India-Nepal Border Tension: नेपाल ने अब बिहार के इस हिस्से पर ठोका दावा, रोका बांध का काम

India-Nepal Border Tension: नेपाल ने अब बिहार के इस हिस्से पर ठोका दावा, रोका बांध का काम
नेपाल ने बिहार के पूर्वी चंपारण के ढाका अनुमंडल स्थित बलुआ गुआबारी पंचायत के पास लालबकेया नदी पर बांध की मरम्‍मत का काम रुकवा दिया है. (PTI)

एजेंसी के मुताबिक, नेपाल ने बिहार के पूर्वी चंपारण के ढाका अनुमंडल स्थित बलुआ गुआबारी पंचायत के पास लालबकेया नदी पर बांध की मरम्‍मत का काम रुकवा दिया है. नेपाल का कहना है कि यह बांध लालबकेया नदी (Red Bakaya River) पर पहले से ही है. इस घटना से नेपाल व भारत में नया तनाव पैदा हो गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा विवाद (Ladakh Border Tension) को लेकर तनाव जारी है. इस बीच अब नेपाल ने भी हिमाकत दिखाई है. न्यूज़ एजेंसी PTI के मुताबिक, नेपाल ने बिहार के पूर्वी चंपारण जिले की 500 मीटर जमीन पर अपना दावा पेश किया है. जिस इलाके में एक बांध का निर्माण कराया जा रहा है, उसके नो मेंस लैंड में होने का दावा करते हुए नेपाली फोर्स ने निर्माण का काम रुकवा दिया है. पूर्वी चंपारण के डीएम ने नेपाल के इस दावे पर आपत्ति जताते हुए इसकी रिपोर्ट प्रदेश सरकार को सौंपी है.

एजेंसी के मुताबिक, नेपाल ने बिहार के पूर्वी चंपारण के ढाका अनुमंडल स्थित बलुआ गुआबारी पंचायत के पास लालबकेया नदी पर बांध की मरम्‍मत का काम रुकवा दिया है. नेपाल का कहना है कि यह बांध लालबकेया नदी (Red Bakaya River) पर पहले से ही है. इस घटना से नेपाल व भारत में नया तनाव पैदा हो गया है.

ये भी पढ़ें:- नेपाल-चीन के बीच है खास सड़क, भारत के लिए बन सकती है परेशानी



क्या है विवाद?
भारत के सशस्‍त्र सीमा बल (SSB) और पूर्वी चंपारण जिला प्रशासन के अनुसार, यह विवाद भारत- नेपाल सीमा पर पीलर संख्या 345/5 और 345/7 के बीच के 500 मीटर की जमीन को लेकर है. अब तक किसी भी तरह की आापत्ति को दोनों देशों के अधिकारी बातचीत से सुलझा लेते थे, लेकिन इस बार दोनों देशों के बीच बढ़े तनाव के कारण ऐसा संभव होता नहीं दिख रहा.

2017 की बाढ़ में बांध को हुआ था नुकसान
सिंचाई विभाग के मुताबिक, लालबकेया नदी का पश्चिमी बांध 2017 में आयी बाढ़ से टूट गया था. इसकी मरम्मत पर नेपाल ने आपत्ति जताई, जिसके बाद काम रोक दिया गया. बांध बन जाए तो पूर्वी चंपारण जिले के ढाका और पताही में बाढ़ की रोकथाम करना संभव होगा.

नया नक्शा जारी कर ठोका था भारत के कुछ हिस्सों पर दावा
बीते दिनों नेपाल ने नया मैप जारी कर भारत के कुछ हिस्सों पर दावा ठोका था. नेपाल के इस नए नक्शे में भारतीय सीमा से लगे लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा जैसे रणनीतिक क्षेत्र पर दावा किया गया है. भारत ने इसपर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है और इस नक्शे को खारिज कर दिया है.

ये भी पढ़ें:- भारत के बाद अब जापान से उलझा चीन, चीनी सबमरीन को जापानी नौसेना ने खदेड़ा

नेपाली रेडियो से किए जा रहे हैं भड़काऊ प्रचार
वहीं, अब नेपाली रेडियो (FM) स्टेशन लगातार भारत के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं. नेपाल की ओली सरकार एक बड़ी साजिश के तहत भारत विरोधी गतिविधियों को हवा दे रही है. नेपाली रेडियो स्टेशन पर भारत के खिलाफ प्रचार के बीच सोशल मीडिया पर भी दोनों देशों के लोगों को भड़काने के इरादे से कई वीडियो वायरल किये जा रहे हैं. इनमें से ज्यादातर वीडियो में गाने और संगीत के जरिये कालापानी, लिपुलेख समेत कई इलाकों पर अपना दावा कर रहा है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज