लाइव टीवी

देश में किसी शरणार्थी नीति की जरूरत नहीं, भारत में इसके लिए पर्याप्त कानून: अमित शाह

भाषा
Updated: December 10, 2019, 12:33 AM IST
देश में किसी शरणार्थी नीति की जरूरत नहीं, भारत में इसके लिए पर्याप्त कानून: अमित शाह
अमित शाह ने नागरिकता संशोधन विधेयक पर विपक्ष के सवालों का जवाब दिया (लोकसभा में अमित शाह, LSTV)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि 1947 में पाकिस्तान (Pakistan) में अल्पसंख्यकों (Minorities) की आबादी 23 प्रतिशत थी, जो 2011 में कम होकर 3.7 प्रतिशत रह गयी.

  • भाषा
  • Last Updated: December 10, 2019, 12:33 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 (Citizenship Amendment Bill, 2019) पर लोकसभा में जवाब देते हुए कहा कि यह विधेयक कहीं से भी असंवैधानिक (Unconstitutional) नहीं है और ना ही अनुच्छेद 14 (Article 14) का उल्लंघन करता है.

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि 1947 में पाकिस्तान (Pakistan) में अल्पसंख्यकों की आबादी 23 प्रतिशत थी, जो 2011 में कम होकर 3.7 प्रतिशत रह गई. बांग्लादेश (Bangladesh) में 1947 में अल्पसंख्यकों की आबादी 22 प्रतिशत थी जो 2011 में कम होकर 7.8 प्रतिशत रह गई.

देश को किसी शरणार्थी नीति की जरूरत नहीं:  शाह
अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि भारत में धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं हो रहा है और ना आगे होगा. देश में किसी शरणार्थी नीति (Refugee policy) की जरूरत नहीं है, भारत में शरणार्थियों के संरक्षण के लिए पर्याप्त कानून हैं. इसके साथ ही उन्होंने साफ किया कि देश में रोहिंग्या (Rohingya) को कभी स्वीकार नहीं किया जाएगा.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के प्रधानमंत्री रहते हुए देश में किसी को डरने की जरूरत नहीं है. यह सरकार सभी को सम्मान और सुरक्षा देने के लिए प्रतिबद्ध है.

गृह मंत्री ने कांग्रेस के मुस्लिम लीग और शिवसेना से गठबंधन पर किया तंज
गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर तंज करते हुए कहा कि देश में ऐसी धर्मनिरपेक्ष पार्टी है जिसकी केरल में सहयोगी मुस्लिम लीग (Muslim League) है और महाराष्ट्र में शिवसेना (Shiv Sena) उसकी सहयोगी है.अमित शाह ने लोकसभा में विपक्ष के सवालों पर कहा कि हमें मुसलमानों (Muslims) से कोई नफरत नहीं है. इस देश के किसी मुसलमान का इस विधेयक से कोई वास्ता नहीं है.

'घुसपैठियों को शरण देने वालों को नहीं होने देंगे सफल'
अमित शाह ने एनआरसी विफल होने के विपक्ष के कुछ सदस्यों के विचार पर कहा, ‘मैं फिर से आश्वस्त करना चाहता हूं कि जब हम एनआरसी लेकर आएंगे तो देश में एक भी घुसपैठिया बच नहीं पाएगा.’ शाह ने कहा कि हमारा रुख साफ है कि इस देश में एनआरसी लागू होकर रहेगा. हमारा घोषणा पत्र ही इसकी पृष्ठभूमि है.

शाह ने कहा कि एनआरसी और इस विधेयक में कोई संबंध नहीं है. वोट बैंक के लिए घुसपैठियों को शरण देने की कोशिश करने वालों को हम सफल नहीं होने देंगे. गृह मंत्री ने एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी के बयान पर कहा कि हमें मुसलमानों से कोई नफरत नहीं है. आप भी नफरत पैदा करने की कोशिश मत करना. उन्होंने साफ किया कि इस देश के किसी मुसलमान का इस विधेयक से कोई वास्ता नहीं है.

यह भी पढ़ें: किसी की हिम्मत नहीं कि भारत का बंटवारा कर दे: रविशंकर प्रसाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 11:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर