ANALYSIS: बीजेपी परिषद की बैठक में गूंजे जय श्रीराम के नारे

मिशन 272 का नारा दिया गया था और बीजेपी को लोकसभा में पूर्ण बहुमत मिला था. इस बार भी इतिहास दोहराने के लिए बीजेपी ने चुनावी बिगुल रामलीला मैदान से ही बजाना वेहतर समझा.

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 11:00 PM IST
ANALYSIS: बीजेपी परिषद की बैठक में गूंजे जय श्रीराम के नारे
अमित शाह
अमिताभ सिन्हा
अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 11:00 PM IST
जय श्रीराम के नारे से पूरा राम लीला मैदान गूंज उठा. बीजेपी के राष्ट्रीय परिषद में जैसे ही पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने राम मंदिर का जिक्र किया तो ऐसा लगा कि मानों कार्यकर्ताओं में जान आ गई हो. अमित शाह ने कहा कि राम मंदिर बन के रहेगा. काफी देर तक जय श्रीराम के नारे लगते रहे तो खुद अमित शाह ने भारत माता की जय का नारा लगाकर कार्यकर्ताओं को चुप कराया. देश भर से आए लगभग 15000 नेता और कार्यकर्ताओं का संदेश साफ था कौन सी धार उनमें जान फूंक सकती है.

दिल्ली के राम लीला मैदान में बीजेपी पूरे चुनावी रंग में थी. नेता इसे अब तक कि सबसे बड़ी कार्यकारिणी बता रहे थे. 2014 के चुनावों के पहले भी इसी राम लीला मैदान में बीजेपी का मंच सजा था. मिशन 272 का नारा दिया गया था और बीजेपी को लोकसभा में पूर्ण बहुमत मिला था. इस बार भी इतिहास दोहराने के लिए बीजेपी ने चुनावी बिगुल रामलीला मैदान से ही बजाना वेहतर समझा.

पीएम मोदी और अमित शाह समेत तमाम नेता मंच पर मौजूद थे. सामने देश भर से आये कार्यकर्ता और पदाधिकारी भी ध्यान से यह सुन रहे थे कि आखिर क्या संदेश लेकर वोटरों के बीच जाना है. अमित शाह ने उन्हें निराश नहीं किया. सवर्णों के आरक्षण से लेकर महागठबन्धन के खतरे पर उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में इस बार 72 से भी ज्यादा लोक सभा सीटें आएंगी. शायद कार्यकर्ताओं को इसी बूस्टर की जरूरत थी. जिन मुद्दों पर भ्रम था उस पर आलाकमान की राय जान कर जनता के बीच जाने में भी अब उन्हें झिझक नहीं होगी.



अक्सर सत्ता पाने के बाद संगठन और कार्यकर्ताओं के बीच दूरियां बढ़ जाती हैं. अब बाकि दिनों में ध्यान कार्यकर्ताओं पर रहेगा ये बात भी आज साफ हो गई. अमित शाह जीत का मंत्र दे रहे हैं तो पीएम मोदी भी कार्यकर्ताओं से मिलने का मौका नहीं छोड़ रहे हैं. अमित शाह के भाषण के बाद चाय का ब्रेक हुआ तो सभी नेता तो निकल पड़े लेकिन पीएम मोदी बहुत देर तक कार्यकर्ताओं के बीच रहे और उनका हाल सुना. साथ ही उन्हें जीत का मंत्र दिया.

शनिवार को पीएम मोदी के भाषण से बैठक का समापन होगा. सूत्र के मुताबिक इसमें बताते हैं कि इसमें भी पीएम कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं. पूरी पार्टी को इंतजार है कि आने वाले दिनों में मोदी की तरकश में कौन-कौन से तीर हैं जो चुनावी नैया पार पर लगाएगा.

तभी तो अमित शाह ने कहा कि 2019 की लड़ाई ऐतिहासिक होगी.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...