Home /News /nation /

Amar Jawan Jyoti: शहीदों की याद में 5 दशकों से जल रही अमर जवान ज्योति, अब राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में होगी समाहित

Amar Jawan Jyoti: शहीदों की याद में 5 दशकों से जल रही अमर जवान ज्योति, अब राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में होगी समाहित

समारोह में जलती हुई अग्नि के कुछ हिस्से को इंडिया गेट से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में जल रही ज्वाला तक ले जाया जाएगा. (फाइल फोटो: Shutterstock)

समारोह में जलती हुई अग्नि के कुछ हिस्से को इंडिया गेट से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में जल रही ज्वाला तक ले जाया जाएगा. (फाइल फोटो: Shutterstock)

Amar Jawan Jyoti: अमर जवान ज्योति की स्थापना उन भारतीय सैनिकों की याद में की गई थी जोकि 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए थे. इस युद्ध में भारत की विजय हुई थी और बांग्लादेश का गठन हुआ था. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को इसका उद्घाटन किया था. इंडिया गेट स्थित पर अमर जवान ज्योति पर सभी सैनिकों के सम्मान में एक स्मारक है, जहां संगमरमर पर राइफल और सैनिक का हैलमेट लगा हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. भारत के वीर सपूतों की याद में बीते 50 सालों से इंडिया गेट पर जल रही अमर जवान ज्योति (Amar Jawan Jyoti) का राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के साथ विलय होने जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने साल 2019 में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया था. शुक्रवार को आयोजित होने वाले कार्यक्रम में अग्नि को नए स्थान तक ले जाया जाएगा. गणतंत्र दिवस से पहले सैन्य अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि करते हैं.

शुक्रवार दोपहर होने वाले समारोह में जलती हुई अग्नि के कुछ हिस्से को इंडिया गेट से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में जल रही ज्वाला तक ले जाया जाएगा. इसके बाद इंडिया गेट पर ज्वाला को बुझा दिया जाएगा. इंडिया गेट के पास स्थित राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का निर्माण 40 एकड़ से ज्यादा इलाके में हुआ है और आजाद भारत के लिए शहीद होने वाले 26 हजार से ज्यादा भारतीय सैनिकों का नाम दर्ज है. यहां एक राष्ट्रीय युद्ध संग्रहालय भी है.

यह भी पढ़ें: IAS (Cadre) Rules: आईएएस कैडर नियम 1954 में क्या संशोधन करना चाहता है केंद्र, क्यों ममता बनर्जी को है आपत्ति?

भाषा के अनुसार, अमर जवान ज्योति की स्थापना उन भारतीय सैनिकों की याद में की गई थी जोकि 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए थे. इस युद्ध में भारत की विजय हुई थी और बांग्लादेश का गठन हुआ था. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को इसका उद्घाटन किया था. इंडिया गेट स्थित पर अमर जवान ज्योति पर सभी सैनिकों के सम्मान में एक स्मारक है, जहां संगमरमर पर राइफल और सैनिक का हैलमेट लगा हुआ है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, आधिकारिक सूत्रों ने पहले कहा था कि अलग-अलग युद्धों में देश के लिए जान गंवाने वाले सैन्य कर्मियों को श्रद्धांजलि देने के लिए कोई युद्ध स्मारक नहीं था, इसलिए इंडिया गेट पर यह ज्वाला थी. अब जब यहां एक समर्पित संग्रहालय है, तो ज्वाला को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की ज्वाला के साथ मिलाया जाएगा.

Tags: Indian army, Narendra modi

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर