Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    चीन को सबक सिखाने की तैयारी में भारत, थल-वायु सेना संयुक्त तौर पर कर रही हैं युद्धाभ्यास

    India China Standoff: भारत ने लद्दाख में तैनात किए टी-90 और टी-72 टैंक.
    India China Standoff: भारत ने लद्दाख में तैनात किए टी-90 और टी-72 टैंक.

    India-China Standoff: चीन के आक्रमक रूख को देखते हुए भारतीय सेना (Indian army) की तैयारियां भी जोरों पर हैं. चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना और वायुसेना (Indian Ari force) संयुक्त तौर पर अभ्यास कर रही है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 5, 2020, 12:42 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. लद्दाख (Ladakh) में चीनी सेना (Chinese Army) लगातार एलएसी (LAC) पर आक्रामक रूख अपनाए हुए है. शांति के तमाम वादों के बावजूद चीन पीछे हटने को तैयार नहीं है. अब वह बड़ी मात्रा में विवादित स्थल पर सैनिकों और सैन्य शस्त्रों का जमावड़ा बढ़ा रहा है. चीन के आक्रमक रूख को देखते हुए भारतीय सेना (Indian army) की तैयारियां भी जोरों पर हैं. चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना और वायुसेना (Indian Ari force) संयुक्त तौर पर अभ्यास कर रही है.

    रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख पदों के सृजन के दस महीने बाद दोनों सेनाएं पूर्वी लद्दाख सेक्टर के सामने चीनी सेना के खिलाफ संयुक्त रूप से अभ्यास कर रही हैं. इस अभ्यास में लेह के हवाई क्षेत्र में C-17s, Ilyushin-76s और C-130J सुपर हरक्यूलिस विमान देखे जा सकते हैं.

    चीनी सेना के खिलाफ कार्रवाई की योजना पर काम
    युद्ध के दौरान भारतीय सेना को राशन और अन्य सामानों की आपूर्ति सही तरीके से हो सके इसके लिए भी निर्देश दिए गए हैं. लद्दाख क्षेत्र में तैनात एक वरिष्ठ वायु सेना कमांडर ने कहा, "वायुसेना के मुख्यालय से निर्देश दिए गए हैं कि सीमा पर तैनात सेना और अन्य सुरक्षा बलों की जो भी आवश्यकताएं हैं, उन्हें पूरा किया जाना चाहिए. फ़ॉर्वर्ड एरिया में तैनात सेना के एक अधिकारी ने कहा कि इन दिनों रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख जनरल बिपिन रावत और दोनों सेनाओं के प्रमुख अक्सर चर्चा कर रहे हैं और चीनी सेना के खिलाफ कार्रवाई की योजना पर काम कर रहे हैं.
    उन्होंने कहा कि भारतीय सेना जो चीनी जवानों के खिलाफ बिल्कुल सामने तैनात है, भी नियमित रूप से भारतीय वायु सेना को अपनी वास्तविक जमीनी स्थिति के बारे में अपडेट कर रही है. और उन्होंने एलएसी पर आगे हालात बिगड़ने की स्थिति में संयुक्त रूप से कुछ ऑपरेशन की भी योजना बनाई है. भारतीय वायुसेना के पास हाल ही में आए चिनूक और अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर चीन के साथ चल रहे संघर्ष में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज