लाइव टीवी

गोवा, दादरा नगर हवेली, और दमन दीव की स्वतंत्रता का श्रेय अकेले पंडित नेहरू को नहीं दिया जाना चाहिए: शाह

भाषा
Updated: December 5, 2019, 6:58 PM IST
गोवा, दादरा नगर हवेली, और दमन दीव की स्वतंत्रता का श्रेय अकेले पंडित नेहरू को नहीं दिया जाना चाहिए: शाह
गृह मंत्री ने कहा मिजोरम प्रतिनिधिमंडल से

अमित शाह (Amit shah) ने कहा कि गोवा (Goa), दमन और दीव तथा दादरा और नगर हवेली 1954 तक पुर्तगाली शासक सालाजार (Portuguese Ruler Salazar) के अधिपत्य में रहे.

  • Share this:
नई दिल्ली. गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने बुधवार को कहा कि दादरा नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) को 1954 में पुर्तगाली शासन (Portuguese rule) से आजाद कराने में केवल पंडित जवाहरलाल नेहरू (Pandit Jawaharlal Nehru) का योगदान नहीं था.

केंद्रीय गृह मंत्री (Home Minister) ने कहा कि सिर्फ पंडित नेहरू ने इन केंद्रशासित प्रदेशों को आजाद नहीं कराया बल्कि बाबासाहब पुरंदरे, संगीतकार सुधीर फड़के, एक सैनिक स्कूल के मेजर प्रभाकर कुलकर्णी आदि युवाओं (Youths) की भी इसमें बड़ी भूमिका थी जिन्होंने जान की बाजी लगाकर इस केंद्रशासित क्षेत्र (Union Territory) को मुक्त कराया.

1954 तक सरकार ने नहीं की थी कोई कार्रवाई
लोकसभा में दादरा और नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) तथा दमन और दीव (Daman and Diu) के विलय के प्रावधान वाले एक विधेयक पर चर्चा के दौरान तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सौगत राय के बयान पर अमित शाह ने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि गोवा (Goa), दमन और दीव तथा दादरा और नगर हवेली 1954 तक पुर्तगाली शासक सालाजार (Portuguese Ruler Salazar) के अधिपत्य में रहे. तब तक उस समय की सरकार (Government) ने कोई कार्रवाई नहीं की.

बाबा पुरंदरे, सुधीर फड़के और मेजर कुलकर्णी जैसे 25-30 साल के युवाओं ने चलाया था आंदोलन
इसके बाद बाबा साहब पुरंदरे (Babasaheb Purandare), सुधीर फड़के (Sudhir Phadke) और मेजर प्रभाकर कुलकर्णी (Major Prabhakar Kulkarni) जैसे 25 से 30 साल के युवाओं ने आंदोलन चलाया और अपनी जान की बाजी लगाकर दादरा और नगर हवेली को आजाद कराया.
Loading...

उन्होंने कहा कि जब धन की कमी थी तो संगीतकार फड़के ने पुणे में लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का एक कार्यक्रम कराया और उससे प्राप्त धन से आजादी का आंदोलन चलाया. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इसके बाद 1961 में सेना (Indian Army) ने दमन और दीव तथा को स्वतंत्र कराया. उन्होंने कहा कि इसलिए अकेले पंडित नेहरू को इसका श्रेय नहीं दिया जाना चाहिए.



यह भी पढ़ें: अमित शाह बोले- राहुल गांधी ने 2,137 बार सुरक्षा नियमों का उल्लंघन किया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 8:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...