Home /News /nation /

केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा- कोरोना टेस्ट निगेटिव, एहतियाती तौर पर घर में हूं

केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा- कोरोना टेस्ट निगेटिव, एहतियाती तौर पर घर में हूं

केंद्रीय मंत्री मुरलीधरन ने एहतियाती तौर पर सामाजिक दूरी बना ली है और वह कॉरन्टाइन में हैं. (File Photo)

केंद्रीय मंत्री मुरलीधरन ने एहतियाती तौर पर सामाजिक दूरी बना ली है और वह कॉरन्टाइन में हैं. (File Photo)

Coronavirus: केरल (Kerala) से भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेता मुरलीधरन (V Murlidharan) ने एहतियात के तौर पर खुद को अपने दिल्ली (Delhi) स्थित आवास पर अलग-थलग रखने का विकल्प चुना है.

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले पूरी दुनिया समेत भारत में तेजी से बढ़ रहे हैं सरकार की ओर से नए मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए तमाम तरह के एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं. भारत में ये वायरस अब तक तीन लोगों की जान ले चुका है. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच खबर सामने आई है कि केंद्र सरकार के एक मंत्री को भी इस वायरस से संक्रमित होने का शक था, जिसके चलते उन्होंने खुद को कॉरन्टाइन कर लिया था. अब मंत्री ने खुद इस बात का खुलासा किया है कि उनका टेस्ट निगेटिव आया है.

    केंद्र की मोदी सरकार में विदेश राज्यमंत्री और संसदीय कार्यमंत्री वी मुरलीधरन (V Murlidharan) ने मंगलवार को ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. मुरलीधरन ने ट्वीट किया कि- "पिछले शनिवार मैंने एक मेडिकल इंस्टीट्यूट के रिसर्च डिपार्टमेंट का दौरा किया था जहां से बाद में कोरोना वायरस का एक पॉजिटिव केस सामने आया था. ऐसे में एहतियात के एक उपाय के रूप में मैं तब से घर में कॉरन्टाइन में हूं. मेरा टेस्ट निगेटिव आया है.

    पैनिक को न. एहतियात को हां"



    अस्पतान ने कहा संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए थे मंत्री
    विदेश राज्य मंत्री 14 मार्च को तिरुवनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (एससीटीआईएमटी) गए थे. सूत्रों ने बताया कि केरल से भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरलीधरन ने एहतियात के तौर पर खुद को अपने दिल्ली स्थित आवास पर अलग-थलग रखने का विकल्प चुना है. हालांकि, एससीटीआईएमटी निदेशक डॉ आशा किशोर ने कहा कि मंत्री संक्रमित डॉक्टर के संपर्क में आए थे, ये खबरें “पूरी तरह गलत” हैं. उन्होंने पीटीआई-भाषा को बताया कि रेडियोलॉजी विभाग के संक्रमित डॉक्टर में कोई लक्षण नजर नहीं आए थे और उन्हें कोरोना वायरस प्रकोष्ठ ने क्लीन चिट दी थी. वह 10 या 11 मार्च के बाद से घर में ही अलग रह रहे थे.

    निदेशक ने बताया कि मंत्री के साथ मुलाकात 14 मार्च को हुई थी. केवल चार अधिकारियों ने उनसे मुलाकात की और उनमें से कोई भी संक्रमित डॉक्टर के संपर्क में नहीं आए थे. उन्होंने कहा, “मंत्री अलग वक्त में अलग इमारत में गए थे और केवल चार लोग उनसे मिले थे और यह छुट्टी का दिन था तथा कोई भी मरीज के साथ संपर्क में नहीं आया था. यह पूरी तरह गलत खबर है.”

    संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाले लोगों को रखा गया अलग
    किशोर ने कहा, “हमने सीधे मंत्री से बात की और उन्हें बताया और उन्हें इसकी जानकारी है. वह अस्पताल नहीं गए थे. संक्रमित चिकित्सक की जांच उस वक्त नहीं हुई थी और उन्हें घर में अलग रखा गया.” क्या मंत्री ने संस्थान से किसी तरह की सफाई मांगी है, यह पूछने पर निदेशक ने न में जवाब दिया.

    किशोर ने बताया, “हमने मरीज के संक्रमित पाए जाने के फौरन बाद मंत्री को सूचित किया. मंत्री किसी भी तरह संपर्क में नहीं आए. वह संपर्क की किसी परिभाषा के तहत नहीं आते. उन्हें भी इसकी सूचना दे दी गई.” संक्रमित डॉक्टर से सीधे संपर्क में आए 20 से 25 डॉक्टरों समेत संस्थान के कम से कम 76 कर्मचारियों को पृथक रखा गया है.

    संक्रमित डॉक्टर फिलहाल तिरुनवंतपुरम के जनरल हॉस्पिटल के अलग वार्ड में निगरानी में हैं.

    (भाषा के इनपुट के साथ)

    ये भी पढ़ें-
    ब्रिटेन और यूरोप जाने वाली एयर इंडिया की सभी फ्लाइट्स 19 से 31 मार्च तक रद्द

    Coronavirus: क्या वाकई 'वर्क फ्रॉम होम' ज्यादा फायदेमंद हैundefined

    Tags: BJP, Corona Virus, Kerala, Modi government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर