अपना शहर चुनें

States

Delhi Violence: लोकसभा में बोले अमित शाह- हमने 1100 लोगों की पहचान की, दोषी बचेंगे नहीं

अमित शाह ने दिल्ली हिंसा पर विपक्ष के सवालों का जवाब दिया (स्क्रीनग्रैब, लोकसभा TV)
अमित शाह ने दिल्ली हिंसा पर विपक्ष के सवालों का जवाब दिया (स्क्रीनग्रैब, लोकसभा TV)

अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि 25 फरवरी की रात 11 बजे के बाद से रिकॉर्ड के मुताबिक कोई भी हिंसा (Violence) की घटना नहीं हुई. हालांकि अभी अमित शाह जवाब ही दे रहे थे कि विपक्ष के नेता वॉकआउट (Walk out) कर गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2020, 8:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमित शाह (Amit Shah) ने लोकसभा (Lok Sabha) में दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) पर विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि 25 फरवरी की रात 11 बजे के बाद से रिकॉर्ड के मुताबिक कोई भी हिंसा की घटना नहीं हुई. हालांकि अभी अमित शाह अपना जवाब दे ही रहे थे कि विपक्ष विरोध करते हुए वॉकआउट (Walk out) कर गया.

अमित शाह ने कहा, फेस आइडेंटिटी सॉफ्टवेयर के माध्यम से हमने 1,100 से ज्यादा लोगों का फेस आइडेंटिफाई किया है, उनकी पहचान कर ली गई है. इनको अरेस्ट करने के लिए 40 टीमें बनाई गई हैं, जो दिन-रात लगी हुई हैं. मैं सदन के माध्यम से दिल्ली और देश की जनता को कहना चाहता हूं कि जिन्होंने भी दंगा करने की हिमाकत की है, वो लोग कानून की गिरफ्त से इधर-उधर एक इंच भी भाग नहीं पाएंगे. गृहमंत्री (Home Ministry) ने दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों को श्रृद्धांजलि दी और 36 घंटे के अंदर हिंसा (Violence) को शांत करने में सफल रहने के लिए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की तारीफ भी की.

'300 से ज्यादा लोग यूपी से दिल्ली में हिंसा करने आए थे'
अमित शाह ने संसद में बताया कि घनी आबादी के चलते उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North-East Delhi) में पुलिस और फायर ब्रिगेड की गाड़ियां नहीं जा पाती हैं. उन्होंने कहा कि यह इलाका यूपी के बॉर्डर से भी जुड़ा हुआ है.
उन्होंने कहा कि स्वयं मैंने हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा इसलिए नहीं किया क्योंकि ऐसा करने से पुलिस (police) मेरे साथ-साथ लगी रहती.



गृहमंत्री ने कहा कि 300 से ज्यादा लोग यूपी से उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में हिंसा करने के लिए आए थे. उन्होंने कहा कि 24 तारीख की रात को ही यूपी का बॉर्डर (UP Boarder) सील कर दिया गया था. यह काम सबसे पहले किया गया.

'27 फरवरी से अभी तक 700 लोगों पर दर्ज की गई FIR'
गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि 24 फरवरी को 40, 25 फरवरी को 50 और 26 फरवरी से 80 कंपनियां तैनात उत्तर-पूर्वी दिल्ली में तैनात हैं. अभी तक वे कंपनियां वहीं तैनात हैं.

गृहमंत्री ने बताया कि इस हिंसा में हजारों करोड़ का नुकसान हुआ है. इसके गुनाहगारों को भी पकड़ने की कार्रवाई भी जारी कर दी गई है.

27 फरवरी से आज तक 700 से ज्यादा लोगों पर FIR दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि 2647 लोग गिरफ्तार किए गए हैं. उन्होंने ओवैसी के एक ही समुदाय के 1100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किए जाने की बात का जिक्र करते हुए कहा.

कांग्रेस के नेता कर गए वॉकआउट
गृहमंत्री अभी अपना जवाब पूरा नहीं कर पाए थे कि कांग्रेस के नेता सदन से वॉकआउट कर गए.

इसके बाद भी गृहमंत्री ने अपनी बात जारी रखते हुए अंकित शर्मा की हत्या का जिक्र किया और कहा कि इसका एक वीडियो एक नागरिक ने भेजा है और उसका भेद उसी वीडियो से सामने आने वाला है.

उन्होंने कहा कि फेस आइडेंटिफिकेशन सॉफ्टवेयर के जरिए 1100 लोगों की शिनाख्त की गई है. उन्होंने यह भी कहा है कि इन लोगों की गिरफ्तारी करने के लिए 40 टीमें लगी हुई हैं.

25 फरवरी से ही शुरू हो गई थी शांति कमेटी की बैठकें
गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि पूरी कोशिश नरेन्द्र मोदी सरकार की है कि किसी निर्दोष को कोई सजा न हो. दो टीमें सीरियस अपराधों की जांच भी कर रही हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली हिंसा की फाइनेंसिंग करने वाले तीन लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है.

शांति कमेटी की मीटिंग 25 फरवरी से ही शुरू की जाने की बात गृहमंत्री ने कही.

उन्होंने बताया कि एक षड्यंत्र का मामला भी दर्ज किया गया है क्योंकि इतने कम समय में इतनी बड़ी प्लानिंग नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि दंगों के पीछे गहरी साजिश थी.

उन्होंने शाहीन बाग का जिक्र करते हुए कहा कि यहीं से घटनाओं की शुरुआत हुई.

अधीर रंजन चौधरी ने हिंसा को बताया था इंसानियत की हत्या
इससे पहले लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने दिल्ली में पिछले दिनों भड़की हिंसा को ‘इंसानियत की हार’ बताया और बुधवार को कहा कि सरकार चाहती तो समय रहते दंगों पर काबू कर सकती थी.

चौधरी ने सदन में दिल्ली हिंसा पर चर्चा की शुरूआत करते हुए कहा कि कुछ लोगों ने दावा किया कि हिंदू जीत गये, कुछ ने कहा कि मुस्लिम जीत गये लेकिन सच यह है कि इंसानियत हार गयी.

 

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा पर मीनाक्षी लेखी का विपक्ष को जवाब, बताया-अमित शाह क्या कर रहे थे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज