जिस बंगले में 14 साल रहे अटल, अब उसमें रहने पहुंचे अमित शाह

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 8:01 PM IST
जिस बंगले में 14 साल रहे अटल, अब उसमें रहने पहुंचे अमित शाह
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कृष्ण मेनन मार्ग के नए बंगले में शिफ्ट हो गए हैं (फाइल फोटो)

अमित शाह (Amit Shah) का पहले वाला निवास 11, अकबर रोड; अब संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी (Minister of the Parliamentary Affairs Prahlad Joshi) को दे दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 8:01 PM IST
  • Share this:
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Minister of Home Affairs Amit Shah) मंगलवार को अपने नए निवास में रहने के लिए चले गए. उनका नया निवास नई दिल्ली (New Delhi) में 6A कृष्ण मेनन मार्ग है. यह वही बंगला है, जहां पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee) रहा करते थे.

अमित शाह का पहले वाला निवास 11, अकबर रोड अब संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी (Minister of the Parliamentary Affairs Pralhad Joshi) के सुपुर्द कर दिया गया है.

2004 में चुनाव हारने के बाद इस बंगले में शिफ्ट हुए थे अटल
2004 में सरकार खोने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी इस बंगले में रहने गए थे और वो अपने परिवार के साथ इस बंगले में करीब 14 सालों तक रहे. पिछले साल अगस्त में अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद इस बंगले को उनके परिवार ने नवंबर में खाली कर दिया था.

सूत्रों के मुताबिक, अमित शाह ने जून में इस बंगले का दौरा किया था और इसमें कुछ बदलाव सुझाए थे. जिसके बाद इस बंगले में निर्माण से जुड़े कई बदलाव किए गए. इनके पूरा हो जाने के बाद अब अमित शाह इसमें रहने गए हैं.

बता दें कि जब वाजपेयी, कृष्ण मेनन मार्ग के इस बंगले में रहने गए थे, तो इसका म्युनिसिपल नंबर बदलकर 8 से 6A कर दिया गया था.

मोदी सरकार ने बना दिया था बंगले को स्मारक में न बदलने का नियम
Loading...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के इस बंगले में शिफ्ट होने के एक दशक बाद जब 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व में एनडीए सरकार की वापसी हुई तो यह तय किया गया कि दिल्ली में मौजूद ऐसे किसी भी बंगले को जिसमें कोई नेता रह रहे हों, उनके निधन के बाद स्मारक घोषित नहीं किया जाएगा.

सरकार अटल बिहारी वाजपेयी के लिए पहले ही सदैव अटल नाम के स्मारक का निर्माण कर चुकी है. जो कि राष्ट्रीय स्मृति स्थल के पास मौजूद है. यह एक ऐसा स्थान है, जिसे पूर्व राष्ट्रपति और पूर्व प्रधानमंत्री जैसे गणमान्य व्यक्तियों के अंतिम संस्कार के लिए तय किया गया है.

यह भी पढे़ं: बहरीन के मंदिर में पहुंचा UP का ये पुजारी, PM को दिया प्रसाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 7:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...