Home /News /nation /

अमित शाह ने बताया परिवारवाद का अनोखा मतलब, कहा- भाजपा इसके खिलाफ

अमित शाह ने बताया परिवारवाद का अनोखा मतलब, कहा- भाजपा इसके खिलाफ

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को नेटवर्क 18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि उनकी पार्टी हमेशा परिवारवाद के खिलाफ रही है. साथ ही उन्होंने परिवारवाद की अलग परिभाषा बताई.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को नेटवर्क 18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि उनकी पार्टी हमेशा परिवारवाद के खिलाफ रही है. साथ ही उन्होंने परिवारवाद की अलग परिभाषा बताई.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को नेटवर्क 18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि उनकी पार्टी हमेशा परिवारवाद के खिलाफ रही है. साथ ही उन्होंने परिवारवाद की अलग परिभाषा बताई.

    उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सीनियर नेताओं के बच्चों को टिकट दिए जाने के बाद भी भारतीय जनता पार्टी ने परिवारवाद के आरोप से इनकार किया है. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को नेटवर्क 18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि उनकी पार्टी हमेशा परिवारवाद के खिलाफ रही है. साथ ही उन्होंने परिवारवाद की अलग परिभाषा बताई.

    अमित शाह से सवाल पूछा गया, 'आपने परिवारवाद की बात की, मोदीजी ने भी भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से इस बार अपील की थी कि वे अपने रिश्तेदारों के लिए टिकट न मांगें, उसके बाद भी आप लोगों को काफी टिकट बांटने पड़े ?

    भाजपा में अपनी काबिलियत से बढ़ते हैं नेता

    जवाब देते हुए अमित शाह ने कहा कि हम जिस परिवारवाद की बात करते हैं उसकी व्याख्या भी स्पष्ट कर देता हूं. मुलायम सिंह यादव के बाद अखिलेश बाकी सारे नेताओं को दरकिनार कर मुख्यमंत्री बनते हैं, ये परिवारवाद है. फारुख अब्दुल्ला जी के बाद इनके बेटे मुख्यमंत्री बनते हैं, ये परिवारवाद है. जवाहर लाल नेहरु, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी ये परिवारवाद है. किसी नेता का बच्चा चुनाव लड़ता है वह एमएलए बनेगा, एमपी बनेगा, सालों तक काम करेगा मगर मख्यमंत्री नहीं बन सकेगा, अगर उसमें काबलियत नहीं है. ये केवल भाजपा में देखने को मिलता है.

    भाजपा में कभी परिवारवाद आ नहीं सकता

    उन्होंने कहा कि आप परिवारवाद की व्याख्या इतनी सरल मत कर दीजिए. देश में कोई कन्‍फ्यूजन नहीं है. राहुल गांधी को अगर बेटा या बेटी होती है तो इसमें कोई कन्‍फ्यूजन नहीं है कि​ अगला कांग्रेस अध्यक्ष कौन होगा. क्‍या आप बता सकते हैं कि​ बीजेपी का अगला अध्यक्ष कौन होगा? ये अंत​र है भाजपा और बाकी परिवारवादी पार्टियों के बीच में. एक आदमी गरीब घर से उठकर देश का प्रधानमंत्री बन जाता है, मेरे जैसा बूथ कार्यकर्ता भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाए, ऐसी पार्टी में कभी भी परिवारवाद नहीं आ सकता.

    टिकट बंटवारे के बाद मचा यूपी भाजपा में घमासान

    गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह को नोएडा, सांसद हुकुम सिंह की बेटी को कैराना सहित कई बड़े नेताओं के बच्चों को टिकट दिया गया है. टिकट बंटवारे के बाद भाजपा में मचे घमासान के बीच परिवारवाद का आरोप लगाया जाने लगा था.

    Tags: Amit shah, BJP

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर