होम /न्यूज /राष्ट्र /EXCLUSIVE: हिजाब विवाद, CAA से लेकर UP चुनाव जैसे सभी ज्वलंत मुद्दों पर अमित शाह की बेबाक राय, सिर्फ News18 पर

EXCLUSIVE: हिजाब विवाद, CAA से लेकर UP चुनाव जैसे सभी ज्वलंत मुद्दों पर अमित शाह की बेबाक राय, सिर्फ News18 पर

Amit Shah Interview: भाजपा ने यूपी चुनाव में मुसलमानों को टिकट क्यों नहीं दिया, जानिए गृह मंत्री अमित शाह ने क्या दिया इसका जवाब.

Amit Shah Interview: भाजपा ने यूपी चुनाव में मुसलमानों को टिकट क्यों नहीं दिया, जानिए गृह मंत्री अमित शाह ने क्या दिया इसका जवाब.

Amit Shah Exclusive Interview with News18: देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव, ध्रुवीकरण की राजनीति, हिजाब विवाद, स ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव, ध्रुवीकरण की राजनीति, हिजाब विवाद, सीएए का मुद्दा, कोरोना की बदहवासी, आतंकवाद, सीएए, यूनिफॉर्म सिविल कोड, यूपी चुनाव में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा का प्रदर्शन जैसे कई ऐसे विचारोत्तेजक मुद्दे हैं जिन पर इस समय पूरे देश में चर्चा चल रही है. इन सारे मुद्दों पर Network18 के एमडी और ग्रुप एडिटर इन चीफ राहुल जोशी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से EXCLUSIVE बात की. गृह मंत्री अमित शाह ने इस सभी मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखी. इंटरव्यू में गृह मंत्री ने हिजाब विवाद पर पहली बार अपनी राय रखी. उन्होंने कहा कि उनके विचार से स्कूल के ड्रेस कोड को सभी धर्म के लोगों को मानना चाहिए. उन्होंने कहा कि फिलहाल यह मामला कोर्ट में है. कोर्ट जो फैसला दे उसे मानना चाहिए. यहां पढ़िए पूरी बातचीत…

  • यूपी में 300+ का नारा देने के पीछे मंशा क्या?

    जब उत्तर प्रदेश में हमारी जन विश्वास यात्रा शुरू हुई, विजय संकल्प रैलियां हुईं, मैं पूरे उत्तर प्रदेश का दौरा कर आपके सामने बैठा हूं. यूपी में बड़े बहुमत के साथ बीजेपी की सरकार बनने जा रही है. योगी जी के नेतृत्व में जनता का मन जीतने में भाजपा सफल हुई है. प्रधानमंत्री जी की लोकप्रियता भी बढ़ी है. मुझे विश्वास है कि यूपी चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए बहुत अच्छे आएंगे. विजय की बाउंड्री बीजेपी के लिए जनता लगाएगी. भाजपा यूपी की जनता का भरोसा जीत चुकी है.
  • सर्वे में 230 से 260 सीट के बीच बीजेपी को मिल रही हैं?

    2017 के सर्वे का औसत 238 था. हमें 325 सीटें मिलीं. कई बार परसेप्शन बहुत महत्वपूर्ण रहता है. सारे सर्वे करने वाले अपनी क्रेडिबिलिटी को सर्वे के साथ जोड़ते हैं. सर्वे करने वाले को जनता जो बताती है वो सच हो, ऐसा जरूरी नहीं है. कौन लोग हैं कहां से आएं हैं ये सोचकर जनता सर्वे वाले के सामने चुप हो जाती है. वो लोग सही चीज नहीं बताते हैं.
  • आप कौन से बड़े मुद्दों के साथ जनता के बीच गए?

    चार ऐसे मुद्दे हैं जिसके कारण पिछले 3 चुनावों से UP की जनता बीजेपी के साथ है. इस बार सबसे बड़ा मुद्दा लॉ एंड ऑर्डर, गरीब कल्याण, तीसरा है यूपी का विकास फिर चाहे तो पानी का मुद्दा हो, इन्फ्रास्ट्रक्चर का मुद्दा है. मूलभूत सुविधाएं देना इस बार हमारा मुद्दा है. बीजेपी ने एडमिनिस्ट्रेशन में बड़ा परिवर्तन किया है. यह भी बहुत बड़ा मुद्दा है. लोगों को ऐसा मालूम कराने में सफल हुए है कि उनकी सुनवाई हुई है. क्योंकि पिछली सरकारें जातिवाद के आधार पर चलीं थीं. सरकारों में उनकी जातियों का काम होता था. पहली सरकार आती थीं वो अपनी जाति का काम करती थीं, दूसरी सरकार दूसरी जाति का काम करती थी. जनता को कहीं से न्याय मिलने की उम्मीद खत्म हो गई थी. मोदी जी की सरकार आने के बाद यह उम्मीद बनी है और बड़ा बदलाव हुआ है.
  • बीजेपी के लिए सबसे बड़ा मुद्दा लॉ एंड ऑर्डर है?

    मैं यूपी के हर जिला हर ब्लॉक में गया हूं. पहले थाने में FIR नहीं होती थी, अब FIR होती है. एसपी सरकार में एक धर्म विशेष को छूट मिलती थी. पश्चिमी यूपी में पहले किसानों के घर के सामने बंधी हुई भैंस खोलकर ले जाते थे कोई उफ तक नहीं करता था. मेरठ से लोग पलायन करने को मजबूर थे. करोड़ों की जमीन पर गुंडे कब्जा करके बैठ गए थे. योगी सरकार में डकैती में 72% की कमी आई है. लूट में 62%, रेप में 50% की कमी आई है. यह बहुत बड़ा मुद्दा यूपी में खत्म हो रहा है. आजम, अतीक अहमद, मुख्तार एक साथ जेल में हैं. पहले जो परेशान करते थे, वो आज बेचारे बनकर जेल की रोटी तोड़ रहे हैं. पहले हर जिले में माफिया होते थे आज एक भी जिले में बाहुबली नहीं है. हमने करीब 2000 करोड़ की संपत्ति माफियाओं से छुड़ाई है. मैं मानता हूं कि यह बहुत बड़ी उपलब्धि है. यूपी की जनता भी इसे मानती है. कुछ दिन पहले की बात है मैं कानपुर के एक होटल में ठहरा था. रात को 12 बजे भी मैंने बच्चियों को कानपुर की सड़क पर स्कूटी से जाते हुए देखा है.
  • प्रधानमंत्री ने कहा एसपी-बीएसपी के राज में आतंकियों को छोड़ दिया जाता था?

    SP-BSP के समय 11 मामलों में ढील दी गई थी. 11 मामलों में UAPA लगा था, वो वापस ले लिए हैं. चुनाव में SP-BSP को जनता को जवाब देना होगा. पोटा और UAPA हटाकर किसकी मदद की? सिर्फ वोटबैंक के लिए ऐसा किया गया? कांग्रेस शासनकाल में भी ऐसे बहुत मामले आए थे. आतंकवाद के मामले में जातिवादी पार्टियों का रवैया लचर रहा है. टेररिज्म के मामले में सपा-बसपा का रवैया लचर रहा है.
  • योगी जी ने 80-20 का जिक्र किया, क्या हिंदू बनाम मुस्लिम है?

    मैं नहीं मानता कि हिंदू-मुस्लिम का बंटवारा है. पोलराइजेशन जरूर हो रहा है. लेकिन गरीब, किसान भी पोलराइज हो रहा है. ढेर सारे किसानों को कल्याण निधि का पैसा मिल रहा है. वो भी पोलराइज हाे रहा है.
  • हिंदू मुसलमान पोलराइजेशन नहीं देख रहे हैं?

    वोटबैंक के हिसाब से हम नहीं देखते हैं. जिनका अधिकार, उनके साथ सरकार पर हम चलते हैं. प्रधानमंत्री की हर योजना का लोगों को लाभ मिल रहा है. पहले 2 करोड़ 62 लाख घरों में शौचालय नहीं था. हमने UP में 1 करोड़ 41 लाख घरों में बिजली पहुंचाई है. इसके अलावा 2 करोड़ 68 लाख LED बल्ब बांटे गए, 15 करोड़ गरीबों को दो साल से फ्री राशन दी, 42 लाख लोगों को आवास देने का काम हुआ. अब 2024 तक हर आदमी को घर देने का लक्ष्य है. प्रधानमंत्री की हर योजना में धर्म-जाति के बिना देखते हुए सभी को इनका फायदा मिला है. इन सभी योजनाओं को घर-घर पहुंचाने का काम योगीजी ने किया है.
  • बीजेपी मुसलमानों को टिकट क्यों नहीं देती है?

    देखिए भाजपा का मुसलमानों के साथ वैसा ही रिश्ता है कि जैसे भारत सरकार का देश के हर नागरिकों के साथ होना चाहिए. लेकिन चुनाव में वोट कौन देता है कि ये भी तो देखना पड़ता है.
  • मुस्लिमों को टिकट ना देना राजनीतिक मजबूरी है?

    यह राजनीतिक शिष्टाचार है. सरकार संविधान के आधार पर चलती है. सरकार को देश की जनता चुनती है. चुनाव जीतना भी जरूरी है. सरकार संविधान के आधार पर चलती है. और सरकार जनता के वोटों से चुनकर आती है. लेकिन इसके आधार पर उसके आधार पर जनता से भेदभाव नहीं किया जाता है.
  • कैराना में पलायन का मुद्दा आज भी है?

    पलायन का मुद्दा आज भी है. कैराना जो आए हैं वो शांति से जी रहे हैं. उन्हें अब पलायन नहीं करना पड़ रहा है. सबसे बड़ी उपलब्धि योगी सरकार की यह है कि यूपी में राजनीति का अपराधीकरण हुआ था. एडमिनिस्ट्रेशन का राजनीतिकरण हो गया था. बीजेपी सरकार में राजनीति का अपराधीकरण नहीं हुआ है. यूपी की जनता को परिवारवादी, जातिवादी राजनीति से छुटकारा मिला है. योगी सरकार ने यूपी को 8वें से दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनाया है. यूपी में बेरोजगारी दर 17.3 प्रतिशत थी, आज 4.1 प्रतिशत है. 1 करोड़ 61 लाख नौकरियों और रोजगार के नए अवसर मिले हैं. बेरोजगारी, ईज ऑफ डूइंग सभी में योगी सरकार ने तेजी से काम किया है.
  • अखिलेश कहते हैं कि बीजेपी मुद्दों से भटक रही है?

    अखिलेश यादव आंकड़ों के साथ जवाब दें तो अच्छा होगा. हम मुद्दों से भटके हैं, या वो मुद्दों से भटके हैं? कोविड के दौरान दुनियाभर में महंगाई बढ़ी है. भारत में भी उसका असर दिखाई दिया. लेकिन मोदी सरकार ने महंगाई बहुत नियंत्रित करने का काम किया है. आज कोई भी चीज दूसरे देश से आती है तो उसका असर तो पड़ता ही है. कोविड के बाद वैश्विक महंगाई बढ़ी है. लेकिन यह ज्यादा समय तक नहीं रहेगा.
  • हिजाब विवाद पर आपकी क्या राय है?

    स्कूल के ड्रेस कोड को सभी धर्म के लोगों को अपनाना चाहिए. मामला कोर्ट में है, कोर्ट जो फैसला दे उसे मानना चाहिए. मेरा व्यक्तिगत मानना है कि स्कूलों में बच्चों को धर्म से ऊपर रखना चाहिए. एक बार अदालत फैसला दे तो उसे हम सबको मानना चाहिए. अगर इसमें साजिश है तो विरोधियों की मंशा सफल नहीं होगी. ढेर सारे लोग इसमें सक्रिय है. लेकिन इनकी मंशा सफल नहीं होगी. कोर्ट का जजमेंट आने के बाद सबको इसे स्वीकार करना चाहिए.
  • जयंत चौधरी को साथ लाने की आपने कवायद की. अब क्या सोच रहे हैं?

    बीजेपी पूर्ण बहुमत से जीतने जा रही है. मैंने इतना कहा था कि जयंत गलत जगह चले गए हैं.
  • जयंत के लिए बीजेपी के रास्ते खुले हैं?

    बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है. जयंत के साथ कोई पोस्टपोल एलाएंस की जरूरत नहीं है. हमारी पार्टी का दो पार्टियों के साथ एलाएंस है. बीजेपी को किसी की जरूरत नहीं पड़ने वाली है. देखिए चुनाव में 100 प्रतिशत मतदाताओं का महत्व है. लेकिन मैं मानता हूं कि पिछड़ा समाज में बिखराव है. लेकिन मैं बताता हूं कि मोदी जी की गरीब कल्याण की योजनाओं ने तस्वीर बदल दी है. यूपी का चुनाव पूरी तरह से बीजेपी के साथ है. 70 साल तक गरीब कल्याण की सुविधा नहीं थी. 5 साल में गरीब कल्याण के लिए बेहतर काम हुआ है.
  • ये चुनाव धर्म और जाति से ऊपर उठकर होगा?

    इस सबकी कांग्रेस ने शुरुआत की, SP-BSP ने इसे गहराई दी. लेकिन अब इसमें बदलाव हो रहा है. हर चुनाव अलग होता है, समीकरण अलग होते हैं. यूपी में हमें 2019 में 65 लोकसभा सीटों में जीत मिली. राजनीति में 1+1=2 नहीं होता, कई बार 1+1=11 हो जाता है.
  • स्टेट और केंद्र का इलेक्शन अलग होता है?

    2014, 17, 19 में यूपी की जनता एक रास्ते पर चली है. यूपी की जनता बीजेपी के साथ आई है. मुझे पूरा भरोसा है कि 22 में बीजेपी की सरकार को जनता स्वीकार करेगी. मोदीजी के साथ योगी जी ने जो काम किया है वो भी हमारी बड़ी पूंजी बनेगी.
  • मायावती को आप कैसे देखते हैं, वो राजनीतिक तौर पर ज्यादा सक्रिय नहीं हैं?

    मायावती की जमीन पर अपनी पकड़ है. बीएसपी की अभी भी रिलेंवेंसी है. उन्हें वोट जरूर आएंगे. सीट में कितना कनवर्ट होगा, यह मालूम नहीं.
  • मायावती का जाटव वोटबैंक नहीं खिसकेगा?

    जाटव वोटबैंक मायावती के साथ जाएगा. मुस्लिम वोट भी बड़ी मात्रा में मायावती के साथ जाएगा. बीएसपी की रिलेवेंसी खत्म हो गई है ऐसा बिल्कुल नहीं सोचना चाहिए.
  • मायावती और बीजेपी का गठबंधन होगा?

    बीजेपी को गठबंधन की जरूरत ही नहीं है. बीजेपी पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने जा रही है. समर्थन अच्छा काम करने के लिए सबका चाहिए. एसपी का भी चाहिए, विपक्ष का भी चाहिए. सरकार बनाने के लिए किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी. यूपी में तीन वर्ग हैं. सबसे गरीब लोग बीजेपी के साथ जुड़े हैं. मध्यम वर्ग सुख शांति के लिए जुड़ा हुआ है. जिन्होंने अच्छी खासी सफलता हासिल की है वो वर्ग भी यूपी के विकास में जुड़ा है. किसानों की बात करें तो 86 लाख किसानों का ऋण माफ किया गया है. हर साल 6 हजार किसान के खाते में जाते हैं. 2 करोड़ किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड मिला है. मोदी जी किसान सम्मान निधि के 32500 करोड़ की राशि किसानों के अकाउंट में ट्रांसफर कर चुके हैं. अखिलेश जी से पूछना चाहिए कि आपके समय में गन्ना प्रदेश होने पर भी उसमें नंबर वन क्यों नहीं हुए.
  • किसान आंदोलन की वजह से किसानों में गुस्सा नहीं है?

    किसानों के बीच परसेप्शन बनाने की कोशिश हुई, लेकिन सफल नहीं हुए. किसान बीजेपी के साथ है.
  • ब्राह्मण वोटबैंक को अखिलेश यादव साथ लाना चाहते हैं इसे कैसे देखते हैं?

    मैं इसे मानता हूं कि यह मुद्दों से भटकना है. जातिवाद की बात करना, मुद्दों से भटकना ही तो है. हम तो गरीब की बात कर रहे हैं, शहरी वोटर की बात करते हैं. मध्यम वर्ग की बात कर रहे हैं. बीजेपी ने जाति की बात कभी नहीं की है.
  • चुनाव में आप ओवैसी फैक्टर को कैसे देखते हैं?

    ओवैसी जी देशभर में दौरा करते हैं. ज्यादातर मुस्लिमों को एड्रेस करते हैं. AIMIM को वोट भी मिलता है हर बार. लेकिन किसी एक घटना को लॉ एंड ऑर्डर के साथ मत जोड़िए. लॉ एंड ऑर्डर का मामला तब बनता है, जब हम कार्रवाई नहीं करते. दो घंटे में दोनों आरोपियों को पकड़कर कानून के हवाले कर दिया. हमने ओवैसी को सुरक्षा देने का फैसला लिया. सुरक्षा हर एक व्यक्ति को मिलनी चाहिए. मुस्लिमों में ओवैसी का आकर्षण तो है ही. लेकिन आगे क्या होगा जब काउंटिंग शुरू होगी तब पता चलेगा.
  • कांग्रेस और प्रियंका को आप कैसे देखते हैं?

    बंगाल में कांग्रेस की जीरो सीटें आईं हैं. कांग्रेस के भविष्य की तस्वीर बंगाल में दिखी है.
  • पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी ने तंज कसा कि किसी भइया को यहां नहीं आने देंगे सरकार बनाने के लिए?

    कांग्रेस की आदत है, हर जगह अलग-अलग बात करना. मगर मैं मानता हूं कि इस तरह के बयान स्वस्थ्य समाज के लिए यह ठीक नहीं है. अपने करियर रोजी-रोटी के लिए जिसको जहां जाना है, वो वहां जा सकता है. प्रियंका मंच पर थीं, वो वहां खुश हो रहीं थीं, जबकि दूसरे दिन ही यूपी में सम्मान की बात करती हैं.
  • राहुल का आरोप है कि चीन और पाकिस्तान बीजेपी सरकार की पॉलिसी की वजह से साथ आ गए?

    राहुल गांधी जी को देश का इतिहास मालूम नहीं है. 1962 में क्या हुआ था और कांग्रेस की गलती क्या है? चीन ने जितने भी चैलेंज खड़े किए, हर चैलेंज का मुंह तोड़ नरेंद्र माेदी जी की सरकार ने दिया गया है. चाहे गलवान घाटी का हो, चाहे पूर्व में हो हर जगह दिया है. हर जगह भारत ने अपना स्टैंड मजबूत रखा है. भारत की सीमा और भारत के सार्वभौमत्व को बनाए रखा है. मैं छाेटी सी बात राहुल जी से पूछना चाहता हूं कि आप विदेश विभाग के सारे प्रोटोकोल तोड़कर चीनी डेलीगेशन से क्या बात बातचीत कर रहे थे?
  • क्या यूपी में योगी आदित्यनाथ ही मुख्यमंत्री बनेंगे?

    निश्चित रूप से योगी के नेतृत्व में चुनाव लड़ रहे हैं. योगी आदित्यनाथ ही मुख्यमंत्री बनेंगे, चाहे जितनी सीटें आएं. यूपी में प्रचंड बहुमत आएगा. यूपी में सबसे ज्यादा युवा बसते हैं. वहां भी शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से लचर थी. योगी के नेतृत्व में शिक्षा में भी काफी काम किया है. 10 इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी खोली गईं. 51 नए कॉलेज बनाने का काम किया, 80 कॉलेज के बिल्डिंग बनाने का काम किया. अब 40 मेडिकल कॉलेज बने हैं. 771 कस्तूरबा विद्यालय खोले ताकि बच्चियों की शिक्षा को आगे बढ़ाया जा सके. केन-बेतवा लिंक पर काम करने का संकल्प लिया है. यूपी में विकास का नया मॉडल तैयार करके दिया है. 70 हजार किमी सड़क चौड़ीकरण किया है. यूपी में 5 एक्सप्रेस वे बनाने का काम हो रहा है. इनके साथ कई राज्यों को जोड़ने का काम भी कर रहे हैं. यूपी में इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ विकास का काम हो रहा है. यूपी का युवा विकास के साथ जुड़ता है तो बड़ा अच्छा होगा.
  • पंजाब में आपके गठबंधन साथियों के साथ क्या स्थिति होगी?

    पंजाब की स्थिति ज्योतिषी ही बता सकता है. पंजाब में बीजेपी गठबंधन के साथ अच्छी लड़ाई लड़ी है. पंजाब में सुरक्षा एक बहुत बड़ी समस्या है. सीमांत प्रदेश है. मोदी जी को भाषण देने से रोकना बड़ा मुद्दा है. बीजेपी को सफलता मिलेगी, कितनी मिलेगी पता नहीं. मैं अभी भी कहता हूं कि कोई भी सर्वे पंजाब चुनाव की सही स्थिति नहीं बता सकता.
  • चन्नी जी ने आपको एक चिट्ठी लिखी थी जिसका आपने जवाब दिया?

    आम आदमी या केजरीवाल की बात छोड़िए, किसी भी दल की अलगाववादियों के साथ साठगांठ ठीक नहीं है. कोई भी सरकार ऐसी चीजों को हल्के में नहीं ले सकती. हमारी सरकार जरूर इसकी जांच कराएगी. मुख्यमंत्री जब चिट्ठी लिखता है, तो हल्के में लेने का विकल्प नहीं है. बाकी जांच करेंगे.
  • उत्तराखंड में किसकी सरकार बन रही है?

    निश्चित रूप से उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार बन रही है. धामी जी ने बहुत कम समय में अच्छा काम किया है. उत्तराखंड में विकास के मुद्दों पर काम हुए हैं. फिर चाहें वो चार धाम के प्रोजेक्ट्स हों, बिजली के प्रोजेक्ट हों, ढेर सारे काम किए हैं. गरीब कल्याण उत्तराखंड में भी बड़ा मुद्दा है.
  • तीन मुख्यमंत्री बदले, कुछ नेताओं ने छोड़ा, उसका कोई नुकसान?

    इसका नुकसान तो होता ही है. लेकिन बीजेपी ने अच्छा काम किया है, बहुमत मिलेगा. गोवा में हमारा प्रदर्शन अच्छा है. वहां पहले से ज्यादा सीटें आएंगी. मणिपुर में भी बीजेपी अच्छे से लड़ रही है. पांच साल राज्य एक बार भी बंद नहीं हुआ है. पहली बार बाहर के लोग कह रहे हैं कि किसी ने डेवलपमेंट किया है जो बीजेपी ने काम किया है. आतंकवादी घटनाओं को कंट्रोल करने का काम हुआ है. मणिपुर में डेवलपमेंट के काम हुए हैं. पहली बार पहाड़ के लोग तारीफ कर रहे हैं.
  • CAA कब तक लागू करेंगे?

    पिछले इंटरव्यू में भी मैंने कहा था कि कोरोना जब तक पूरी तरह खत्म नहीं हो जाता तब तक वह हमारी प्राथमिकता नहीं है. लेकिन हम CAA को पूरी तरह लागू करेंगे. देश नॉर्मल स्थिति में आ रहा है. लेकिन अब CAA से पीछे हटने का कोई विचार नहीं है. कोरोना के बाद तुरंत CAA पर फैसला करेंगे.
  • यूनिफॉर्म सिविल कोड पर आपका क्या विचार है?

    उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने सिविल कोड को शामिल किया है. उत्तराखंड में सरकार बनने के बाद आगे का फैसला लेंगे. देश में लागू होगा इस पर देशभर में व्यापक चर्चा के बाद फैसला लिया जाएगा.
  • इमरान खान ने कहा कि भारत और पाकिस्तान को बैठकर विवाद सुलझा लेने चाहिए?

    कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, इस पर क्या चर्चा हो सकती है. देश की सरकारों का फैसला है कश्मीर भारत का हिस्सा है.
  • क्या आपको लगता है कि जैसे-जैसे चुनाव आगे बढ़ रहे हैं भाषा की मर्यादा गिर रही है.

    जब कांटे की टक्कर होती है तो इस तरह की चीजें आती हैं. लेकिन सभी को संयम बरतना चाहिए.
  • Tags: Amit shah, Home minister, News 18, Rahul Joshi, UP elections

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें