बिहार के लौंगी भुइयां ने 30 साल हाथ से पहाड़ काटकर बनाई नहर, अब आनंद महिंद्रा देंगे ये इनाम

बिहार के गया के रहने वाले हैं लौंगी माझी.
बिहार के गया के रहने वाले हैं लौंगी माझी.

बिहार (Bihar) के लौंगी भुइयां मांझी (Laungi Bhuiyan Manjhi) ने 30 साल तक पहाड़ को काटकर नहर बनाई है, ताकि गांवों तक पानी पहुंच सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 6:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. बिहार (Bihar) के लौंगी भुइयां मांझी (Laungi Bhuiyan Manjhi) को अब अधिकांश लोग जानते हैं. उन्‍होंने अपने जीवन के 30 साल ऐसे काम में बिताए हैं, जिससे तीन गांवों के लोगों की मदद हो रही है. दरअसल बिहार के गया के रहने वाले लौंगी माझी ने 30 साल तक पांच किलोमीटर पहाड़ को अकेले काटा और उसे खोदा ताकि पहाड़ व बारिश का पानी नहर के जरिये होता हुआ सीधी गांववालों के खेतों तक जाए. उनके इस काम से गांववालों की किस्‍मत पलटी है. अब उनकी कहानी सामने आने के बाद कई लोगों ने उनके लिए मदद का हाथ बढ़ाया है. इनमें महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) भी हैं.

आनंद महिंद्रा ने लौंगी माझी को एक ट्रैक्‍टर देने की घोषणा की है. लौंगी के बारे में बताएं तो उन्‍होंने 30 साल तक बेहद कड़ी मेहनत करके पहाड़ काटा और उसपर नहर बना दी. उन्‍होंने यह पहले ही ठान लिया था कि वह एक दिन नहर के जरिये पानी को खेतों तक लाएंगे. वह रोज इसके लिए जंगल जाते रहे. वह गया के कोठिलवा गांव के रहने वाले हैं. पहले उनके परिवारवालों ने उन्‍हें ऐसा करने से खूब मना किया. लेकिन फिर भी वह नहीं माने थे.






हाल ही में ट्विटर पर एक यूजर रोहिन कुमार ने लौंगी माझी की एक फोटो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा कि गया के लौंगी मांझी ने अपनी जिंदगी के 30 साल लगाकर नहर खोद दी. उन्हें अभी भी कुछ नहीं चाहिए, सिवा एक ट्रैक्टर के. उन्होंने मुझसे कहा है कि अगर उन्हें एक ट्रैक्टर मिल जाए तो उनको बड़ी मदद हो जाएगी. आनंद महिंद्रा को इस व्‍यक्ति का सम्‍मान करने में गर्व महसूस हो सकता है.

इसके इस ट्वीट का आनंद महिंद्रा ने संज्ञान लिया. आनंद महिंद्रा ने इसके बाद ट्वीट कर कहा, 'उनको ट्रैक्‍टर देना मेरा सौभाग्‍य होगा. जैसा कि आप जानते हैं कि मैंने पहले ट्वीट के जरिये कहा था कि यह नहर ताजमहल और पिरामिड की तरह ही ऐतिहासिक है. हम इसे अपना सौभाग्‍य मानेंगे कि वह हमारा ट्रैक्‍टर इस्‍तेमाल करें. रोहिन कुमार हमारी टीम उन तक कैसे पहुंच सकती है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज