Home /News /nation /

दिल्ली दंगों पर एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में पुलिस पर गंभीर आरोप- मदद मांगने पर बोली 'अब ले लो आजादी'

दिल्ली दंगों पर एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में पुलिस पर गंभीर आरोप- मदद मांगने पर बोली 'अब ले लो आजादी'

मौके पर पहुंचकर पुलिस ने मामला संभाला. (फाइल)

मौके पर पहुंचकर पुलिस ने मामला संभाला. (फाइल)

एमनेस्टी इंटरनेशनल (Amnesty International India) की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि दंगों के दौरान पुलिस ने मानवाधिकारों का उल्लंघन किया. आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने दंगाइयों (Delhi Riots) के साथ हिंसा करने में दिल्ली के पुलिस अधिकारी शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) स्थित उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) में इस साल फरवरी में हुए दंगों (Delhi Riots) पर अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल (Amnesty International India) ने एक रिपोर्ट जारी की है. अपनी स्वतंत्र रिपोर्ट में एमनेस्टी ने गृह मंत्रालय (Home Ministry) के तहत काम करने वाली दिल्ली पुलिस (Delhi Police) पर गंभीर आरोप लगाए. रिपोर्ट में पुलिस द्वारा फोन पर मदद मांगने वालों को इनकार करना, दंगे ना रोकने और उसमें शामिल होना, पीड़ितों को अस्पताल पहुंचने से रोकने और मुस्लिम समुदाय से मारपीट के आरोप लगाए गए हैं.  एनजीओ की रिपोर्ट में हिरासत में यातना देना, प्रदर्शनकारियों पर अत्यधिक बल  प्रयोग करना, शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे जगहों को निशाना बनाने का आरोप लगाया गया है.

    BBC की रिपोर्ट के अनुसार एमनेस्टी के कार्यकारी निदेशक अविनाश कुमार ने कहा कि 'सरकार की ओर से मिले संरक्षण से सिर्फ यही संदेश गया कि कानून लागू करवाने वाले अधिकारी बिना किसी जवाबदेही के ह्यमून राइट्स का वायलेशन कर सकते हैं. मतलब वह खुद अपना कानून चला सकते हैं.' रिपोर्ट में कहा गया है कि इसे जारी करने से पहले संगठन ने दिल्ली पुलिस के जवाब का इंतजार किया लेकिन एक हफ्ते तक कोई जवाब नहीं मिला.

    'आजादी चाहिए थी ना, अब ले लो आजादी'

    Tags: Delhi police, Delhi riots

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर