां न ने कहा, 'मुझे अपने बेटे के लिए न्याय चाहिए जिसकी हत्या कर दी गई, जब तक न्याय नहीं किया जाता तब तक हम उसके शरीर को दफन नहीं करेंगे.'

    यह भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग पर केन्द्रीय मंत्री बोले- जितना मोदी जी फेमस होंगे, ऐसी घटनाएं उतनी ही बढ़ेंगी

    पुलिस उस जगह पर पहुंची, जहां अकबर और असलम को पीटा जा रहा था. खान का निधन अस्पताल ले जाते हुए हो गया. हालांकि, वह अभी इस घटना के बारे में पुलिस को बताने में कामयाब रहा था और उसे मारने का पांच लोगों पर आरोप लगाया था. शनिवार दोपहर पुलिस ने बताया कि खान के दोस्त असलम भीड़ से बच निकले और उनका बयान दर्ज किया जाना बाकी है.

    अलवर में हुई लिंचिंग की घटना पर केंद्रीय मंत्रियों ने टिप्पणी भी की. केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने ट्वीट कर इस घटना की निंदा की. उन्होंने कहा, ‘यह स्पष्ट है कि ऐसी (पीट कर जान लेने की) घटनाएं अगर किसी के भी साथ और कहीं पर भी हो रही हैं, तो यह गैरकानूनी और गलत काम है. जो भी वहां के प्रशासन हैं, उन्हें तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए.’

    यह भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग: देशभर में बदनाम हुआ अलवर, सवा साल में चौथा मामला

    राठौड़ ने कहा, ‘मैंने खुद वहां (अलवर) के अधिकारियों से बात की है. दो व्यक्ति गिरफ्तार हो चुके हैं और बाकी की तलाश जारी है. ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए और उदाहरण बनाया जाना चाहिए. अगर आपको किसी से कोई दिक्कत है तो आप कानून के तहत काम करें, कानून को आप हाथ में नहीं ले सकते.’

    बीजेपी के सहयोगी दल लोजपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी इस घटना की निंदा की और राज्य सरकार से अपराधियों के खिलाफ अविलंब कार्रवाई करने की बात कही.

    यह भी पढ़ें: कोटा में दुष्कर्मी पिता को आजीवन कारावास, 18 दिन में आया फैसला

     

    Tags: Haryana news, Rajasthan news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर