तिरंगे का सपना पूरा करने के लिए इस शख्स ने बेच दिया अपना घर

बिना जोड़ और सिलाई के तिरंगा बनाने के अपने सपने को पूरा करने के लिए बुनकर आर सत्यनारायण को 6.5 लाख रुपयों की ज़रूरत थी जिसके लिए उन्होंने अपना घर तक बेच दिया.

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 10:18 AM IST
तिरंगे का सपना पूरा करने के लिए इस शख्स ने बेच दिया अपना घर
तिरंगे का सपने को पूरा करने के लिए शख्स ने बेचा डाला अपना पुश्तैनी मकान (image credit: News18)
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 10:18 AM IST
आंध्र प्रदेश के वेमावरम गांव के हथकरघा बुनकर आर सत्यनारायण का एक सपना था कि वो ऐसा तिरंगा बनाएं जिसमें कोई जोड़ या सिलाई ना हो. अपने इस सपने को पूरा करने के लिए उन्हें 6.5 लाख रुपयों की ज़रूरत थी जिसके लिए उन्होंने अपना घर तक बेच दिया.

8/12 फीट का ये राष्ट्रीय तिरंगा अपने आप में एक अलग किस्म का प्रयोग है. उनका दावा है कि इस तरह का झंडा देश में कहीं उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि तिरंगा बनाने के लिए केसरिया, सफेद और हरे रंग की खादी के पट्टे आमतौर पर एक साथ सिले जाते हैं. सत्यनारायण का सपना है कि उनका ये तिरंगा लाल किले पर फहराया जाए.



हाल ही में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब विशाखापट्टनम का दौरा किया तो सत्यनारायण ने ये तिरंगा उन्हें भेंट स्वरूप दिया. हालांकि उन्हें प्रधानमंत्री को इसकी खासियत बताने का मौका नहीं मिला. सत्यनारायण को ये तिरंगा बनाने में चार साल का वक्त लगा और इसके लिए उन्होंने अपना पैतृक मकान तक बेच डाला.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार