ममता NCRB को क्यों नहीं भेज रही हैं आपराधिक आंकड़े, अमित शाह ने बताई वजह

शाह ने कहा कि ममता बनर्जी को 10 साल पहले मां माटी मानुष के नारे पर वोट दिया गया था.
शाह ने कहा कि ममता बनर्जी को 10 साल पहले मां माटी मानुष के नारे पर वोट दिया गया था.

Amit shah visit west bengal: अमित शाह ने ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा. शाह ने कहा कि ममता बनर्जी को 10 साल पहले 'मां, माटी और मानुष' के नारे पर वोट दिया गया था लेकिन 10 साल में ये बातें तुष्टिकरण की सियासत में बदल गईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 8:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले पश्चिम बंगाल (West Bengal) में बीजेपी के गढ़ को मजबूत करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Ministe Amit shah) दो दिवसीय दौरे पर हैं. दो दिन के दौरे पर अमित शाह ने कई समुदायों के लोगों से मुलाकात की. आदिवासी और मटुआ समुदाय के सदस्य के घर पर खाना खाने के बाद शाह ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया.

मीडिया को संबोधित करते हुए अमित शाह ने ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा. शाह ने कहा कि ममता बनर्जी को 10 साल पहले 'मां, माटी मानुष' के नारे पर वोट दिया गया था लेकिन 10 साल में ये बातें तुष्टिकरण की सियासत में बदल गईं. इस दौरान शाह ने सोनार बांग्ला बनाने का वादा भी किया. ममता सरकार पर निशाना साधते हुए शाह ने उनसे 7 सवाल पूछे. आइए जानते हैं शाह की प्रेस कॉन्फ्रेंस की 10 बड़ी बातें...
अमित शाह ने ममता सरकार से पूछा कि बंगाल सरकार ने 2018 के बाद NCRB को राज्य में अपराध के आंकड़े क्यों नहीं भेजे. आखिर सरकार क्या छिपाना चाहती है?
शाह ने कहा कि 2018 में महिलाओं के खिलाफ अपराध में तीसरे नंबर पर बंगाल रहा है. बलात्कार, एसिड अटैक के मामलों में पहले नंबर रहा. गायब महिलाओं को ना ढूंढ पाने के मामले में देश में नंबर एक रहा.
उन्होंने कहा कि ममता दीदी क्या जवाब देंगी कि बंगाल की महिलाएं क्यों असुरक्षित हैं. ममता बनर्जी को मुझे सवाल करने के बजाय खुद चिंतन करना चाहिए.
अमित शाह ने कहा कि मैं बंगाल की जनता को आश्वस्त करने आया हूं कि आपने कांग्रेस को भी मौका दिया, कम्युनिस्टों को भी बार-बार मौके दिए और 2 मौके ममता को दिए. एक मौका नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी को दे दीजिए, हम 5 वर्ष के भीतर सोनार बांग्ला बनाने का वादा करते हैं.
अमित शाह ने कहा कि हमारा लक्ष्य स्पष्ट है कि बंगाल का विकास हो, देश की सीमाएं सुरक्षित हों, बंगाल के अंदर घुसपैठ रुके. टीएमसी और ममता बनर्जी का एकमात्र लक्ष्य है कि अगले टर्म में भतीजे को मुख्यमंत्री बना देना है. अब बंगाल की जनता को तय करना है कि परिवारवाद चाहिए या विकासवाद चाहिए.
गृह मंत्री टीएमसी पर जमकर बरसे. उन्होंने कहा कि साइक्लोन और कोरोना महामारी में भी भ्रष्टाचार करने से तृणमूल कांग्रेस पीछे नहीं हटी है. तुष्टिकरण से बंगाल की जनता के बहुत बड़े वर्ग के मन में सवाल खड़े हुए हैं. एक प्रकार से बंगाल में 3 कानून हैं. एक अपने भतीजे के लिए, एक अपने वोट बैंक के लिए और एक आम लोगों के लिए. ममता बनर्जी पर सवाल उठाते हुए कहा कि यहां 100 से अधिक बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या हुई. राजनीतिक हत्याओं के मामले में ममता सरकार क्या श्वेतपत्र निकाल सकेगी क्या? शाह ने कहा कि हम ममता बनर्जी सरकार से कहना चाहते हैं कि वह केंद्र की सरकार को लोगों तक पहुंचाएं.
शाह ने कहा कि आयुष्मान भारत का लाभ पश्चिम बंगाल के लोगों तक नहीं पहुंच सका है. इसके अलावा किसान सम्मान निधि के पैसे बंगाल के लोगों तक नहीं पहुंच पाए क्योंकि सरकार ने खातों की डिटेल्स नहीं दिए.
गृह मंत्री ने कहा कि जेपी नड्डा के नेतृत्व में बीजेपी बंगाल के चुनाव को बहुत गंभीरता से ले रही है. क्योंकि इसके साथ देश की सुरक्षा भी जुड़ी है और अति पिछड़े गरीब लोगों के भले का भी सवाल है. दोनों मुद्दों को लेकर हम जनता के बीच जाएंगे.
शाह ने कहा कि बंगाल की जनता में एक अजीब प्रकार का वातावरण दिख रहा है. मैं जहां भी गया तो सैकड़ों लोग आए थे. जब वो भारत माता की जय, वंदे मातरम, जय श्रीराम के नारे लगाते थे, वो हमारे स्वागत में कम, ममता सरकार के प्रति गुस्से को ज्यादा दिखाते थे.
उन्होंने कहा कि मैं निश्चित रूप से कहता हूं कि आने चुनाव में बंगाल में हम 200 से ज्यादा सीटों के साथ बीजेपी की सरकार बनाने जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज