• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में होगा देश का पहला सहकारिता सम्मेलन

गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में होगा देश का पहला सहकारिता सम्मेलन

केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह. (फाइल फोटो)

केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह. (फाइल फोटो)

First Mega Cooperatives Meet: देश के पहले राष्ट्रीय सहकारिता सम्मेलन में देशभर की सहकारिता से जुड़े 2000 से अधिक सहकारी नुमाइंदे शामिल होंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. देशभर के सहकारिता समितियों को और मजबूत करने के लिए के केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में सहकारिता मंत्रालय देश का पहला सहकारिता सम्मेलन आयोजित करेगा. इस सम्मेलन में देश भर की सहकारी समितियों से जुड़े लोग और अंतरराष्ट्रीय सहकारिता संगठन के नुमाइंदे मौजूद रहेंगे. इससे जुड़े लोगों को वैश्विक मंच पर लाना और भारत में सहकारी व्यवस्था को ज्यादा से ज्यादा मजबूत करना इस आयोजन का उद्देश्य है.

भारत के पहले सहकारिता मंत्री अमित शाह शनिवार को देशभर की सहकारी संस्थाओं को संबोधित करेंगे. ये देश का  पहला राष्ट्रीय सहकारिता सम्मेलन होगा, जिसमें देशभर की सहकारिता से जुड़े 2000 से अधिक सहकारी नुमाइंदे शामिल होंगे. साथ ही इस सम्मेलन में देश-विदेश से करोड़ों सहकारी जन भी वर्चुअल माध्यम से शामिल होंगे. सम्मेलन से जुड़े आयोजकों का दावा है कि यह  वैश्विक पटल पर भारतीय सहकारिता को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाएगा.

चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब के नए CM के रूप में चुनना राहुल गांधी का साहसिक फैसला: सुनील जाखड़

इफको के निदेशक मनीष गुप्ता के मुताबिक यह एक अहम आयोजन है जिससे सहकारिता समितियों को और ज्यादा सशक्त होने का मौका मिलेगा. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सहकारिता क्षेत्र को सशक्त करने के लिए ‘सहकार से समृद्धि’ के साथ सहकारिता मंत्रालय की स्थापना की है.

PM मोदी से मीटिंग में कमला हैरिस ने लिया पाकिस्तान का नाम, आतंकवाद के खिलाफ जंग में इसके मायने क्या, समझिए

इस मौके पर सहकारिता राज्य मंत्री श्री बी. एल. वर्मा और इंटरनेशनल कोऑपरेटिव एलांयस (ग्लोबल) के अध्यक्ष डॉ. एरियल ग्वार्को भी मौजूद रहेंगे. साथ ही इसमें इफको, भारतीय राष्ट्रीय सहकारी संघ, अमूल, सहकार भारती, नैफेड, कृभको के नुमाइंदे भी शामिल होंगे.

दरसल मोदी सरकार की ये कोशिश है कि देश में सहकारिता आंदोलन  को मज़बूती मिले. उसके लिए एक अलग प्रशासनिक, कानूनी और नीतिगत ढाँचे की जरूरत महसूस हुई जिससे सहकारी समितियों को जमीनी स्तर तक काम करने में मदद मिले. जिसके लिए  ‘ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस’ के लिए प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करने और बहु-राज्य सहकारी समितियों (MSCS) के विकास को सक्षम करने के लिए सहकारिता मंत्रालय का गठन किया गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज