Home /News /nation /

India-China Rift: चीन की हिमाकत नाकाम, सेना ने पैंगोंग के विवादित क्षेत्र में किया पूरी तरह से कब्जा- रिपोर्ट

India-China Rift: चीन की हिमाकत नाकाम, सेना ने पैंगोंग के विवादित क्षेत्र में किया पूरी तरह से कब्जा- रिपोर्ट

पैगॉन्ग त्सो झील के दक्षिणी हिस्से में स्थित एक चोटी पर चीन कब्जा करना चाहता है, क्योंकि यह रणनीतिक लिहाज से काफी अहम मानी जाती है.

पैगॉन्ग त्सो झील के दक्षिणी हिस्से में स्थित एक चोटी पर चीन कब्जा करना चाहता है, क्योंकि यह रणनीतिक लिहाज से काफी अहम मानी जाती है.

India-China Faceoff : रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय सेना (Indian Army) ने पैंगोंग की झड़प वाली विवादित जगह पर कब्जा कर लिया है. सूत्रों ने यह भी बताया कि हमने मुश्किल समझे जाने वाले स्पांगुर गैप, स्पांगुर झील और इसके किनारे की चीनी सड़क पर भी कब्जा कर लिया है. सूत्रों ने यह भी स्पष्ट किया कि इस क्षेत्र में चीनी आक्रामकता के जवाब में सेना ने रक्षात्मक कार्रवाई की.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली/लद्दाख. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के लद्दाख (Ladakh) में 29 और 30 अगस्त की आधी रात को भारतीय सेना ने चीन की साजिश को नाकाम कर दिया. भारतीय सेना (Indian Army) ने पैंगोंग झील (Pangong Lake) के दक्षिणी हिस्से में मौजूद एक अहम चोटी पर कब्जा कर लिया. रिपोर्ट के मुताबिक, इस विवादित चोटी पर अब भारतीय सेना का प्रभुत्व हो गया है.

    NDTV ने अपनी एक रिपोर्ट में सेना के सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी. रिपोर्ट में कहा गया है कि चुशुल में चीन और भारत के बीच ब्रिगेड कमांडर लेवल की बातचीत का दूसरा फेज जारी है. उधर, भारतीय सेना ने पैंगोंग में झड़प वाली विवादित जगह पर कब्जा कर लिया है. सूत्रों ने यह भी स्पष्ट किया कि इस क्षेत्र में चीनी आक्रामकता के जवाब में सेना ने रक्षात्मक कार्रवाई की.

    रिपोर्ट में सेना के सूत्रों के हवाले से यह भी कहा गया है कि चोटियों पर हमारे जवान इसलिए काबिज हैं, क्योंकि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को लेकर भारत की स्थिति एकदम साफ है. सूत्रों ने यह भी बताया कि हमने मुश्किल समझे जाने वाले स्पांगुर गैप, स्पांगुर झील और इसके किनारे की चीनी सड़क पर भी कब्जा कर लिया है.




    चीन ने 29-30 अगस्त की रात की थी घुसपैठ की कोशिश
    दरअसल, रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान जारी कर चीन की घुसपैठ के बारे में बताया था. बयान के मुताबिक 29-30 अगस्त की रात चीन के करीब 500 सैनिकों ने एक पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी, जिन्हें भारतीय सेना ने खदेड़ दिया था. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि हमारी सेना शांति चाहती है, लेकिन अपनी सीमाओं की सुरक्षा करना भी जानते हैं.

    India-China Faceoff: पैगोंग झील के पास PLA से झड़प के बाद सेना को LAC पर बड़े तनाव की आशंका

    रणनीतिक लिहाज से काफी अहम है ये चोटी
    रिपोर्ट के मुताबिक, पैंगोंग सो झील के दक्षिणी हिस्से में स्थित इस चोटी पर चीन कब्जा करना चाहता है, क्योंकि यह रणनीतिक लिहाज से काफी अहम मानी जाती है. पीएलए की इस हिमाकत से साफ है कि चीन अपनी धारणा के तहत एलएसी पर यथास्थिति को बदलने की कोशिश कर रहा है.

    बैठकों का दौर भी जारी
    लद्दाख में चीनी घुसपैठ की ताजा घटनाक्रम के बीच आर्मी अफसर लगातार दूसरे दिन मीटिंग कर रहे हैं. दोनों देशों के ब्रिगेड कमांडर लेवल के अधिकारी चर्चा में शामिल हैं. ये मीटिंग चुशूल सेक्टर में नियंत्रण रेखा से 20 किलोमीटर दूर स्थित मोल्दो में हो रही है.

    इन इलाकों से पीछे नहीं हट रहा है चीन
    कई राउंड की बातचीत के बावजूद चीन पूर्वी लद्दाख के फिंगर एरिया, देप्सांग और गोगरा इलाकों से पीछे नहीं हट रहा. चीन के सैनिक 3 महीने से फिंगर एरिया में जमे हुए हैं. अब उन्होंने बंकर बनाने और दूसरे अस्थायी निर्माण करने भी शुरू कर दिए हैं.

    Tags: India-china face-off, India-China LAC dispute, Indian army

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर