आंध्र प्रदेशः दो हफ्ते में 8 लाख मतदाताओं ने वोटर लिस्‍ट से नाम हटाने के लिए किया आवेदन

News18Hindi
Updated: March 6, 2019, 8:17 PM IST
आंध्र प्रदेशः दो हफ्ते में 8 लाख मतदाताओं ने वोटर लिस्‍ट से नाम हटाने के लिए किया आवेदन
प्रतीकात्मक तस्वीर

राज्‍य के मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त गोपाल कृष्ण द्विवेदी ने बताया कि केवल फॉर्म-7 के जरिए आवेदन करने भर से वोटर लिस्‍ट से नाम नहीं हटाया जा सकता है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही वोटर लिस्‍ट से जुड़ी शिकायतें भी बढ़ गई हैं. आंध्र प्रदेश के मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त के पास आठ लाख मतदाताओं ने वोटर लिस्‍ट से नाम हटाने के लिए आदेवन किया है. बताया जाता है कि इनमें से दो लाख फर्जी आवेदन किए गए हैं. मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त ने कहा है कि अभी भी छह लाख मतदाताओं के नाम वोटर लिस्‍ट से हटाए नहीं गए हैं. इन सभी वोटरों की सही जानकारी जुटाने का प्रयास किया जा रहा है.

राज्‍य के मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त गोपाल कृष्ण द्विवेदी ने बताया कि वोटर लिस्‍ट से नाम काटने को जो आवेदन आए हैं उनमें से ज्‍यादातर ऑनलाइन आवेदन के लिए भरे जाने वाले फॉर्म 7 के जरिए भेजे गए हैं. इस मामले की जानकारी राज्‍य चुनाव आयोग ने पुलिस से की है. राज्‍यभर के विभिन्‍न जिलों में दो सौ से अधिक प्राथमिकी दर्ज की गई है.

यह भी पढ़े: राफेल पर कांग्रेस का दावा - मोदी सरकार ने देश के खजाने को चूना लगाया

राज्‍य के मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त गोपाल कृष्ण द्विवेदी ने बताया कि केवल फॉर्म-7 के जरिए आवेदन करने भर से वोटर लिस्‍ट से नाम नहीं हटाया जा सकता है. इसके लिए बाकायदा तीन स्‍तर पर इसकी सत्‍यता की जांच होती है. सभी जरूरी कागजी कार्रवाई करने के बाद ही किसी वोटर का नाम मतदाता सूची से हटाया जाता है. हमने इस संबंध में पुलिस को जानकारी दे दी है. वह पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि किस आईपी एड्रेस से ये आवेदन किए गए हैं. गुंटूर और चित्तूर जो मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का निर्वाचन क्षेत्र हैं. वहां से भारी संख्‍या में वोट लिस्‍ट से नाम हटाने के लिए आवेदन किए गए हैं.

यह भी पढ़े: कर्नाटक : राहुल और गौड़ा के बीच हुई मुलाकात, JDS ने मांगी 10 लोकसभा सीटें

राज्‍य चुनाव आयुक्‍त ने बताया कि जो दो लाख फर्जी आवेदन मिले हैं उनमें कई तो अब जिंदा नहीं, कई अनपढ़ हैं जो फॉर्म-7 भर तक नहीं सकते और कुछ ऐसे इलाकों से हैं जहां ऑनलाइन फॉर्म भरने की सुविधा ही नहीं है. उन्‍होंने बताया कि पहले दिन मतदाता सूची से नाम हटाने के लिए 50 से 60 हजार आवेदन आए थे. इस संबंध में जब प्राथमिकी दर्ज की गई तो इनकी संख्‍या घटकर एक हजार ही रह गई.

यह भी पढ़े: घुसपैठ रोकने के लिए मोदी सरकार का मास्टर प्लान, बॉर्डर पर जवानों को मिलने वाली है बड़ी राहत
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 6, 2019, 4:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...