वैज्ञानिक का दावा - अंटार्कटिका में मिला 40 लाख साल पुराना लकड़ी का टुकड़ा

ड्रिलिंग प्रोजेक्ट 'एनड्रिल' के वैज्ञानिक डॉ. डेविड हारवुड को मिले पत्ती के अवशेष और लकड़ी का टुकड़ा. हारवुड ने कहा, इससे स्पष्ट है कि कभी यह इलाका न सिर्फ गर्म था बल्कि यहां पेड़-पौधे भी थे.

News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 9:02 PM IST
वैज्ञानिक का दावा - अंटार्कटिका में मिला 40 लाख साल पुराना लकड़ी का टुकड़ा
बर्फीले इलाकों की पड़ताल करने वाले कार्यक्रम एनड्रिल के वैज्ञानिक डॉ. डेविड हारवुड ने दावा किया कि उन्होंने अंटार्कटिका के पूर्वी क्षेत्र में शानदार खोज की है.
News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 9:02 PM IST
अंटार्कटिका हमेशा से वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं के लिए जबरदस्त आकर्षक का क्षेत्र रहा है. वैज्ञानिकों का कहना है कि धरती के इस अनछुए इलाके में हजारों रहस्य दबे पड़े हैं. इनके अध्ययन से जलवायु परिवर्तन के कारण पृथ्वी पर होने वाले प्रभावों की सटीक पड़ताल की जा सकती है. अंटार्कटिका ड्रिलिंग प्रोजेक्ट (ANDRIL) के तहत जर्मनी, इटली, न्यूजीलैंड और अमेरिका के शोधकर्ता यहां मौजूद बर्फ, पानी और चट्टानों की 2006 से खाक छान रहे हैं.

'सीक्रेट ऑफ अंटार्कटिका' डाक्यूमेंट्री में दिखाई गई खोज

इसी टीम में बर्फीले इलाकों की पड़ताल करने वाले वैज्ञानिक डेविड हारवुड ने बताया कि उन्होंने पूर्वी क्षेत्र में एक शानदार खोज की है. हारवुड की इस खोज को 'सीक्रेट ऑफ अंटार्कटिका' डाक्यूमेंट्री में दिखाया गया है. डॉक्यूमेंट्री में डेविड बता रहे हैं कि कैसे लकड़ी और पत्तियों को खोजने से बर्फ के इस रेगिस्तान के अतीत के बारे में पता लगाया जा सकता है. डॉक्यूमेंAnGermaट्री का नैरेटर बता रहा है कि 2015 में अंटार्कटिका की तस्वीर बिलकुल जुदा थी.

पूर्वी क्षेत्र था अब से कहीं ज्यादा गर्म, पेड़-पौधे भी थे

इसी दौरान अंटार्कटिका के पूर्वी क्षेत्र और दक्षिणी ध्रुव के नजदीक एनड्रिल के कार्यक्रम के तहत खोज कर रहे डेविड हारवुड को एक पत्ती के अवशेष और एक लकड़ी का टुकड़ा मिला. हारवुड के मुताबिक इससे पता चलता है कि कभी अंटार्कटिका का यह इलाका आज से न केवल ज्यादा गर्म था बल्कि यहां पेड़-पौधे भी थे. डॉक्यूमेंट्री में डॉ. हारवुड दावा कर रहे हैं कि लकड़ी का यह टुकड़ा लाखों साल पुराना है.

एनड्रिल के वैज्ञानिकों ने लकड़ी और पत्ती के मिलने की जगह के नीचे गहराई तक खुदाई की. इसके बाद वहां से बर्फ का एक बड़ा सैंपल लिया ताकि ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाई जा सके. 


वैज्ञानिक का दावा, दक्षिण समुद्र तट पाई जाती है यह लकड़ी
Loading...

डॉ. हारवुड ने दावा किया कि अब यह लकड़ी दक्षिण समुद्री तट पर पाई जाती है. उनका कहना है कि यह टुकड़ा अब तक अवेशष में तब्दील नहीं हुआ है. अगर इसे सुखाया जाए तो इसे सामान्य लकड़ी की तरह जलाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि लकड़ी और पत्ती का एक साथ मिलना शानदार है. यह खोज अंटार्कटिका के लिए वास्तव में अद्भुत है. उन्होंने दावा किया कि यह लकड़ी का टुकड़ा करीब 40 लाख साल पुराना है.

खोज की जगह से वैज्ञानिकों ने निकाला बर्फ का बड़ा टुकड़ा

डॉक्यूमेंट्री यही खत्म नहीं हो जाती है. एनड्रिल के वैज्ञानिकों ने लकड़ी और पत्ती के मिलने की जगह के नीचे गहराई तक खुदाई की. इसके बाद वहां से बर्फ का एक बड़ा सैंपल लिया ताकि दर्शकों को खोज के और नतीजे दिखाए जा सकें. डॉक्यूमेंट्री के नैरेटर ने बताया कि वैज्ञानिकों ने 12 फुट लंबा बर्फ का एक टुकड़ा निकालकर सुरक्षित किया है. शोधकर्ता इसकी पड़ताल करने के लिए प्रयोगशाला ले जाएंगे. जब वे इसे कवर से बाहर निकालेंगे तो बर्फ का यह टुकड़ा एकदम सुरक्षित निकलेगा.

ये भी पढ़ें: 

इमारतें और दूसरे स्ट्रक्चर ढहने से देश में हर दिन हुईं 7 मौतें

बारिश और बाढ़ से आई प्राकृतिक आपदाओं में हर दिन हुई 5 लोगों की मौत
First published: August 2, 2019, 9:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...