लाइव टीवी

'पीएम नरेंद्र मोदी के प्रयास से मिली चोरी हुई प्राचीन मूर्ति'

भाषा
Updated: November 13, 2019, 6:32 AM IST
'पीएम नरेंद्र मोदी के प्रयास से मिली चोरी हुई प्राचीन मूर्ति'
राज्य सरकार से सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया है कि वह विशेष अधिकारी को सभी फाइलें सरकार को वापस करने का निर्देश दे क्यों उनका कार्यकाल समाप्त होने वाला है और मामले की सुनवाई 18 नवंबर को संभव है.

राज्य सरकार से सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया है कि वह विशेष अधिकारी को सभी फाइलें सरकार को वापस करने का निर्देश दे क्यों उनका कार्यकाल समाप्त होने वाला है और मामले की सुनवाई 18 नवंबर को संभव है.

  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil nadu)सरकार ने मंगलवार को मद्रास हाईकोर्ट (Madras Highcourt) को बताया कि चोरी हुई प्राचीन मूर्ति प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के प्रयासों के कारण ऑस्ट्रेलिया से से वापस लायी जा सकी है नाकि विशेष पुलिस अधिकारी पोन मनिकवेल के कारण.

यह मुद्दा मनिकवेल की ओर से दायर अवमानना याचिका से जुड़ा हुआ है, जिसमें तत्कालीन मुख्य सचिव गिरिजा वैद्यनाथन और पूर्व डीजीपी टी के राजेंद्रन के खिलाफ मूर्ति चोरी के मामलों में अदालत के एक आदेश की जानबूझकर अवज्ञा करने के लिए कार्रवाई किये जाने का अनुरोध किया गया है.

मूर्ति चोरी के मामलों में राज्य सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पैरवी करने वाले अतिरिक्त महाधिवक्ता बालाजी श्रीनिवासन ने बताया कि ‘यूरेनियम खरीदी वार्ता के सिलसिले में ऑस्ट्रेलिया दौरे के वक्त ही प्रधानमंत्री ने वहां की सरकार से अनुरोध किया गया था कि वह इस तरह से चोरी का लाई गई भारतीय प्राचीन वस्तुओं को वापस करे.’

अगली सुनवाई के लिए 20 नवंबर की तारीख

उन्होंने पीठ के समक्ष कहा, ‘केवल ऐसे अनुरोध के कारण ऑस्ट्रेलिया ने एक प्राचीन नटराजार मूर्ति सितंबर में वापस की. लेकिन मनिकवेल ने मीडिया के समक्ष गलत तरीके से दावा किया कि यह उनके प्रयासों के कारण वापस की गई थी.’

याचिका पर सुनवाई के दौरान पुलिस की मूर्ति शाखा और राज्य की ओर से पेश हुए श्रीनिवासन ने कहा कि अवमानना की याचिका में गुण नहीं है क्योंकि इस समस्या के निपटने के लिए सुप्रीम कोर्ट ही उचित मंच है. सभी दलालें सुनने के बाद पीठ ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 20 नवंबर की तारीख तय की है.

यह भी पढ़ें:  CM योगी बोले- करतारपुर के बाद ननकाना साहिब जाने में भी होंगे सफल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 5:21 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर