Amazon ने महाराष्ट्र पर किया ऐसा ट्वीट, सोशल मीडिया पर हो गई फज़ीहत

गलती का अहसास होने पर कुछ देर में ही ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया, लेकिन इसका स्क्रीन शॉट अब वायरल हो रहा है.
गलती का अहसास होने पर कुछ देर में ही ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया, लेकिन इसका स्क्रीन शॉट अब वायरल हो रहा है.

गलती का पता लगते ही अमेजॉन हेल्प (Amazon) की तरफ से ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया है. वहीं सम्राट चौधरी के इस ट्वीट थ्रेड पर कई मजेदार कमेंट्स आ रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 10:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र में चल रही सियासी गहमागहमी पर सबकी नज़र बनी हुई है. इसी मुद्दे पर एक ट्वीट को लेकर ऑनलाइन शॉपिंग साइट अमेजॉन (Amazon) का सोशल मीडिया पर मज़ाक बन गया. दरअसल, महाराष्ट्र में चल रहे सियासी उठापटक को लेकर पेशे से कॉलमनिस्ट सम्राट चौधरी ने एक मज़ाकिया ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने अमेजॉन का जिक्र किया. अमेजॉन बॉट ने इसे कस्टमर की शिकायत समझ लिया और इस पर रिप्लाई कर दिया. हालांकि, गलती का अहसास होने पर कुछ देर में ही ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया, लेकिन इसका स्क्रीन शॉट अब वायरल हो रहा है.

दरअसल, सम्राट चौधरी के ट्विटर हैंडल (@MrSamratX) से महाराष्ट्र को लेकर एक ट्वीट किया गया. उन्होंने न्यूज़ एजेंसी ANI के एक ट्वीट को रि-ट्वीट करते हुए लिखा, '7 दिनों में क्या हो सकता है?' सम्राट चौधरी ने इसके कुछ देर बाद मज़ाकिया लहजे में एक और ट्वीट किया- 'अमेजॉन पर ऑर्डर दिया गया है, लेकिन अभी तक डिलिवरी नहीं हुई.' यहां ऑर्डर से उनका मतलब विधायकों से था. हालांकि, अमेजॉन बॉट ने इसे कस्टमर की शिकायत समझ लिया.

इसके बाद अमेजॉन हेल्प की तरफ से रिप्लाई किया गया, 'डिलिवरी नहीं होने से आपको जो असुविधा हुई है, उसके लिए हम माफी चाहते हैं. क्या आप अपने ऑर्डर के बारे में कुछ बताना चाहेंगे? हमें आपकी मदद करके खुशी होगी.'
हालांकि, गलती का पता लगते ही अमेजॉन हेल्प की तरफ से ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया है.सम्राट चौधरी के इस ट्वीट थ्रेड पर कई मजेदार कमेंट्स आ रहे हैं. @Shruti_Mirror हैंडल से ट्वीट किया गया- 'बीजेपी को और वक्त की जरूरत नहीं है. पार्टी अभी से 170 प्लस विधायकों के समर्थन का दावा कर रही है.'



महाराष्ट्र में 23 नवंबर को हुआ बड़ा उलटफेर
दरअसल, महाराष्ट्र में 23 नवंबर की सुबह सबसे बड़ा उलटफेर हुआ. राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने सुबह 5:47 मिनट पर राष्ट्रपति शासन हटा लिया. इसके बाद देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

तीनों दलों ने अदालत से तुरंत फ्लोर टेस्ट की मांग की है, जबकि महाराष्ट्र की ओर से पेश हुए मुकुल रोहतगी ने दलील दी कि राज्यपाल ने बहुमत साबित करने के लिए 14 दिन की मोहलत दी है.

सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद सोमवार को फैसला सुरक्षित रख लिया. कोर्ट आज 10:30 बजे अपना फैसला सुनाएगा.

ये भी पढ़ें: आदित्य ने ली सोनिया गांधी के नाम की शपथ, BJP का तंज- ये दिखाता है उनका हिंदुत्व कितना खोखला

महाराष्ट्र: हयात होटल में कांग्रेस, NCP और शिवसेना ने सजाई 'मिनी असेंबली', जानें महापरेड की बड़ी बातें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज