होम /न्यूज /राष्ट्र /महाराष्ट्र, दिल्ली और गुजरात ने कोरोना से निपटने के क्या किए उपाय? सुप्रीम कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट

महाराष्ट्र, दिल्ली और गुजरात ने कोरोना से निपटने के क्या किए उपाय? सुप्रीम कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट

राज्य में वायरस से संक्रमित 3,172 लोगों की मौत हुई है. (सांकेतिक फोटो)

राज्य में वायरस से संक्रमित 3,172 लोगों की मौत हुई है. (सांकेतिक फोटो)

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (Health Ministry) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश के 10 राज्यों और केंद ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Covid-19 Cases in India) के संक्रमितों की संख्या 91 लाख के पार हो चुकी है. इस बीच दिल्ली, महाराष्ट्र और गुजरात में कोरोना के रोजाना केस में बढ़ोतरी हुई है. इसके साथ ही मरने वालों की संख्या भी बढ़ी है. कोरोना की वजह से हुई मौत में शव का पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किए जाने के मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हुई. अदालत ने इस दौरान दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र सरकार से कोरोना के बढ़ते मामलों पर स्टेटस रिपोर्ट देने को कहा है. अब इस मामले में अगली सुनवाई शुक्रवार को होगी.

    जस्टिस अशोक भूषण ने कहा, 'दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में हालात ज्यादा खराब हुए हैं. हम जानना चाहते हैं कि सरकार ने कोरोना को फैलने से रोकने के लिए क्या व्यवस्था की है, उस पर विस्तार से एफीडेविट दिया जाए...' इस पर दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि हमने सभी निर्देशों का पालन किया है. कोर्ट ने कहा कि लेकिन मौजूदा हालात पर आप क्या कहेंगे. आप इस मुद्दे पर स्पष्ट स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करें. शीर्ष अदालत ने दिल्ली के साथ ही महाराष्ट्र सरकार और गुजरात सरकार को भी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है.

    वहीं, सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि यह केंद्र और दिल्ली के बीच का मामला नही हैं. 15 नवंबर को गृहमंत्री ने कुछ निर्देश और कदम उठाये हैं, लेकिन दिल्ली सरकार को और काम करने की ज़रूरत है.

    दिल्‍ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5.29 लाख से अधिक
    दरअसल, देश की राजधानी दिल्‍ली में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 6746 नए मामले सामने आए हैं. इसके साथ दिल्‍ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5.29 लाख से अधिक हो गई है. इसके अलावा पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण की वजह से 121 मरीजों की मौत हुई है. यह दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण के कारण एक दिन में मरने वालों की सबसे अधिक संख्‍या है. इसके साथ दिल्‍ली में कोरोना वायरस महामारी की वजह से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 8391 हो गया है.

    " isDesktop="true" id="3348380" >

    एक्टिव केस के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर 
    वहीं, पिछले 24 घंटों में महाराष्ट्र में 5753 नए कोरोना केस सामने आए हैं. इसके अलावा 4060 और लोग रिकवर हो चुके हैं. वहीं 50 और लोगों की कोरोना के कारण जान जा चुकी है. राज्य में अब तक 17,80,208 कोरोना मरीजों की पुष्टि हो चुकी है. कोरोना के एक्टिव केस के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर है.

    गुजरात के 4 बड़े शहरों में नाइट कर्फ्यू 
    दूसरी ओर, कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए गुजरात के 4 बड़े शहरों में नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है. अहमदाबाद, राजकोट, सूरत और वडोदरा में सोमवार रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक के लिए अनिश्चितकालीन नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया गया है. चारों शहरों में दिन और रात का कर्फ्यू पहले से जारी है, जो आज सुबह 6 बजे खत्म हो गया. सीएम विजय रूपाणी ने कल एक हाईलेवल बैठक की जिसके बाद नाइट कर्फ्य़ू का फैसला किया गया. रूपाणी ने एक वीडियो संदेश जारी कर लोगों से नाइट कर्फ्यू और कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करने की अपील की है.













    गुजरात में बेलगाम समारोहों को लेकर SC ने लगाई फटकार
    महामारी के बढ़ते मामलों के बावजूद राज्य में बेलगाम समारोहों, शादियों और कार्यक्रमों के लिए सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को फटकार लगाई. जस्टिस एम आर शाह ने कहा, 'दिल्ली और महाराष्ट्र के बाद गुजरात में हालात सबसे खराब हैं. आपकी नीति क्या है? क्या हो रहा है? यह सब क्या है?' कोर्ट ने कहा कि दिल्ली के अलावा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में गंभीर स्थिति है. लापरवाही के चलते कोविड महामारी बढ़ रही है.


    दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग पर उठे सवाल
    सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार पर टेस्टिंग को लेकर उठाए सवाल हैं. कोर्ट ने कहा कि चेन्नई और मुंबई के मुकाबले मामले बढ़े हैं. कोर्ट ने पूछा कि टेस्टिंग एक दिन में 7000 से 5000 तक कम क्यों हो गई है? जबकि मुंबई और चेन्नई में यह टेस्टिंग 15 हजार से 17 हजार हो गई है. बता दें कि दिल्ली सरकार ने खुद माना था कि कोरोना टेस्टिंग की संख्या कम हो गई है.













    Tags: Breaking news in hindi, Coronavirus in India, COVID 19, Health ministry, Supreme Court

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें